सीएमएचओ और कलेक्टर को लिखा पत्र:रेडक्रॉस सोसाइटी सदस्य के मेडिकल स्टोर पर बिकती मिलीं सरकारी सप्लाई वाली टीबी रोग की दवाएं, शील्ड

पोरसा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

टीबी (क्षय रोग) के मरीजों को बांटने के लिए सरकारी अस्पताल में सप्लाई होने वाली एलेक्सर निओगेडिन नामक दवाईयां मेडिकल स्टोर से बेची जा रही है। ताजा वाकया पोरसा हॉस्पिटल के नजदीक संचालित श्रद्धा मेडिकल स्टोर का है। जहां से अस्पताल में आए एक मरीज को डॉक्टर को दवाईयां लिखी तो वह जल्दबाजी में मेडिकल स्टोर पर पहुंच गया।

यहां से उसे दवा भी दे दी गईं, जो सरकारी सप्लाई की थीं। पोरसा बीएमओ डॉ. पुष्पेंद्र डडौतिया ने ड्रग इंस्पेक्टर देशराज सिंह सहित स्टोर पर छापा मारकर उसे सील कर दिया है। जानकारी के अनुसार पोरसा अस्पताल में राम बिहारी पुत्र उदयसिंह निवासी ग्राम चित्र का पुरा अपना इलाज कराने आया। क्षय रोग से पीड़ित रामबिहारी को डॉक्टर ने दवाईयां लिखीं। लेकिन वह अस्पताल से दवा लेने के बजाय बाहर स्थित श्रद्धा मेडिकल स्टोर पर पहुंच गया।

यहां से मेडिकल स्टोर संचालक ने उसे एलेक्सर निओगेडिन नामक सीरप दी, जो सिर्फ सरकारी अस्पताल में सप्लाई होता है। यह स्टोर रामजीलाल अग्रवाल का है, जो रेडक्रॉस सोसाइटी के सदस्य हैं। मरीज रामबिहारी यह दवाएं दिखाने पोरसा बीमएओ डॉ. पुष्पेंद्र डंडौतिया के पास पहुंच गया। सरकारी सप्लाई की दवा देख बीएमओ हैरत में पड़ गए।

उन्होंने तत्काल ड्रग इंस्पेक्टर देशराज सिंह सहित डॉ. जबर सिंह राठौर, डॉ. शेलेन्द्र सिंह तोमर, बृजमोहन सिंह तोमर की टीम के साथ सटोर पर पहुंचकर देखा तो वहां दवाईयों का और भी स्टॉक रखा हुआ था। टीम ने मेडिकल स्टोर से दवाईयां जब्त कर स्टोर को सील्ड कर दिया है।

मुरैना के अमित ने स्टोर संचालक को दी थी सप्लाई
जब बीएमओ डॉ पुष्पेंद्र डंडौतिया व उनकी टीम ने मेडिकल स्टोर पर छापामार कार्रवाई की तो वहां मौजूद स्टोर संचालक ने पूछताछ में बताया कि मुरैना में रहने वाले अमित गोयल नामक व्यक्ति ने उन्हें यह दवा सप्लाई की है। चूंकि सरकारी अस्पताल की दवाईयां निजी मेडिकल स्टोर तक कैसे पहुंची, इसलिए बीएमओ ने इस मामले में कलेक्टर बी. कार्तिकेयन, सीएमएचओ डॉ. राकेश शर्मा, एसडीएम राजीव समाधिया सहित पोरसा थाना प्रभारी को कार्रवाई हेतु पत्र लिखा है।

खबरें और भी हैं...