मुरैना और जौरा जनपद से अपडेट:मुरैना में 78.58 व जौरा में 77.58 प्रतिशत मतदान

मुरैना3 महीने पहले
  • चार जुलाई को होगी मतगणना

मुरैना व जौरा जनपद पंचायतों के 176 पंचायतों की मतगणना खत्म हो गई है। देर शाम जिला प्रशासन ने बता दिया कि मुरैना में 78.58 प्रतिशत तथा जौरा में 77.58 प्रतिशत मतदान हुआ है। मतदान का आंकड़ा 60 प्रतिशत तक भी नहीं पहुंच सका है। अब पुलिस के सामने सबसे बड़ी चुनौती इन मतपेटियों को सुरक्षित स्ट्रांग रुम में ले जाकर रखना है। 4 जुलाई को मतगणना की जाएगी। सभी निर्वाचन दल अपनी-अपनी पेटियों को सील बंद करने में लग गए हैं।

बता दें, कि पंचायत चुनाव तीन बजे खत्म होने के बाद अब मतपेटियों को सीलबंद करने का काम शुरु हो गया है। मतपेटियों को पुलिस की सुरक्षा में स्ट्रांग रुम में ले जाया जाएगा। इसके बाद 4 जुलाई को मतगणना की जाएगी। मतगणना मुरैना के बड़ोखर स्थित शासकीय पालिटेक्निक कॉलेज में की जाएगी। इसी प्रकार जौरा में मतगणना शासकीय उत्तर माध्यमिक महाविद्यालय पगारा रोड जौरा में होगी

मुरैना व जौरा जनपद में मतदान खत्म हो गया है। मतपेटियां पुलिस के कब्जे में हैं। पुलिस ने मतदान केन्द्रों को पुलिस छावनी में बदल दिया है। जिन पोलिंग बूथों पर लंबी लाइन लगी थी वहां जो प्रत्याशी मतदान केन्द्र के अन्दर मौजूद थे, उनसे वोटिंग करवाई जा रही है। बाहर से आने वाले लोगों को मतदान करने से रोक दिया गया है।

बता दें, कि मुरैना व जौरा दोनों जनपदों में सुबह 7 बजे से शुरु होकर वोटिंग दोपहर तीन बजे तक ही थी। उसके बाद वोटिंग खत्म कर दी गई है। कुछ पोलिंग बूथों पर जहां अधिक लंबी लाइन लगी थी। वहां उन लोगों को पोलिंग के अन्दर कर लिया गया है। इसके बाद आने वाले लोगों को मतदान करने से रोक दिया गया है।

मुरैना के हिंगौना खुर्द गांव में पुलिस ने उपद्रवियों को खदेड़ा। यह उपद्रवी मतदान केन्द्र पर उपद्रव करने आए थे। इसी बीच पुलिस बल वहां पहुंच गया। पुलिस बल ने वहां मौजूद लोगों को खदेड़ दिया। पुलिस बल के खदेड़ते ही लोग भाग खड़े हुए। इसी के साथ पुलिस बल ने वहां मौजूद उपद्रवियों के दो पहिया व चार पहिया वाहनों की हवा भी निकाल दी।

बता दें, कि हिंगौना खुर्द गांव में मतदान चल रहा है। वहां मतदान को प्रभावित करने व वोटरों को डराने के उद्देश्य से दर्जनों की संख्या में उपद्रवी कई गुटों में पहुंच गए। वे वहां उपद्रव करने लगे। इसी बीच लोगों ने पुलिस को फोन कर दिया था। पुलिस के पहुंचने के बाद उपद्रवियों को लाठी-डंडों से खदेड़ना शुरु कर दिया जिससे उपद्रवी भाग खड़े हुए।

मुरैना के नूराबाद क्षेत्र के रामसू गांव में दहशत फैलाने के लिए बदमाशों ने फायरिंग कर दी। बदमाशों ने मतदान केन्द्र पर वोटरों को भयभीत करने के लिए फायरिंग की। लगभग 8 से 10 की संख्या में दो गुटों में बदमाश अचानक मतगणना स्थल पर पहुंचे और उन्होंने दनादन फायरिंग शुरु कर दी। फायरिंग करते ही लोग भयभीत हो गए और वहां से भागने लगे।

फायरिंग की सूचना मिलते ही एसपी आशुतोष बागरी व रिठौरा कलां थाना प्रभारी संजय किरार मौके पर पहुंचे। उन्होंने वहां जाकर बदमाशों को पकड़ने के लिए उनके घरों पर धावा बोला। गोली चलाने के शक मे ंपुलिस ने 10 लोगों को गिरप्तार किया है। सभी आरोपी नूराबाद थाने में बंद कर दिए गए हैं।

मुरैना जनपद 106 व जौरा जनपद की 70 पंचायतों में वोटिंग चल रही है। दोपहर का डेढ़ बज चुका है। मुरैना जनपद के मैथाना पंचायत की पोलिंग बूथ पर पूर्व मंत्री ऐंदल सिंह कंषाना वोट गए थे। उनके साथ अन्य लोग भी थे। उनके भतीजे केपी कंषाना की पत्नी भूरी कंषाना सरपंच पद की प्रत्याशी पद पर खड़ी हैं। केपी कंषाना के तरफ के लोगों ने वीडियो बनाकर वायरल कर दिया कि ऐंदल कंषाना फर्जी वोट डलवा रहे हैं जबकि वीडियो में फर्जी वोटिंग नहीं दिखाई दे रही है। इसी के साथ वह थोड़ा बहुत हंगामा हुआ लेकिन जल्द ही मामला शांत हो गया।

वहीं इस मामले में पूर्व मंत्तरी ऐदल सिंह कषाना का कहना है कि पूरा गांव एक तरफ है। उनका लड़का अगर बूथ केप्चरिंग करता तो वीडियो में जरूर आता लेकिन वह वीडियो में कहीं भी बूथ केप्चरिंग करता नहीं दिखा रहा है। वह केवल अपने लोगों के साथ मतदान केन्द्र के अन्दर गया था। इस बीच मुरैना में 50 प्रतिशत तथा जौरा में 45 प्रतिशत लोगों ने मतदान कर दिया है। इन दोनों ही जगहों पर पोलिंग बूथों पर वोटरों की लंबी-लंबी लाइनें लगी हुई हैं। यहां मतदाता धूप में वोट डालने के लिए खड़ा हुआ है।

जौरा के मुद्रावजा मतदान केन्द्र क्रमांक-141 पर भारी अव्यवस्था देखी गई। यहां मतदान केन्द्र पर प्रत्याशी स्वयं अन्दर जाकर महिलाओं से मतदान करा रहा था। मतदान केबिन में एक से अधिक महिलाएं मौजूद थीं। प्रत्याशी को वहां के लोगों ने पहचान लिया। इस पर लोगों ने ADM नरोत्तम भार्गव को फोन करके घटना की सूचना दे दी। इसके बावजूद 25 मिनट बाद पुलिस मौके पर पहुंची।

दूसरे चरण के मदतान के लिए सुबह से ही पोलिंग बूथ पर लोगों की लंबी-लंबी कतारें लग गई हैं। मतदान सुबह 7 बजे से प्रारंभ हो चुका है। सुबह 9 बजे तक केवल सात प्रतिशत मतदाताओं ने वोटिंग की है। कुल 26 हजार मतदाताओं ने वोट डाले हैं । इनमें 12938 पुरुषों ने तथा 13806 महिलाओं ने वोट डाल दिए हैं। दोनों जनपद पंचायतों के लिए 705 मतदान केन्द्र बनाए गए हैं। इन मतदान केन्द्रों पर आज 3 लाख, 99 हजार, 275 मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग करेंगे। बता दें, कि इस त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में यह दूसरे चरण का मतदान है। मतदान के लिए निर्वाचन दल अल सुबह ही मतदान केन्द्रों पर पहुंच चुका था। सुबह से ही सभी मतदान केन्द्रों पर पुलिस बल तैनात हो गया है। पुलिस द्वारा बाहर से आने-जाने वालों पर कड़ी नजर रखी जा रही है।

मुद्रावजा मतदान केन्द्र पर केबिन में एक से अधिक महिलाएं
मुद्रावजा मतदान केन्द्र पर केबिन में एक से अधिक महिलाएं

मुरैना में 106 पंचायतों पर वोटिंग
मुरैना जनपद की 106 पंचायतों के लिए 389 मतदान केन्द्र बनाए गए हैं। इन पर 2 लाख, 24 हजार, 139 मतदाता अपने मत डालने जा रहे हैं। इनमें से एक लाख, 24 हजार 313 पुरुष हैं तथा 99 हजार 820 महिला और 6 अन्य मतदाता शामिल हैं।

जमीन पर बैठकर अपनी बारी का इंतजार करते मतदाता
जमीन पर बैठकर अपनी बारी का इंतजार करते मतदाता

जौरा जनपद की 70 पंचायतों के लिए मतदान
इसी प्रकार आज ही जौरा जनपद की 70 पंचायतों के लिए 316 मतदान केन्द्र बनाए गए हैं। इनमें 1 लाख, 75 हजार, 136 मतदाता वोट डालने जा रहे हैं। इनमें 95 हजार, 21 पुरुष मतदाता हैं तथा 80 हजार, 108 महिला एवं 7 अन्य मतदाता शामिल हैं। इस प्रकार उपरोक्त दोनों मुरैना व जौरा जनपद पंचायतों के लिए आज तीन लाख, 99 हजार, 275 मतदाता वोट डालने जा रहे हैं।
मोबाइल फोन पूरी तरह प्रतिबंधित
इस बार दूसरे स्तर के मतदान में मतदान केन्द्रों पर मोबाइल फोन पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दिया गया है। यह सुरक्षा के मद्देनजर किया गया है।

सुबह से लग गई भीड़
सुबह से लग गई भीड़

हर मतदान केन्द्र पर चार अधिकारी
प्रत्येक मतदान केन्द्र पर चार अधिकारी मौजूद हैं। जिसमें पीठासीन अधिकारी पी-1, पी-2 व पी-3 मौजूद हैं। इसके अलावा कोटवार, पटवारी तथा पुलिस बल अलग से तैनात है।
प्राथमिक सुविधा मुहैया मतदान केन्द्रों पर
हर मतदान केन्द्र पर मतदान दलों को ORS के पैकेट सहित अन्य दवाइयों की किट दी गई है। इसके अलावा सेक्टर ऑफीसर के साथ एक चिकित्सक आवश्यक दवाएं लेकर साथ में मौजूद हैं।

सुबह से लग गई दो कतारें,
सुबह से लग गई दो कतारें,

बिना हेलमेट के नहीं कोई अधिकारी
हिंसा की संभावना को देखते हुए कलेक्टर ने निर्वाचन में लगे सभी राजस्व व पुलिस के अधिकारियों से कहा है कि वे बिना हेलमेट के फील्ड में दोपहर 2 बजे के बाद बिल्कुल न दिखाई दें। यह निर्देश मतदान के अंतिम चरण में होने वाली हिंसक घटनाओं को देखते हुए दिए गए हैं।
इन अधकारियों की लगाई गई ड्यूटी
वन क्षेत्र में एडीएम व जौरा SDM हैं। ADM नरोत्तम भार्गव के साथ वन मण्डल में पदस्थ प्रणय श्रीवास्तव परिक्षेत्राधिकारी मुरैना तथा श्वेता त्रिपाठी वन परिक्षेत्राधिकारी मौजूद हैं। इसी प्रकार SDM विनोद सिंह के साथ रेन्जर दीपक शर्मा व हिनखान वनक्षेत्राधिकारी जौरा तथा सुमन खरे वन परिक्षेत्रक्षाधिकारी की ड्यूटी लगाई गई है।
पोलिंग बूथ पर निजी वाहन प्रतिबंधित
पोलिंग बूथ पर निजी वाहन पूरी तरह से प्रतिबंधित किए गए हैं। इसी के साथ ट्रेक्टर ट्राली, ट्रक, स्कूटर, बाइक व कार को पोलिंग बूथों से दूर रखने के आदेश हैं। लिहाजा यह वाहन पोलिंग बूथों पर दिखाई नहीं दे रहे हैं।

खबरें और भी हैं...