बिसोनी कलां के 'गौरव' ने रणजी में चटकाए 6 विकेट:पिता बोले- बेटा प्रदेश के लिए ट्रॉफी ला रहा है, इससे बड़ी बात क्या होगी

सिवनी मालवाएक महीने पहले
गांव बिसोनी कलां में गौरव यादव के परिजन।

गांव के गौरव ने किया मध्य प्रदेश को गौरवांवित। जी हां, हम बात कर रहे हैं रणजी में MP के नर्मदापुरम जिले की सिवनी मालवा तहसील के छोटे से गांव बिसोनी कलां के गौरव यादव की। रणजी में पहुंचे मध्यम गति के तेज गेंदबाज गौरव ने रणजी ट्रॉफी जीतने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। उन्होंने टेनिस बाल से क्रिकेट जीवन की शुरुआत की थी, कई समस्याएं भी आई पर गौरव रुके नहीं और आगे बढ़ते गए और आज मध्यप्रदेश का मान बढ़ाया है। गौरव के पिता नरेंद्र यादव ने कहा कि बेटा प्रदेश के लिए ट्रॉफी ला रहा है इससे बड़ी बात क्या होगी।

ग्राउंड पर अकेले अभ्यास से बनाई जगह

बिसोनी कलां निवासी गेंदबाज गौरव यादव के पिता नरेंद्र यादव पुस्तैनी कृषक है एवं मां गृहिणी है। परिवार में कोई ऐसा रोल माॅडल नहीं था। जिसको देखकर गौरव आगे बढ़ सके। परिवार के लोग लेदर बाल से क्रिकेट खेलते थे। टीवी पर मैच देखकर गौरव ने खुद की मेहनत और ग्राउंड पर अकेले अभ्यास करके यह मुकाम हासिल करने में सफल रहा। परिवार के लोग भी कृषक है एक सामान्य परिवार से आने वाले गौरव यादव की इस उपलब्धि पर परिवार के लोग गौरवांवित महसूस कर रहे हैं।

बेहतरीन तालमेल से टीम ने इतिहास रच दिया

मध्यप्रदेश की क्रिकेट टीम ने बेंगलुरू के चिन्नास्वामी स्टेडियम में खेले जा रहे रणजी ट्रॉफी के फाइनल में मुंबई की टीम को मात देते हुए ट्रॉफी पर अपना कब्जा जमा लिया है। रणजी ट्रॉफी के इतिहास में मध्यप्रदेश ने पहली बार जीत हासिल कर आखिर कार 23 साल का सूखा खत्म कर दिया है और इस चमचमाती ट्रॉफी पर अपना नाम सुनहरे अक्षरों से लिख दिया हैं। मध्यप्रदेश की इस बड़ी जीत में कोचिंग स्टाफ से लेकर सभी खिलाड़ियों का योगदान रहा। प्रदेश की इस विजयी टीम के गेंदबाजों में विकेट लेने की भूख पूरे टूर्नामेंट में नजर आई। वहीं, बल्लेबाजों ने भी रनों की बौछार की और दोनों के बेहतरीन तालमेल से इस टीम ने इतिहास रच दिया। टा

सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले खिलाड़ी बनें

एमपी की इस जीत में वैसे तो पूरी टीम का योगदान जबरदस्त रहा लेकिन मध्यम गति के तेज गेंदबाज गौरव यादव ने अपनी गेंदबाज़ी से मुंबई के दिग्गज बल्लेबाज़ों को पटखनी दे दी और इस जीत में सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। गौरव यादव ने इस मैच में दोनों पारियां मिला कर कुल 6 विकेट लिए और वे टीम के लिए सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले खिलाड़ी भी बने। गौरव यादव 30 साल के है और मध्यप्रदेश के नर्मदापुरम् जिले की सिवनी मालवा तहसील के छोटे से गांव बिसोनी कलां के रहने वाले हैं। उनकी इस जीत पर गांव में खुशी का माहौल है।

मैच देखते हुए गौरव का परिवार।
मैच देखते हुए गौरव का परिवार।
खबरें और भी हैं...