• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Khargone
  • Khargone Girl Rape Case | Madhya Pradesh 11 Year Old HIV Victim Girl Raped In Madhya Pradesh Maheshwar

11 साल की HIV पीड़िता से रेप, गुप्तांग फटे:खरगोन में ऑपरेशन से पेट में छेद करना पड़ा; अब इलाज के पैसे भी नहीं

खरगोन2 महीने पहले

खरगोन जिले के महेश्वर में 11 साल की HIV पीड़िता बच्ची से रेप का मामला सामने आया है। वारदात के बाद बच्ची तिल-तिल कर जीने को मजबूर है। परिजन पर भी पहले ही मुसीबतें कम नहीं थी। वारदात के बाद अब तो समस्याएं और बढ़ गईं। पीड़िता के गुप्तांग फट गए। ऑपरेशन हुआ। मल के लिए पेट में छेद किया। दर्द से कराहती बेटी को परिजन पिछले दिनों ही इंदौर ले गए। यहां भर्ती तो किया है, लेकिन इलाज के लिए रुपए नहीं है। परिजन ने कहा कि न मामा (मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान) ध्यान दे रहे हैं और न ही जनप्रतिनिधि। अब मकान बेचकर ऑपरेशन कराना पड़ेगा। मदद में केवल कलेक्टर ने 50 हजार रुपए दिए हैं।

12 मार्च को दोपहर में बच्ची घर पर अकेली थी। इसी दौरान आरोपी दीपक यादव (34) ने घर पहुंचकर दुष्कर्म किया। किसी को न बताने के लिए जान से मारने की धमकी दी। परिजन आए तो पीड़िता ने आपबीती बताई। पीड़िता के गुप्तांग फट गए। खून बहने लगा। परिजन ने पुलिस में शिकायत की। पुलिस ने केस दबाने के लिए धमकी दी, कहा कि समझौता कर लो। आखिरकार केस दर्ज हुआ। आरोपी जेल गया। पीड़िता का इलाज नहीं किया गया।

कलेक्टर की मदद के बाद हुआ ऑपरेशन
एक महीने पहले कलेक्टर अनुग्रहा पी तक बात पहुंची, तो उन्होंने 50 हजार रुपए दिए और इंदौर में पीड़िता का ऑपरेशन हुआ। पिछले दिनों पीड़िता को पेट में ज्यादा दर्द हुआ, तो उसे एमवाय अस्पताल में परिजन ले गए। यहां अब तक न इलाज हुआ है न ही मदद मिली है। डॉक्टरों का कहना है कि एम्स या निजी अस्पताल में बड़ा ऑपरेशन होगा। इसमें काफी खर्च होगा।

माता-पिता भी HIV पीड़ित
माता-पिता ने बताया कि वह खुद एचआईवी पीड़ित है। दो बेटियां हैं। बड़ी बेटी भी पीड़ित है। उसके ऑपरेशन के बाद उसे फल व जूस दे रहे हैं। रोजाना 200 रुपए खर्च होते हैं। इसके अलावा 200 रुपए दवाइयों के खर्च होते हैं। मजदूरी जाए या फिर जूस व दवाइयां खरीदें या इलाज कराएं। परिजनों ने बताया कि हर जनप्रतिनिधि से अफसरों तक गुहार लगा चुके हैं, लेकिन मदद नहीं मिली।

रोते हुए पिता बोले- मकान बेचकर कराएंगे इलाज
पिता ने बताया कि इलाज के लिए एकमात्र रास्ता है मकान बेचना है। वह मकान बेचकर इलाज कराएंगे। लोग कहते तो हैं कि मदद करेंगे, लेकिन कोई नहीं करता है। अब तक किसी ने कुछ मदद नहीं की है।