चुनाव के लिए दलों ने तैयारी शुरू की:कांग्रेस बीजेपी ने एक- दूसरे पर साधा निशाना, दोनों ने खुद को ओबीसी का हितैषी बताया

मंदसौर8 दिन पहले

सुप्रीम कोर्ट के निर्णय और चुनाव आयोग की तैयारियों के बिच अब बीजेपी कांग्रेस ने भी अपने दावपेंच शुरू कर दिए है। दोनों ही दल ओबीसी के मुद्दे पर एक दूसरे को कोसते हुए अपने दामन को बचाने में लगे है। आरोपी प्रत्यारोप के बिच चुनावी घमासान भी सुनाई देने लगा है। शुक्रवार को मंदसौर में कांग्रेस और बीजेपी ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस कर ओबीसी की हितेषी बताते हुए चुनाव में ओबीसी को महत्त्व देने का दावा किया।

मंदसौर कांग्रेस जिलाध्यक्ष नवकृष्ण पाटिल ने कांग्रेस प्रेसवार्ता करते हुए कहा की प्रदेश कांग्रेस ने आने वाले निकाय चुनाव में पिछडा वर्ग के 27 प्रतिशत प्रत्याशियो को टिकट देने की बात कही । उन्होंने कहा की पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने यह घोषणा ऐसे समय पर की है कि जब सुप्रीम कोर्ट ने प्रदेश में बिना ओबीसी आरक्षण के निकाय चुनाव कराने का आदेश दिया है। कांग्रेस ने आरोप लगाया की शिवराज सरकार ने अदालत आधे अधूरे तथ्य प्रस्तुत किये जिसके कारण पिछडा वर्ग का हित प्रभावित हुआ है। कांग्रेस ने नगरीय निकाय चुनाव 27 फीसदी आरक्षण देने की बात कहि है।

उधर बीजेपी भी ओबीसी को साधने जुटी है । जिले के प्रभारी मंत्री राजवर्धन सिंह दत्तीगांव ने देर रात प्रेस कॉन्फ्रेंस कर ओबीसी मुद्दे पर कांग्रेस को घेरा। उन्होंने कहा कि बिना ओबीसी आरक्षण के नगरीय निकाय एवं पंचायत चुनाव कराए जाने की वर्तमान परिस्थिति कांग्रेस के कारण निर्मित हुई है। मध्यप्रदेश में तो 27 प्रतिशत ओबीसी आरक्षण के साथ पंचायत चुनाव प्रक्रिया चल ही रही थी। किन्तु कांग्रेस इसके विरूद्ध हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट गई, जिससे होने वाले चुनाव प्रभावित हुए एवं व्यवधान उत्पन्न हुआ।