जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक प्रबंधकों की बैठक:ऋण प्रकरणों में सख्ती से कार्रवाई करने के निर्देश

खरगोन5 महीने पहले

खरगोन जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक मर्यादित में शनिवार को खरगोन और बड़वानी जिले के 69 शाखा प्रबंधकों की समीक्षा बैठक हुई। बैठक में सहकारी संस्था के संयुक्त पंजीयक, बैंक प्रशासक जगदीश कनौज भी शामिल हुए। उन्होंने शाखा प्रबंधकों से चर्चा करते हुए उनके कार्यों की समीक्षा की। इसके साथ ही उन्होंने अकृषि ऋण और कालातीत हो चुके ऋण प्रकरणों में सख्ती से वसूली के निर्देश दिए हैं।

इसके साथ ही खरगोन और भीकनगांव के शाखा और संस्था प्रबंधकों की समीक्षा बैठक आयोजित हुई। समीक्षा के दौरान कृषि योजनाओं में वितरित ऋण जो कालातीत हो चुके है। एनपीए में वर्गीकृत है ऐसे प्रकरणों में वसूली की प्रभावी कार्रवाई करते हुए बंधक संपत्ति की जब्ती, कुर्की कर नीलामी के निर्देश दिए गए। बैंक के प्रबंध संचालक राजेन्द्र आचार्य ने कहा कि शाखा प्रबंधकों एवं संस्था प्रबंधकों को निर्देशित किया कि भारतीय रिर्जव बैंक एवं नाबार्ड द्वारा बढ़ते हुए एनपीए को लेकर चिंता व्यक्त की जा रही है।

इसी दिशा में बैंक और संस्थाओं द्वारा अकृषि ऋण योजनाओं में वितरित ऋण जो कालातीत हो चुके है। ऐसे प्रकरणों में सहकारी अधिनियम 1960 की धारा 64 और 85 में प्राप्त निष्पादन में प्रभावी कार्रवाई शुरु करने के निर्देश दिए। इसके साथ ही स्पष्ट किया कि प्रकरणों में बंधक संपत्ति की जब्ती, कुर्की करते हुए नीलामी की कार्रवाई की जाए। अन्य प्रकरण जिनमें ऋण के विरूद्व बंधक संपत्ति के पजेशन की कार्रवाई अभी तक नहीं हुई है। उनमें पजेशन की कार्रवाई तत्काल की जाए ताकि नीलामी की कार्रवाई की जा सके। जिन ऋण प्रकरणों हितग्राही द्वारा चेक प्रस्तुत किए गए है। चेक बाउंस होने पर परक्राम्य लिखत अधिनियम की धारा-138 के तहत न्यायालयीन कार्रवाई के लिए प्रकरण प्रस्तुत किए जाए। बैंठक में अनिल कानूनगो प्रबंधक योजना और विकास बैंक भी उपस्थित रहें।