पोषण आहार संयंत्र से निकाले मजदूरों का प्रदर्शन:पुनः काम पर रखने की कर रहे मांग, पीड़ित बोले- हमारी नहीं हो रही सुनवाई

मंडला11 दिन पहले

रसैयादाना खुडिया में स्थापित पोषण आहार संयंत्र से निकाले गए मजदूर पिछले एक वर्ष से काम पर पुनः रखे जाने की मांग को लेकर दर-दर भटक रहे हैं। उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। बुधवार को वे जनपद अध्यक्ष संतोष सोनू भल्लावी के साथ कलेक्ट्रेट पहुंचे। सभी मजदूरों को संयंत्र में दोबारा काम दिलाने की मांग को लेकर कर मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा।

दर-दर भटक रहे मजदूर

मजदूरों का कहना है कि हम 75 मजदूर और पैकिंग ऑपरेटरों की ओर से पोषण आहार सयंत्र में वर्ष 2019 से कार्य किया जा रहा था। लेकिन ठेकेदारी प्रथा होने के कारण फरवरी 2022 में सभी श्रमिकों को बाहर कर उन्हें बेरोजगार कर दिया। उनका कहना है कि हम सभी मजदूर का भरण पोषण नहीं हो पा रहा है और हम अपनी परिवार की आजीविका को नहीं चला पा रहे है। हम सभी मजदूर दर-दर भटक रहे हैं।

श्रम विभाग का समझौता भी किया दरकिनार

उन्होंने बताया कि पिछले एक वर्ष से उन्होंने बार-बार जिला प्रशासन, प्रभारी मंत्री को ज्ञापन सौंप कर पुनः काम में रखने की मांग की जाती रही है। साथ ही मार्च 2022 में श्रम विभाग में हुई बैठक के बाद मजदूरों और संयंत्र प्रबंधन के बीच ठेकेदार और सरपंच की उपस्थिति में मजदूरों को काम में वापस लिए जाने का समझौता हुआ था।

लेकिन संयंत्र के अधिकारी ने समझौते की बात भी नहीं मानी। उन्होंने मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंप कर जल्द समस्या का निराकरण कर सभी मजदूरों को दोबारा काम दिलाने की मांग की है। इस दौरान जनपद अध्यक्ष संतोष सोनू भल्लावी, महाकौशल मजदूर कांग्रेस जिला अध्यक्ष महेंद्र चंद्रोल सहित बड़ी संख्या में मजदूर शामिल रहे।

खबरें और भी हैं...