भगवानपुरा के मदनी खुर्द की घटना:मतदान करने आए मजदूर दंपती ने रात में पी शराब, सुबह मृत मिले

खरगोनएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भगवानपुरा के मदनी खुर्द की घटना, गुजरात में मजदूरी करते थे रविवार रात भगवानपुरा ब्लॉक के ग्राम मदनी खुर्द में अत्यधिक शराब पीने से मजदूर दंपती की मौत हो गई। इस गांव के रेमसिंह पिता चुनिया वास्कर (40) व उसकी पत्नी ममता (35) पंचायत चुनाव में मतदान के लिए गुजरात से लौटे थे।

गुजरात में प्रतिबंध होने से शराब नहीं मिलती है। जबकि यह दोनों शराब के आदी थे। जिस मकान में सोमवार सुबह इनके शव देखे गए वहां शराब के 9 खाली क्वार्टर मिले हैं। रविवार शाम शराब पीने के दौरान इन्हें घबराहट हुई ठंडा पानी पिलाया। स्थानीय डॉक्टर को दिखाने पर जिला अस्पताल की सलाह दी थी लेकिन दोनों नहीं आए।

मृतक के भतीजे रविंद्र वास्कर के मुताबिक काका रेमसिंह व काकी ममता 23 जून को गोंडल (गुजरात) से आए थे। परिवार से मिलने के बाद रविवार शाम यह गांव में स्थित ससुराल चले गए। खाना खाया और सो गए। रेमसिंह के साड़ू लेदा मेहता के पिता नरसिंह मेहता (73) का निधन हो गया था। क्रियाकर्म के लिए लेदा मदद मांगने सोमवार सुबह ससुराल पहुंचा।

दरवाजा खोला तो रेमसिंह जमीन व ममता खटिया पर सोई दिखी। जगाने का प्रयास किया। नहीं उठने पर पुलिस को सूचना दी। मृतक दंपती के 3 लड़के हैं। एसडीओपी संजू चौहान व फॉरेंसिक टीम ने मौके पर पहुंचकर साक्ष्य जुटाए। मजदूरी करने गुजरात गए कई परिवारों की शराब छूट गई है। मजदूर जब भी अपने क्षेत्र में आते हैं त्योहार की तरह खूब पीते है।

ससुराल पक्ष का कहना है अत्यधिक शराब पीने से मौत होना लग रहा है। मेडिकल ऑफिसर डॉ. धीरज बामनिया ने शरीर में अल्कोहल होने की पुष्टि की है। अधिक शराब पीने के बाद दंपती की मौत के मामले में यह भी पता लगाया जा रहा है कि वह शराब कहां से लाए थे। जानकारी अनुसार घटनास्थल से कुछ दूरी पर है एक दंपती अवैध रूप से शराब बेचते हैं, जो घटना के बाद से गायब हैं।

इनकी खोजबीन की जा रही है। एसपी धर्मवीर सिंह यादव ने बताया कि प्राथमिक रूप से यह सामने आ रहा है कि दंपती ने अत्यधिक शराब पी रखी थी। अन्य बिंदुओं पर विवेचना जारी है।

पंचायत चुनाव में मतदान के लिए आए पति-पत्नी सोमवार सुबह मृत मिले हैं। परिजनों के मुताबिक दोनों शराब के आदी थे। 9 खाली क्वार्टर मिले हैं। रविवार तबीयत बिगड़ने पर इलाज करवाया था। खरगोन की सलाह के बाद भी नहीं गए। मामले की जांच की जा रही है।
- संजू चौहान, एसडीओपी भीकनगांव

खबरें और भी हैं...