भोपाल में सहकर्मी से रेप करता रहा रेलवे अफसर:पीड़िता ने काटी हाथ की नस, कहा- नौकरी के बदले शोषण कर रहा था

नर्मदापुरम21 दिन पहले

पश्चिम-मध्य रेलवे जोन के भोपाल मंडल के ADRM (अतिरिक्त मंडल प्रबंधक) गौरव सिंह के खिलाफ नर्मदापुरम में दुष्कर्म का मामला दर्ज हुआ है। ADRM की करतूतों से परेशान महिला गुरुवार को पिपरिया पहुंची थी, जहां उसने अपने हाथ की नस काट ली। जिसके बाद पुलिस ने उसे अस्पताल पहुंचाया। फिर उसे वन स्टॉप सेंटर भेजा। पुलिस ने बयान लिए तो दुष्कर्म की कहानी सामने आई।

महिला ने ADRM पर नौकरी दिलाने और ट्रांसफर कराने का झांसा देकर दुष्कर्म करने का आरोप लगाया है। महिला रेलवे में ही नौकरी करती है और आरोपी की सहकर्मी है। पीड़िता के मुताबिक नौकरी मिलने के पहले से ADRM उसका शोषण कर रहा है। बयानों के आधार पर पुलिस ने ADRM के खिलाफ दुष्कर्म की धाराओं में मामला दर्ज कर लिया है। आरोपी पहले से शादीशुदा है और मूल रूप से सागर का रहने वाला है।

अनुकंपा नौकरी दिलाने के बदले किया शोषण
आरोप है कि ADRM ने महिला सहकर्मी को अनुकंपा नौकरी दिलाने के दौरान उसका शोषण किया। मार्च 2021 से ADRM पीड़िता के साथ शोषण कर रहा है। दो माह पहले ही पीड़िता की शादी हरदा में हुई थी। शादी के बाद भी आरोपी उसे परेशान करता रहा। पीड़िता की उम्र करीब 26 साल है, वहीं आरोपी 45 साल का है।

गुरुवार रात को पीड़िता ने नर्मदापुरम के पिपरिया पहुंचकर हाथ की नस काटकर आत्महत्या की कोशिश की थी। पुलिस ने उसे बचाया और शुक्रवार को उसे वन स्टॉप सेंटर लाया गया। देर रात महिला थाना प्रभारी सुरेखा निमोदा ने वन स्टॉप सेंटर जाकर उसके बयान दर्ज किए और इसी के आधार पर गौरव सिंह के खिलाफ केस दर्ज हुआ।

पीड़िता और ADRM के खिलाफ ठगी के भी आरोप
इसी घटना से जुड़े एक मामले की शिकायत पीड़िता के पति ने भी IG नर्मदापुरम और हरदा एसपी से की थी। जिसमें उसने पीड़िता और ADRM पर करीब 25 लाख रुपए ठगने का आरोप लगाया है। शादी के बाद भी पीड़िता ADRM के संपर्क में थी। कुछ दिन पहले वह घर से सोने-चांदी के जेवर लेकर भोपाल आ गई थी। पति ने दोनों पर आरोप लगाते हुए बताया कि षडयंत्रपूर्वक मेरी शादी उस लड़की से कराई गई। इसके बाद मुझे धोखा दे दिया।

पीड़िता के पिता और मां की हो चुकी मौत
पीड़िता के पिता रेलवे में नौकरी करते थे। दो-ढाई साल पहले उनकी मृत्यु हो चुकी है। मां की मृत्यु कोरोनाकाल में हो गई थी। मार्च 2021 में उसकी अनुकंपा नौकरी लगी। ADRM के संपर्क में होने से उसका तबादला भोपाल से हरदा, फिर हरदा से भोपाल हुआ। मामले में पीड़िता के बयानों को लेकर भी फिलहाल स्थिति स्पष्ट नहीं है।

महिला कर्मचारी के आरोप झूठे: ADRM गौरव सिंह

ADRM गौरव सिंह ने दैनिक भास्कर को बताया कि महिला कर्मचारी ने जो आरोप लगाए, वो झूठे है। मेरा उससे ऑफिशियल परिचय है। उस महिला और उसके पति के बीच आपसी तालमेल सही नहीं चल रहा था, उसने लिखित आवेदन देकर भोपाल वापस ट्रांसफर चाहा था। उसका पति उस पर चरित्र शंका और नौकरी नहीं करने देने का दवाब बनाता था। महिला ने हरदा थाने में शिकायत भी की। 5 मई को भोपाल आकर हरदा पुलिस ने उसके बयान लिए। जिसमें उसने पति पर हिंसा, चरित्र शंका के बयान दिए। उसके पति द्वारा शिकायत पत्र वायरल करने से महिला मानसिक रुप से परेशान हो चुकी थी। वह 5 मई की रात को अकेली भोपाल से कार से निकली। पिपरिया आकर उसने एक दर्जन से ज्यादा पेन किलर लिए और हाथ की नस काटी। बाद में उसने उसके पति और मुझे कॉल कर गोली खाने और नस काटने की बात बताई। मैंने पुलिस को सूचना दी। जिसके बाद पुलिस ने उसे ढूंढकर अस्पताल पहुंचाया। महिला ने दो-तीन बार पति के खिलाफ बयान थे। अब मेरे खिलाफ उन्होंने शिकायत क्यों की, मुझे खुद भरोसा नहीं हो रहा।

काउंसिलिंग में महिला ने लगाया रेप का आरोप
भोपाल की महिला रेल कर्मचारी ने ADRM गौरव के खिलाफ FIR दर्ज कराई है। पीड़िता को पिपरिया में आत्महत्या की कोशिश के दौरान पकड़ा गया। काउंसलिंग में पीड़िता ने रेप के आरोप लगाए। घटनास्थल भोपाल का है, जीरो पर कायम कर डायरी भोपाल भेजी जाएगी।
- पराग सैनी, SDOP, नर्मदापुरम