चंबल के डकैत कल्ली की कुंडली:नाबालिग से शादी के लिए 28 राउंड फायरिंग करने वाले डकैत पर लूट व डकैती के कई केस

मुरैना16 दिन पहले

17 साल की नाबालिग पर चंबल के जिस डकैत कल्ली गुर्जर का दिल आया था, उसे 10 दिनों के भीतर पुलिस ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया। कल्ली के साथ उसका गैंग भी पकड़ा दबोचा जा चुका है। 32 वर्षीय डकैत कल्ली गुर्जर का जन्म मुरैना जिले के निरार थाना क्षेत्र के चाचुल गांव में हुआ था। पिछले सप्ताह स्याही के टेक गांव में गोली चलाने के बाद से वह चर्चा में है। दरअसल, 10 दिन पहले ही कल्ली गुर्जर ने शादी के लिए लड़की के परिवार को धमकाया था। 28 राउंड फायरिंग की और लड़की की मां के साथ मारपीट की। शनिवार को पुलिस ने कल्ली को गिरफ्तार कर लिया। इससे पहले उसके गैंग से जुड़े कल्ली के भाई जतेन्द्र गुर्जर व उसके साथी राजेश गुर्जर को पुलिस पकड़ चुकी है। मुरैना पुलिस की गिरफ्त में आ चुका 40 हजार के इनामी डकैत कल्ली गुर्जर पर वर्तमान में 7 अपराध दर्ज हैं। इन अपराधों में पांच मुरैना जिले में व 2 अपराध शिवपुरी जिले में दर्ज हैं। कल्ली के करतूतों की उल्टी गिनती 10 दिन पहले शुरू हुई जब उसने नाबालिग से शादी के लिए उसके परिवार को धमकाना शुरू किया। मुरैना जिले के पहाड़गढ़ क्षेत्र के स्याही गांव की लड़की से कल्ली शादी करना चाहता था। 26 अप्रैल की रात को कल्ली गुर्जर अपने साथियों बंटी गुर्जर व जितेन्द्र गुर्जर के साथ पहुंचा। यहां गोपाल गुर्जर से फिर कहा कि वह उसके साथ अपनी पोती की शादी कर दे, नहीं तो उसे मार डालेगा। गोपाल ने इनकार किया, तो कल्ली ने लड़की की मां रामबाई और गोपाल को लात-घूंसे और लाठियों से जमकर पीटा। इसके बाद लड़की के परिवार ने थाने में कल्ली और उसके साथियों के खिलाफ मामला दर्ज कराया।

कल्ली व साथी डकैत।
कल्ली व साथी डकैत।

कल्ली पर मुरैना में 5 और शिवपुरी में दो मामले दर्ज
डकैत कल्ली गुर्जर पर वर्तमान में 7 अपराध दर्ज हैं। इन अपराधों में पांच मुरैना जिले में व 2 अपराध शिवपुरी जिले में दर्ज हैं। बता दें, कि डकैत कल्ली गुर्जर कुख्यात डकैत गुड्‌डा गुर्जर की गैंग का सक्रिय सदस्य है। वह लंबे समय से गुड्‌डा गुर्जर से जुड़ा हुआ है। कल्ली गुर्जर गुड्‌डा का खासमखास साथी है। लोगों की माने तो गुड्‌डा डकैत कल्ली गुर्जर पर अपने सगे भाई जैसा व्यवहार करता है। उसी के साथ में कल्ली गुर्जर ने कई अपराधों को अंजाम दिया है, जिनमें मारपीट के कई केस दर्ज हैं।

जमीन पर बैठेा कल्ली गुर्जर व साथी डकैत
जमीन पर बैठेा कल्ली गुर्जर व साथी डकैत

डकैत कल्ली पर दर्ज आपराधिक मामले
1. पहाड़गढ़ थाने में अपराध क्रमांक 58/21 दर्ज है। धारा 342, 323, 506 के तहत आरोपी बनाया गया है।
2. पहाड़गढ़ थाने में अपराध क्रमांक 59/22 में धारा 458, 336, 323, 294, 506, 34, 307 के तहत आरोपी है।
3. निरार थाना में अपराध क्रमांक 22/21 में धारा 382, 34 के तहत मामला दर्ज है।
4. निरार थाना में ही अपराध क्रमांक 09/ 21 दर्ज है। इस मामले में कल्ली को धारा 336, 323, 294, 506 के तहत आरोपी बनाया गया है।
5. सुभाषपुरा जिला शिवपुरी में अपराध क्रमांक 118/21 दर्ज है। इसी थाने में दूसरा अपराध क्रमांक 149/21 में भी उसे मारपीट के मामले में आरोपी बनाया गया है।
6. जौरा थाना में भी कल्ली के खिलाफअपराध क्रमांक 57/14 दर्ज है।

एसपी व डकैतों को पकड़ने वाली पार्टी
एसपी व डकैतों को पकड़ने वाली पार्टी

गुड्‌डा गुर्जर से नहीं लिया था मशवरा
कल्ली गुर्जर डकैत गुड्‌डा गुर्जर का दाहिना हाथ है। गुड्‌डा बिना कल्ली के मशवरा के कोई काम नहीं करता है। कल्ली ने अभी तक जो भी अपराध किए हैं उनमें से अधिकांश गुड्‌डा गुर्जर की गैंग में मौजूद रहते हुए किए हैं। नाबालिग बच्ची वाला यह पहला अपराध बताया जा रहा है जिसमें गुड्‌डा गुर्जर साथ में नहीं था।
सायबर सेल की मदद से पकड़े गए डकैत
​​​​​​​पुलिस ने कल्ली गुर्जर को पकड़ने के लिए कैलारस थाना प्रभारी वेदेन्द्र कुशवाह के नेतृत्व में एक टीम का गठन किया। उसमें पहाड़गढ़ व रामपुर थाने की टीमें भी शामिल की गईं। मुरैना पुलिस की सायबर सेल टीम के प्रभारी सचिन पटेल ने डकैतों के मोबाइल नंबर के आधार पर निष्कर्ष निकाला कि स्याही की टेक गांव का सरपंच निर्मल गुर्जर कल्ली गुर्जर व उसके भाई को पनाह देता है। फिर क्या था उन्होंने सरपंच को बराबर फॉलो किया तथा जैसे ही जितेन्द्र गुर्जर व राजेश गुर्जर सरपंच निर्मल गुर्जर के सम्पर्क में आए उन दोनों को धर दबोचा।​​​​​​​

26 अप्रैल के वारदात ने कल्ली को पहुंचाया हवालात
26 व 27 अप्रैल की दरम्यानी रात को कल्ली गुर्जर अपने भाई जितेन्द्र गुर्जर व उसके साथी राजेश गुर्जर के साथ स्याही की टेक गांव पहुंचा। वहां जाकर उसने गोपाल गुर्जर के सामने फिर से अपनी शादी की बात रखी जिस पर दोनों स्वसुर व बहू तैयार नहीं हुए। इस बात से नाराज होकर कल्ली गुर्जर ने नाबालिक की मां रमाबाई के पैर में डंडा मार कर उसे लहुलुहान कर दिया। उसके बाद उसे रोकने आए वृद्ध गोपाल गुर्जर के साथ मारपीट की। इतना ही नहीं उनके घर के बाहर ताबड़तोड़ फायरिंग की जिस पर वे लोग दहशत में आ गए थे तथा उन्होंने पहाड़गढ़ थाने में पहुंचकर कल्ली गुर्जर व उसके भाई जितेन्द्र गुर्जर व साथी राजेश गुर्जर के खिलाफ मारपीट व फायरिंग करने की रिपोर्ट दर्ज कराई थी।

खबरें और भी हैं...