चंबल में फिर सिर उठा रहे डकैत:बंदूक की नोंक पर मांगा टेरर टैक्स; केशव गुर्जर गैंग ने रोड बना रहे मजदूरों को पीटा

मुरैना5 महीने पहले

चंबल में डकैत केशव गुर्जर की गैंग फिर एक्टिव होने लगी है। मुरैना के चिन्नौनी थाना इलाके के खेरा गांव में डकैतों ने रोड बना रहे मजदूरों के साथ मारपीट की। बताया जा रहा है कि केशव ने रोड कॉन्ट्रैक्टर से टेरर टैक्स देने की मांग की है। इससे डरे कॉन्ट्रैक्टर ने काम बंद कर दिया है। डकैत केशवर गुर्जर 1 लाख 20 हजार का इनामी है।

मुरैना के खेरा गांव में ब्रजगढ़ी से लेकर नेपरी तक सड़क बनाई जा रही है। सड़क बनाने वाला ठेकेदार UP का रहने वाला है। रात में मजदूर सड़क किनारे डेरा डालकर सो रहे थे। तभी उनके पास हथियारबंद डाकू आए और खुद को डकैत केशव गुर्जर की गैंग का सदस्य बताते हुए टेरर टैक्स की मांग करने लगे। उन्होंने मजदूरों के साथ मारपीट भी। धमकी दी कि अगर उन्हें टेरर टैक्स नहीं दिया गया तो वे सड़क नहीं बनने देंगे। यह बात मजदूरों ने सुबह होते ही ठेकेदार को बताई तो ठेकेदार ने चिन्नौनी थाने में आवेदन दिया।

राजस्थान में रहता है डकैत केशव गुर्जर

डकैत केशव गुर्जर मूलत: राजस्थान का रहने वाला है। उसका मूवमेंट अधिकतर वहीं रहता है। मध्यप्रदेश में उसका मूवमेंट बहुत कम रहता है। मुरैना में भी बहुत कम रहा है, इस वजह से पुलिस यह मानने से इनकार कर रही है कि गैंग केशव गुर्जर की है। हालांकि, पुलिस का कहना है कि जांच की जा रही है।

पुलिस बोली- स्थानीय लोगों की शरारत हो सकती है

SP आशुतोष बागरी के मुताबिक, यह शरारत पास के गांव के कुछ लोगों की है, जो डकैत के नाम से वसूली करने गए थे। मजदूरों ने बताया है कि जो लोग धमकाने आए थे, उनके पास बंदूकें नहीं थीं। एक-दो के पास कट्‌टे थे। जबकि, डकैतों के पास राइफल और बंदूकें हैं। SP ने कहा कि जल्द मामले का खुलासा करेंगे।

डकैत केशव गुर्जर पर दो दर्जन से ज्यादा केस दर्ज हैं।
डकैत केशव गुर्जर पर दो दर्जन से ज्यादा केस दर्ज हैं।

मुरैना में अभी दो गैंग एक्टिव
इस समय मुरैना में दो डकैत गैंग एक्टिव हैं। एक है गुड्‌डा गुर्जर गैंग और दूसरा केशव गैंग।

  • गुड्‌डा गुर्जर: डकैत गुड्‌डा गुर्जर मुरैना के बानमोर के लोहागढ़ का रहने वाला है। वह 14 साल से फरार है। मूवमेंट मध्यप्रदेश के मुरैना, श्योपुर, शिवपुरी, ग्वालियर के अलावा राजस्थान के धौलपुर और उत्तरप्रदेश के आगरा में रहता है। मुरैना पुलिस ने 30 हजार, ग्वालियर पुलिस ने भी 30 हजार रुपए का इनाम घोषित कर रखा है। गैंग में 8 से 12 सदस्य रहते हैं। सभी के पास राइफल हैं। गुड्‌डा के पास 312 बोर की राइफल है। एक मैक्स गाड़ी है। इसमें यह चलता है। अधिकतर पशु पालकों से अवैध वसूली करता है। फैक्ट्री मालिकों को भी इसने धमकाया है। इस पर अभी तक कुल मिलाकर दो दर्जन से अधिक हत्या और लूट के अपराध पहाड़गढ़ थाने में लंबित हैं।
  • डकैत केशव गुर्जर: केशव गुर्जर राजस्थान का निवासी है। 10 साल से फरार चल रहा है। मुरैना और राजस्थान पुलिस ने मिलाकर इस पर 1.20 लाख रुपए का इनाम घोषित कर रखा है। केशव की गैंग राजस्थान, मध्यप्रदेश और उत्तरप्रदेश वारदातें करती है। गैंग में दो दर्जन के लगभग सदस्य बताए जाते हैं, जो समय-समय पर कम-ज्यादा होते रहते हैं। स्थाई सदस्यों के पास आधुनिक हथियार हैं, जिसमें कार्बाइन तक शामिल बताई जाती है। इसका मूवमेंट राजस्थान में अधिक रहता है। अभी तक ढाई दर्जन से अधिक अपराध लंबित हैं।
डकैत गुड्‌डा गुर्जर पर भी ढाई दर्जन से अधिक अपराध लंबित हैं।
डकैत गुड्‌डा गुर्जर पर भी ढाई दर्जन से अधिक अपराध लंबित हैं।
खबरें और भी हैं...