• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Khargone
  • God's Grace Is Definitely On The Devotees Of God, In The Churning Of The Ocean, Poison Also Came Out And Nectar Too.

खरगोन में श्रीमद्भागवत कथा का आयोजन:भगवद भक्तों पर ईश्वरीय अनुकम्पा अवश्य, समुद्र मंथन में विष भी निकला व अमृत भी

खरगोन2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

दाता हनुमान बस्ती नूतन नगर में चल रही श्रीमद्भागवत कथा में आज समुद्र मंथन, वामन अवतार,मां गंगा के धरती पर अवतरण व भगवान श्रीरामजी के रामराज का प्रसंग सुनाया गया। समुद्र मंथन में विष भी निकला व अमृत भी। इस संसार रूपी जीवन मंथन में भी विष भी मिलता है व अमृत भी। इसलिए प्रत्येक मनुष्य को संसार रूपी समुद्र मंथन में प्रत्येक परिस्थिति के लिए तैयार रहना चाहिए।

वामन अवतार में भगवान ने राजा बलि से तीन पग धरती मांगी, वचन भंग होने की दशा सामने देखकर तीसरा पग अपने सिर पर रखवाकर असुरराजा बलि ने भगवान को प्रसन्न कर लिया। आज भी 4 माह भगवान, राजा बलि के यहां निवास करते हैं। रामराज के बारे में बताया कि ऐसा राज जिसमें पूरा समाज स्वतंत्रता से अपने कर्म धर्म का निर्वाह कर मनुष्य जीवन को सफल करे। जो जैसी दृष्टि रखता है, संसार उसे वैसा ही दिखता है। भयभीत व्यक्ति दुसरों को भी भयभीत करता है। जियो ओर जीने दो का सिद्धांत सर्वकालिक है। इसी में मानवता का भला है। कल 8 मई को श्रीकृष्ण जन्मोत्सव मनाया जाएगा। संगीतमय भागवत कथा के दौरान मातृ पितृ पूजन कार्यक्रम का आयोजन भी हुआ।