नर्मदा के बाबरी घाट पर अनदेखी:तीन साल पहले नोटिस देकर भूले अफसर, नाव संचालन में नहीं हो रहा सुरक्षा नियमों का पालन

सिवनी मालवा8 दिन पहले

सिवनी मालवा तहसील के अंतर्गत आने वाले नर्मदा नदी के बाबरी, भिलाडिया सहित ग्वाड़ी घाट पर विशालकाय नाव का उपयोग किया जाता है। सिवनी मालवा तहसील की ओर से सीहोर जिले में आवागमन के लिए इस नाव का उपयोग किया जाता है। रोज सैकड़ों वाहन और लोग इस नाव से आवागमन करते हैं।

नाव ठेकेदार के द्वारा नाव पर लाइफ जैकेट, ट्यूब आदि किसी भी प्रकार के सुरक्षा उपकरण का उपयोग नहीं किया जाता है। लगभग 3 साल पहले तत्कालीन जनपद सीईओ के द्वारा सभी ठेकेदारों को नोटिस जारी कर नियमों का पालन करने के निर्देश दिए गए थे। अभी भी स्थिति जस की तस है। इसके चलते कभी भी बड़ी दुर्घटना होने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है।

नाव घाट का ठेका एक साल सिवनी मालवा जनपद पंचायत के द्वारा किया जाता है। एक साल वर्ष रेहटी जनपद पंचायत द्वारा किया जाता है। नीलामी में नाव का संचालन के समय सुरक्षा उपकरणों का उल्लेख किया जाता है। प्रत्येक नाव पर लाइफ जैकेट, ट्यूब आदि रहेंगे। जिससे कि यदि कोई दुर्घटना होती है तो कोई बड़ी जनहानि ना हो। नाव ठेकेदार द्वारा इसके बाद भी सभी नियमों को ताक पर रख नावघाट का संचालन किया जा रहा है।

3 वर्ष पूर्व दिए थे ठेकेदारों को नोटिस

लगभग 3 वर्ष पूर्व तत्कालीन जनपद सीईओ रीना चौहान के द्वारा सुरक्षा उपकरण नहीं होने के चलते नाव घाट ठेकेदारों को नोटिस जारी कर नाव घाट ठेका निरस्त करने की चेतावनी दी गई थी। परन्तु समय बीतने के साथ ही नाव में सुरक्षा उपकरणों की स्थिति जस की तस हो गई। लगभग 3 वर्षों से अफसरों ने निरीक्षण नहीं किया गया है।

इस बारे में जब जनपद सीईओ दुर्गेश कुमार भूमरकर ने बताया कि नाव घाट की नीलामी के समय उसमे नियम एवं शर्तें दी रहती हैं। यदि ठेकेदार के द्वारा उन शर्तों का पालन नहीं किया जा रहा है, तो पीसीओ को भेज जांच करवाई जाएगी। यदि सुरक्षा उपकरण नहीं मिलते हैं तो नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...