लौधा-लौवंशी समाज के जिलाध्यक्ष का चुनाव:पुलिस के साए में हुआ चयन, पढ़िए...क्यों बनी विवाद की स्थिति

सिवनी मालवा6 दिन पहले

नर्मदापुरम की सिवनी मालवा तहसील में लोधा-लौवंशी समाज के जिलाध्यक्ष का चुनाव होना था। इस दौरान भारी रस्साकसी का माहौल रहा। रविवार को लौवंशी समाज की धर्मशाला में नजारा किसी दंगल से कम नही रहा है। चुनाव प्रक्रिया के दौरान दो पक्ष आपस में ऐसे भिड़ गए कि लाख समझाई के बाद भी नहीं मानें। आनन फानन में सामाजिक बंधुओं द्वारा पुलिस को सूचना दी गई। जिसके बाद थाना प्रभारी जितेंद्र यादव ने मंच पर आकर सभी को समझाइश दी। एवं चेतावनी दी कि यदि कोई कानून हाथ में लेगा तो हमें मजबूरी में कार्रवाई करनी पड़ेगी। जिसके बाद थाना प्रभारी तो चले गए लेकिन पूरा आयोजन पुलिस की उपस्थिती में हुआ।

गहमागहमी का माहौल लगभग पांच घंटे तक बना रहा। जिसके बाद एक पक्ष कार्यक्रम छोड़ कर चला गया। लौवंशी समाज के प्रदेश अध्यक्ष सत्यनारायण लौवंशी की उपस्थिती में चयन प्रक्रिया हुई। जिसमें सर्व सहमती से जिलाध्यक्ष बिसौनीकला के बलराम पटैल को बनाया गया। वहीं लोधा-लौवंशी समाज के नाराज पक्ष के विनोद निसानिया ने बताया कि समाज द्वारा पहले मेरे नाम पर जिलाध्यक्ष की सहमति बनी थी। लेकिन आज समाज के कुछ लोगो द्वारा मुझे दर किनार कर नया जिलाध्यक्ष का चयन किया। क्योंकि में कांग्रेसी विचारधारा से जुड़ा हूं। हमारी समाज भाजपा समर्थित है। जिसके चलते कुछ लोगों द्वारा मेरा विरोध किया गया है। हमारे द्वारा पूरी चयन प्रक्रिया निष्पक्ष कराए जाने को लेकर न्यायालय की शरण ली जाएगी।

वही पूरे मामले में लोधा लौवंशी समाज के प्रदेशाध्यक्ष सत्यनारायण लौवंशी का कहना है कि जिलाध्यक्ष की प्रक्रिया के दौरान कुछ लोगो के बीच मतभेद की स्थिती बनी थी। लेकिन समझाइश के बाद सर्व सहमती से जिलाध्यक्ष के रूप में बलराम पटेल को बनाया गया है। हमारी समाज में एक जुटता है। हम हिंदुत्व से जुड़े हैं। हमारे द्वारा दूसरे पक्ष को भी मना लिया जाएगा। विवाद जैसी कोई बात नहीं है। पूरी लोधा-लौवंशी समाज एकजुट है।

खबरें और भी हैं...