घरों से भोजन जुटाकर गरीबों की सेवा:गाडरवारा में छह साल से भूखों का पेट भर रही है रामरोटी सेवा समिति

नरसिंहपुर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

समाजसेवा के लिए किसी विशेष अर्थबल की आवश्यकता नहीं होती है। बस आवश्यकता होती है तो नियत की। नरसिंहपुर में भी एक संस्था है जो नगर की रेलवे स्टेशन पर रहकर गुजर-बसर करने वाले गरीब-वृद्धजनों को बिना किसी आर्थिक मदद के भोजन कराती है। यह भोजन कहीं और से नहीं बल्कि आस-पास के लोगों के घरों से ही एकत्र किया जाता है और फिर उसे गरीबों को खिलाया जाता है।

घर-घर जाकर एकत्रित करते हैं भोजन

संस्था के लोग शाम के समय से क्षेत्र के घरों से रोटी-सब्जी एकत्रित करते हैं और इन गरीबों को बैठाकर दोना-पत्तल लगाकर खाना खिलाते हैं। यह किसी एक मौसम की कहानी नहीं है। कोई भूखा ना रहे उसे भरपेट भोजन कराने के लिए संस्था के लोग गर्मी, सर्दी या बरसात में भी भोजन लेकर पहुंच जाते हैं।

दोना-पत्तल लगाकर खाना खिलाते राम रोटी समिति के सदस्य
दोना-पत्तल लगाकर खाना खिलाते राम रोटी समिति के सदस्य

2015 से शुरू हुआ यह अभियान आज भी जारी है

इस तरह से समाजसेवा को 6 साल हो चुके हैं। छह साल पहले नगर पालिका में कार्यरत विशाल ठाकुर द्वारा शुरू की गई यह मुहिम लाखों जरूरतमंदोें की भूख मिटा चुकी है। 31 दिसम्बर 2015 से शुरू हुआ यह भोजन कराने का जज्बा आज भी जारी है। विशाल की इस मुहिम रामरोटी सेवा समिति को नगर का साथ मिला और अब कई लोग उनकी मदद के लिए सहयोगी बन चुके हैं।

विशाल ठाकुर की इस मुहिम में लोग भी खुलकर योगदान दे रहे हैं। वैवाहिक समारोह से लेकर सालगिरह, जन्मदिन, या फिर तेरहवीं के कार्यक्रम का भोजन जरूरतमंदों की भूख मिटाने के लिए राम रोटी समिति के सदस्यों को दिया जाता है। भोजन से आगे बढ़ अब समिति के सदस्य नगर वासियों के सहयोग से जरूरतमंदों को कम्बल, उनी वस्त्रों का वितरण भी कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...