समाज की भूमिका दायित्व पर हुआ आयोजन:नई शिक्षा नीति पाठ्यक्रम में शामिल होगा जल संरक्षण विषय : कृषि मंत्री

खरगोनएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में औसत से ज्यादा बारिश होने के बाद अब जल संरक्षण व प्रबंधन की कवायद शुरू हो गई है। इसके चलते रविवार को मप्र स्थापना दिवस समारोह की श्रंृखला में पीजी कॉलेज में जल सरंक्षण केंद्रित जागरुकता कार्यक्रम के तहत जल संरक्षण व जल प्रबंधन में समाज की भूमिका और दायित्व विषय पर सेमिनार हुआ। प्रभारी मंत्री कमल पटेल वर्चुली रूप से जुड़े। उन्होंने कहा मार्च-अप्रैल में हम पानी की चिंता करते हैं, लेकिन इस चिंता को अभी से शुरू करना होगा। सभी नदी नालों पर स्टाप या चेक डेम बनाकर भी पानी को रोक सकते हैं।

ताकि घर का पानी घर, गांव का पानी गांव और खेत का पानी खेत में ही रहे। इसके अलावा जल स्त्रोतों के आसपास सोख्ता गड्ढे बनेंगे। इसमें जल संरक्षण होगा। अ मंत्री ने कहा पहले बड़ी कक्षाओं जल संरक्षण की समझ आती थी, लेकिन इसे प्राथमिक रूप से जोड़ेंंगे। नई शिक्षा नीति में जल संरक्षण विषय पर पाठ्यक्रम रखा जाएगा। इसमें प्राथमिक व माध्यमिक शालाओं में विद्यार्थियों को जल संरक्षण के लिए जागरूक किया जाएगा। एनवीडीए कार्यपालन यंत्री एमएस परस्ते, जल संसाधन कार्यपालन यंत्री पीके ब्राम्हणे, जन अभियान परिषद के जिला समन्वयक विजय शर्मा, प्राध्यापक विनोद पटेल, प्राध्यापक संजय कोचक आदि ने संबोधित किया।

खबरें और भी हैं...