जागरूकता का अभाव:मौलिक अधिकारों के प्रति जागरुक रहे छात्र-छात्राएं न्यायाधीश

पोरसा10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

हमें अपने अधिकारों के प्रति जागरूक होना चाहिए, क्योंकि जागरूकता के अभाव में हम अपने अधिकारों से वंचित रह जाते हैं। हमारे देश के हर बच्चे का शिक्षा पाने का अधिकार है। इसलिए अधिक से अधिक शिक्षा से जुड़े और शिक्षित होकर अपने देश व समाज का नाम रोशन करें।

यह बात ग्रीनलैंड्स स्कूल में आयोजित विधिक सेवा कार्यक्रम में शनिवार को न्यायाधीश नितेंद्र सिंह कह रहे थे। उन्होंने कहा कि बालिकायें अगर अपने आपको कहीं भी असुरक्षित महसूस करें तो वह तत्काल वूमेन पावर हेल्पलाइन 1090 को सूचना दें। इस दौरान सभी छात्र-छात्राओं की शिक्षा का अधिकार, समानता का अधिकार,जीने का अधिकार, सहभागिता का अधिकार एवं मौलिक अधिकारों के प्रति समझ विकसित की गई।

इसके अलावा भरतीय संविधान के बारे में छात्रों को बताया गया। इस कार्यक्रम को टीआई रामपाल सिंह जादौन, एसआई धर्मेंद्र मालवीय,एडवोकेट ब्रह्माशंकर शर्मा, मनोज शर्मा आदि ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर नसरीन फातिमा,दामिनी शर्मा, निशा गुप्ता,नंदकिशोर शर्मा आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...