7 साल पुराने मामले में न्यायालय ने सुनाई सजा:10 हजार रिश्वत मांगी, 4 साल की सजा और 15 हजार लगाया जुर्माना

खरगोन2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

वर्ष 2015 में आवास योजना के तहत आवेदक को दूसरी किश्त देने के नाम पर 10 हजार की रिश्वत मांगने वाले बड़वाह जनपद के सहायक विस्तार अधिकारी को न्यायालय ने 4 साल के सश्रम कारावास व 15 हजार रुपए के जुर्माने की सजा दी है। मंडलेश्वर के सहायक जिला लोक अभियोजन अधिकारी प्रकाश सोलंकी ने बताया आवेदक दिनेश पिता रामेश्वर दांगी को मुख्यमंत्री ग्रामीण आवास मिशन के अंतर्गत आवास स्वीकृत हुआ था।

20 हजार रुपए की प्रथम किश्त आवेदक के खाते में डाली गई थी। 40 हजार रुपए की दूसरी किश्त डालने के लिए जनपद पंचायत बड़वाह के सहायक विस्तार अधिकारी चंदुलाल किवे ने आवेदक दिनेश से 10 हजार रुपए की मांग की। इस पर आवेदक दिनेश ने 14 अक्टूबर 2015 को लोकायुक्त इंदौर में शिकायत की। 16 अक्टूबर 2015 काे लोकायुक्त टीम ने आरोपी चंदुलाल किवे को 10 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा था।

मामले में अनुसंधान अधिकारी एसपीएस राघव ने अनुसंधान कर अभियोग पत्र मंडलेश्वर न्यायालय पेश किया था। विशेष न्यायालय मंडलेश्वर द्वारा आरोपी चंदुलाल किवे को 4 साल सश्रम कारावास व 15 हजार के अर्थदंड से दंडित किया है। मामले में पैरवी विशेष लोक अभियोजक प्रकाश सोलंकी ने की।

खबरें और भी हैं...