खरगोन दंगे का मुख्य आरोपी गिरफ्तार:जिले से आरोपी समीरउल्ला गिरफ्तार हुआ, रासुका लगाकर इंदौर जेल भेजा

खरगोन2 महीने पहले

खरगोन शहर में 10 अप्रैल रामनवमी पर हुए साम्प्रदायिक दंगे में मुख्य भूमिका निभाने वाला आरोपी समीर उल्ला पिता नसरुल्ला को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। गिरफ्तारी के बाद कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम ने पुलिस अधीक्षक धर्मवीर सिंह के प्रतिवेदन के आधार पर राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम के तहत कार्रवाई की गई है।

पुलिस अधीक्षक सिंह ने बताया कि समीर उल्ला पर पुलिस द्वारा 10 हजार रुपए का इनाम घोषित किया गया था। जिले की सीमा खलटाका-बालसमुंद से पुलिस की विशेष टीम द्वारा रविवार को उसे गिरफ्तार कर लिया गया। समीर उल्ला पिता नसरुल्ला की आपराधिक पृष्ठभूमि को लेकर पुलिस अधीक्षक सिंह ने कलेक्टर को प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। जिसमें बताया गया है कि खरगोन के मोहन टॉकीज क्षेत्र के कुम्हारवाड़ा का निवासी अपने साथियों को संगमत होकर वर्ष 2016 से आपराधिक घटनाएं कर आमजनों को जान व माल का नुकसान पहुंचा रहा है। अपराधी अपने साथियों के साथ हर समय साम्प्रदायिक तनाव फैलाने के लिए तत्पर रहता है।

अपराधी ने 9 संज्ञेय और 2 असंज्ञेय आपराधिक वारदातों को दिया अंजाम

पुलिस अधीक्षक द्वारा प्रस्तुत प्रतिवेदन में बताया गया है कि अनावेदक द्वारा गत वर्षों में 9 संज्ञेय और 2 असंज्ञेय आपराधिक वारदातों को अंजाम दे चुका है। इसका सबसे ताजा उदारहण 10 अप्रैल को रामनवमी के जुलूस के दौरान उपजे साम्प्रदायिक विवाद में मुख्य भूमिका रही है। समीर उल्ला ने इस दौरान विशेष वर्ग के लोगों को एकत्रित कर आम निर्दोष लोगों के ऊपर पत्थर बरसाए। जिससे शहर में तनाव का माहौल बना। साथ आमजनों की संपत्ति को नुकसान पहुंचाकर आगजनी की गई।

खरगोन पुलिस थाने की गुंडा लिस्ट में शामिल

समीर उल्ला खरगोन पुलिस थाने में गुंडा लिस्ट में भी शामिल है। इसके खिलाफ समुचित प्रतिबंधात्मक कार्रवाई की गई है। समीर को 13 अक्टूबर 2021 को जिलाबदर किया गया था। इसके बावजूद भी आपराधिक गतिविधियों पर कोई सुधार नहीं हुआ। इसके अलावा कई प्रकरण इन पर दर्ज है। कलेक्टर कुमार ने एसपी के प्रतिवेदन के आधार पर राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम के अंतर्गत कार्रवाई करते हुए समीर उल्ला को 3 माह के लिए केंद्रीय जेल इंदौर में रखने के आदेश जारी किए है।