नर्मदापुरम के पिपरिया में सामूहिक सुसाइड:पीजी कॉलेज के कर्मचारी ने पत्नी, बेटी के साथ मिलकर दी जान, रैकवार सुसाइड से जुडे तार

नर्मदापुरमएक महीने पहले

नर्मदापुरम जिले के पिपरिया में पीजी कॉलेज के कर्मचारी ने परिवार सहित सामूहिक खुदकुशी कर ली । तीनों के शव एक साथ एक ही कमरे में लटके मिले है। यह दिल दहलाने वाला मंजर जिसने भी देखा उसकी रूख कांप गई। पुलिस को घटना स्थल लार सुसाइड नोट मिला हैं। जिसमें आधा पेज का विवरण है। सामूहिक सुसाइड का केस 20 दिन पहले राजेश रैकवार बाबू की आत्महत्या से जुड़ रहे है। फिलहाल स्टेशन रोड थाना पुलिस जांच कर रही हैं।

जानकारी के अनुसार पिपरिया शासकीय भगत सिंह पीजी कॉलेज मृतक मकरंद विश्वकर्मा दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी था। उसकी पत्नी बेटी निकिता विश्वकर्मा उसी कॉलेज से पढ़ाई कर रही है। मकरंद, उसकी पत्नी शशि और बेटी निकिता का शव घर के एक कमरे में सीलिंग फेन पर लटका मिला। सोमवार दोपहर में करीब 12 बजे मकरंद का भतीजा घर पहुंचा, उसने दरवाजा खटखटाया तो किसी ने नहीं खोला। जिसके बाद पड़ोसियों ने खिड़की से झांककर देखा तो फांसी के फंदे पर तीनों लटके मिले।

तब घटना उजागर हुई। जिसके बाद शहर में सनसनी फैल गई। एसडीओपी शुभेंदु जोशी, स्टेशन रोड थाना प्रभारी निकिता विल्सन, पुलिस स्टाफ मौके पर पहुंचा। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है। एक ही परिवार के तीन लोगों के सुसाइड से शहर में सनसनी फैल गई है। एफएसएल टीम को भी मौके पर बुलाया गया है।

मकरंद विश्वकर्मा के परिजन और पड़ोसियों ने बताया कि उसको कॉलेज से 6 माह से वेतन नहीं मिला था। वह परिवार के पालन पोषण के लिए बाकी समय में मजदूरी करता था। एसडीओपी शिवेंद्र जोशी ने बताया कि मकरंद के पास से सुसाइड नोट बरामद हुआ है। उसकी जांच कर रहे हैं।

कॉलेज का लैब अटेंडेंट भी कर चुका है सुसाइड

पीजी कॉलेज पिपरिया के लैब अटेंडेंट राकेश रैकवार ने करीब 25 दिन पहले आत्महत्या की थी। उसने 16 पेज का सुसाइड नोट लिखा था। जिसमें मकरंद के शोषण की बात लिखी थी। राजेश ने प्राचार्य राजीव माहेश्वरी पर आरोप लगाए थे कि वे मकरंद से निजी कार्य कराते हैं। राकेश ने भी अपनी मौत का कारण कॉलेज में शोषण होना बताया था। रैकवार के सुसाइड नोट में कॉलेज के प्राचार्य सहति कई लोगों पर प्रताडना का आरोप लगाया था। जिसकी जांच पुलिस कर रही है।

पिता और बेटी ही कॉलेज में

मृतक मकरंद विश्वकर्मा शासकीय भगत सिंह कॉलेज में दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी थाए बेटी भी उसी कॉलेज में पढ रही थी। मृतक की बेटी ने बोर्ड परीक्षा उत्कृष्ट अंकों से उत्तीर्ण की थीए उसे 15 अगस्त पर पुरस्कृत भी किया गया था। वह कॉलेज प्रथम वर्ष में अध्ययन कर रही थी।

खबरें और भी हैं...