अधिकारी बोले : राशि स्वीकृत, जल्द ही शुरू होगा काम:कक्ष जर्जर होने के चलते बाहर पढ़ने को मजबूर नौनिहाल

भानपुरा6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
इस तरह बाहर परिसर में पढ़ रहे बच्चे। - Dainik Bhaskar
इस तरह बाहर परिसर में पढ़ रहे बच्चे।

नगर से 17 किमी दूर स्थित गांव पिपल्दा में स्कूल भवन जर्जर होने के चलते नौनिहाल खुले में बैठकर पढ़ाई करने को मजबूर हैं। ग्रामीणों का कहना है कि 2019 में बाढ़ के दौरान स्कूल भवन जर्जर होना शुरू हो गया था। अभी प्लास्टर गिरने लगा हैं। साथ ही छत व दीवारें जर्जर हो गई हैं। अधिकारियों का कहना है भवन के संबंध में राशि स्वीकृत हो गई हैं। अगले माह तक राशि मिलने की संभावना है। इसके अलावा चयनित स्कूलों के अंतर्गत इस स्कूल काे अन्य मद में राशि प्रदान की जाएगी।

शासकीय एकीकृत माध्यमिक विद्यालय पीपल्दा में कुल 200 विद्यार्थी अध्ययनरत हैं। जानकारी के अनुसार स्कूल में कुल 7 भवन में हैं। इसमें 3 अधिक जर्जर स्थिति में हैं, शेष 4 कक्षों की स्थिति ठीक होने के चलते इन कक्षों में बच्चों को पढ़ाया जा रहा है। ग्रामीणों का कहना है इस संबंध में जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों काे अवगत कराया लेकिन निराकरण नहीं हुआ। अधिकारियों का कहना है राशि स्वीकृत हो गई है, जल्द राशि प्राप्त हो जाएगी।

हाईस्कूल की भी उठी मांग, ग्रामीण बोले : अब तक कई बेटियों ने छोड़ा स्कूल
शांतिलाल, मानसिंह मीणा सरपंच प्रतिनिधि, शानू पठान, कालू लाल भील सहित अन्य ने बताया उपचुनाव में किए हाई स्कूल बनाने के बाद वादे अधूरे हैं। विधानसभा उपचुनाव के प्रचार के दौरान पिपल्दा सुजानपुरा में जिला प्रभारी मंत्री दीपक जोशी से हाईस्कूल की मांग की थी तब प्रभारी मंत्री ने आश्वासन दिया था लेकिन मांग अभी तक पूरी नहीं हुई। ग्रामीणों के अनुसार 50 से 60 विद्यार्थी प्रतिदिन भानपुरा अध्ययन के लिए जाते हैं, इनको प्रतिदिन कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। दूरी होने के कारण कई बेटियों ने मजबूरन स्कूल तक छोड़ दिया है।2 लाख 33 हजार स्वीकृत, चयनित स्कूलों के तहत अलग से भी मिलेगी राशि ।

बलराम पिता मांगीलाल, सपना पिता रतनलाल, नीलू पिता रतनलाल, काजल पिता अमर सिंह, काजल पिता कन्हैयालाल, नीलू पिता शिवलाल, उर्मिला पिता घनश्याम, माया पिता भागीरथ, सलोनी पिता भगवान ने गांव में हाईस्कूल नहीं होने के कारण स्कूल छोड़ दिया। ग्रामीणों ने जल्द हाईस्कूल स्वीकृत कराने की मांग की।

खबरें और भी हैं...