अब तक शुरू नहीं हो पाई मूंग खरीदी:समर्थन मूल्य से 2-3 हजार रुपए कम कीमत पर बेचना पड़ रही उपज, ग्रामीणों ने बैठक में बनाई रणनीति

सिवनी मालवा2 महीने पहले

मध्यप्रदेश में किसानों के लिए वरदान कही जाने वाली मूंग की उपज का खलिहानों और आंगन में लगा ढेर चिंता का सबब बनता जा रहा है। वजह यह है कि सरकार ने अब तक समर्थन मूल्य पर खरीदी शुरू नहीं की है। इधर, किसानों को खरीफ सीजन की अगली फसल की तैयारी के लिए रुपयों का इंतजाम करना है, इसके लिए वे समर्थन मूल्य से दो से तीन हजार कम कीमत पर व्यापारियों को उपज बेचने को मजबूर है।

नर्मदापुरम जिले की सिवनी मालवा के अंतर्गत आने वाले ग्राम पंचायत भैरोपुर के निवासियों ने गांव में ही एक बैठक की है। निर्णय किया है कि शासन-प्रशासन ने अब तक मूंग खरीदी की प्रक्रिया नहीं प्रारंभ की गई है। अगर शासन की मूंग खरीदी की मंशा नहीं है तो फिर 3 दिन में यदि मूंग की कोई व्यवस्था नहीं हो पाती है तो समस्त ग्रामवासी पंचायत चुनाव का बहिष्कार करेंगे।

ग्रामीणों ने बताया कि ग्रीष्मकालीन मूंग के लिए 8 जून से पंजीयन किए जाने थे, लेकिन अभी तक पंजीयन भी शुरू नहीं हो सके। यानी बिक्री के लिए लंबा इंतजार बाकी है। किसान कहते हैं कि बानापुरा कृषि उपज मंडी में व्यापारी जो रेट दे रहे हैं, उससे लागत भी नहीं निकल पा रही है। यदि समर्थन मूल्य पर खरीदी हो तो उन्हें लागत निकालने पर प्रति क्विंटल दो से तीन हजार रुपए तक का लाभ हो सकता है।

खबरें और भी हैं...