• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Narsinghpur
  • The District Magistrate Canceled The Fair Organized At Narmada Ghat Due To Corona, Disappointment Among The Traders, The Fair Happened For The First Time

प्राचीन काल से आयोजित होने वाला मेला निरस्त:बरमान घाट पर लगने वाला मेला पहली बार कोरोना के कारण हुआ रद्द, व्यापारियों में निराशा

नरसिंहपुर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

नरसिंहपुर जिले के नर्मदा बरमान घाट पर प्राचीन काल से आयोजित होने वाला मेला कोरोना की स्थिति को देखते हुए रद्द कर दिया गया है। यह मेला प्रतिवर्ष मकर संक्रांति से 15 दिन चलता है जिसमें जिले सहित आसपास के जिलों के लाखों लोग शामिल होते हैं।

इस वर्ष कोरोना वायरस के बढ़ते प्रभाव के कारण मध्य प्रदेश शासन के निर्देशन में कलेक्टर रोहित सिंह ने धारा 144 के तहत जिले में सभी प्रकार के मेले, जिनमें जनसमूह एकत्रित होता है, प्रतिबंधित कर दिया है। जिला प्रशासन ने आदेश देते हुए यहाँ आने वाले व्यापारियों पर प्रतिबंध लगा दिया है और लोगो से कोरोना के चलते सावधानी बरतने की अपील की है।

पूर्व में जारी दुकानों के लाइसेंस भी निरस्त

जारी निर्देशों के परिपालन के लिए पूर्व में जारी सभी दुकानों के लाइसेंस भी निरस्त कर दिए गए हैं। किसी भी प्रकार की नवीन दुकानों को बरमान घाट पर लगाये जाने हेतु लाइसेंस प्रदान नहीं किया जाएगा।

जिले में है कोरोना के 60 एक्टिव केस

जिले में कोरोना कोरोना वायरस के मरीज रोजाना निकल रहे हैं। जिला अस्पताल से मिली जानकारी के अनुसार जिले में एक्टिव केसों की संख्या 60 हो गई है। बढ़ती संक्रमण की संख्या को देखते हुए प्रशासन भी लोगों से मास्क लगाने, सोशल डिस्टेंस का पालन करने और शासन की गाइडलाइन का पालन कराने का प्रयास कर रहा है।

ऐतिहासिक मेला पहली बार हुआ निरस्त, व्यापारियों में निराशा

नरसिंहपुर जिले के बरमान में लगने वाले मेले का इंतजार व्यापारी साल भर करते हैं। जिले सहित जिले के बाहर से व्यापारी यहां आकर अपना व्यापार करते हैं। बरमान के ऐतिहासिक मेले में मुख्य आकर्षण झूले, सर्कस, जादू, मौत के कुआं होते हैं।

इस मेले में श्रद्धालु धार्मिक आस्था नर्मदा की पूजा अर्चना के साथ में मनोरंजन के लिए भी यहां बड़ी संख्या में लोग आते हैं। लेकिन इस बार मेला नहीं लगने से व्यापारियों में मायूसी है। व्यापारियों का कहना है कि प्रतिवर्ष यहां आकर हम व्यापार करते हैं जिससे हमारे परिवार की रोजी-रोटी चलती है लेकिन इस बार मेला नहीं लगने से आर्थिक परेशानियां सामने आएंगी।

खबरें और भी हैं...