धोखाधड़ी:बीए फाइनल की फर्जी अंकसूची से हासिल की संविदा शिक्षक वर्ग-2 की नौकरी, एक साल की सश्रम जेल

मुरैना6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

साल 2003 में बीए की फर्जी अंकसूची लगाकर संविदा शिक्षक वर्ग-2 की नौकरी हासिल करने वाले मुरारीलाल धाकड़ नामक शिक्षक को प्रथम श्रेणी मजिस्ट्रेट सबलगढ़ नितिन सोनी ने धोखाधड़ी का दोषी मानते हुए एक वर्ष की सश्रम जेल व 2 हजार रुपए जुर्माने से दंडित किया है। हालांकि शिक्षक ने सेशन कोर्ट में अपील की है और ठप्पे से नौकरी कर रहा है। गंभीर बात यह है कि शिक्षक वर्ग-2 में नौकरी के मामले में दोषी पाया गया और वर्तमान में वह संविदा शिक्षक वर्ग-3 के रूप में प्राथमिक विद्यालय नई बस्ती भुरावली में कार्यरत है।

जानकारी के अनुसार 3 फरवरी 2003 को कैलारस थाने में कैलारस जनपद अध्यक्ष रामहेत धाकड़ ने शिकायत दर्ज कराई थी कि शिक्षक मुरारीलाल धाकड़ ने बीए फाइनल की फर्जी अंकसूची के जरिए संविदा शिक्षक वर्ग-2 की नौकरी हासिल की है। पुलिस ने एफआईआर के बाद चालान कोर्ट में पेश किया। कोर्ट ने 17 साल तक चले इस केस में दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद बीते सप्ताह शिक्षक मुरारीलाल धाकड़ को दोषी मानते हुए अलग-अलग धाराओं में एक वर्ष के सश्रम कारावास व 2 हजार जुर्माने से दंडित किया है।

खबरें और भी हैं...