MP में भैंस चराने वाले Youtuber के डेढ़ लाख फॉलोअर:नौकरी छोड़ी, चरवाहा बना; भैंस के साथ गाने के वीडियो से कमा रहा लाखों

मंदसौर11 दिन पहलेलेखक: दीपक शर्मा

MP में भैंस चराते-चराते एक युवक यू-ट्यूब स्टार बन गया। 30 साल के मंदसौर के रहने वाले युवक को 2 सिल्वर बटन भी मिल चुका है। युवक अब तक 5 लाख से अधिक की कमाई कर चुका है। दैनिक भास्कर बता रहा है रिलायंस की जॉब छोड़कर यू ट्यूबर बने पुष्कर धनगर की पूरी कहानी…उसी की जुबानी

मैं मंदसौर से 37 KM दूर बेहपुर का रहता हूं। ग्रेजुएशन के बाद रिलायंस में जॉब लगी। मुझे इंदौर में नौकरी के दौरान 14 हजार सैलरी मिलती थी। 2014 में मेरी शादी हो गई। कुछ समय बाद मेरे घर बेटी का जन्म हुआ। इससे मेरी जिम्मेदारियां बढ़ गईं। खर्चा पूरा नहीं हो रहा था, इसलिए 2017 में परेशान होकर मैंने नौकरी छोड़ दी। इसके बाद इंदौर से अपने गांव आ गया। नौकरी के दौरान मैं अक्सर गाना गाया करता था। जिस पर दोस्त मुझे कहा करते थे कि, अपने वीडियो बनाया करो।

शुरुआत में भैसों के साथ बनाते थे वीडियो।
शुरुआत में भैसों के साथ बनाते थे वीडियो।

यहां मैं अपनी मां, बड़े भाई, पत्नी और बेटी के साथ रहकर खेती का काम देखने लगा। गांव में मेरे पास कुल 12 बीघा जमीन है। खेती के बाद खाली समय में मैं अपने मवेशियों को भी चराने लगा। मुझे गाने का बेहद शौक है। इसलिए मैं भैंसों को चराते वक्त भी गाने गुनगुनाया करता था। मुझे अपने दोस्त की वीडियो बनाने वाली बात याद आ गई तो मैंने भैंस के साथ वीडियो बनाना शुरू कर दिया। मैंने सोशल मीडिया पर गाने के वीडियो डालने शुरू कर दिए। वीडियो पर लोगों के कमेंट आना शुरू हो गए तो मैं इसी काम में लग गया।

धनगर के गाने का कवर इमेज।
धनगर के गाने का कवर इमेज।

2017 में यूट्यूब पर अकाउंट क्रिएट किया, लेकिन कुछ दिन बाद मैं पासवर्ड भूल गया। मैंने दूसरा अकाउंट बनाया और कुछ दिन बाद उसका भी पासवर्ड भूल गया। फिर मैंने तीसरा अकाउंट बनाया और उसका पासवर्ड कागज पर लिख लिया। शुरुआत में मैं यू-ट्यूब पर ग्रामीण क्षेत्रों में होने वाले धार्मिक आयोजनों के वीडियो पोस्ट करता है। इसके बाद मैं इंटरनेट से जानकारी जुटाकर सेलिब्रिटी के बारे में जानकारी की वीडियो बनाने लगा। धीरे-धीरे मेरे 1 लाख 42 हजार फॉलोअर हो गए। इससे मैंने अब तक करीब 5 लाख रुपए कमा लिए। इसके बाद मैंने एक और चैनल बनाया, उस चैनल पर भी 6 हजार से अधिक फॉलोअर हो गए हैं। मैंने अब इसे ही बिजनेस बना लिया है।

मोबाइल रिपेयरिंग करता हूं
पुष्कर ने दैनिक भास्कर को बताया कि किसानी से उसकी जो आमदनी होती है, उससे वह ट्रैक्टर और घर के लोन की किस्त जमा करता है। वह घर पर ही मोबाइल रिपेयरिंग का काम भी करता है। वह खुद ही गाने लिखता है और अपनी आवाज में उसे कंपोज कर यू-ट्यूब पर अपलोड करता है।

परिवार के साथ बैठे धनगर अपने सिल्वर बटन दिखाते हुए।
परिवार के साथ बैठे धनगर अपने सिल्वर बटन दिखाते हुए।

यूट्यूब से होती है अर्निंग
यू ट्यूब के नियमों के अनुसार, अकाउंट क्रिएट करने के बाद 1 हजार सब्सक्राइबर और 4 हजार घंटे वॉच टाइम होना जरूरी है। इन शर्तों के पूरे होने बाद चैनल मॉनेटाइजेशन के लिए एक्टिव हो जाता है। इसके बाद यू-ट्यूब गूगल एडसेंस अकॉउंट ओपन हो जाता है। इसके बाद व्यूज और विज्ञापन के आधार पर बैंक अकाउंट में डॉलर में पे किए जाते हैं। कुछ दिन बाद डॉलर रुपए में कंवर्ट होकर खाते में ट्रांसफर हो जाते हैं।