• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • A 100 year old Woman Died From Corona In Betul; The Dead Body Was Lying For 6 Hours Among The Patients, There Was Ruckus, And The Volunteers Performed The Last Rites

कोरोना का कहर:बैतूल में कोरोना से 100 साल की महिला ने दम तोड़ा; मरीजों के बीच 6 घंटे पड़ा रहा शव, हंगामा हुआ तो स्वयंसेवियों ने किया अंतिम संस्कार

बैतूलएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बैतूल के जिला अस्पताल का कोविड वार्ड, जहां पर महिला की मौत के बाद हंगामा हो गया था। - Dainik Bhaskar
बैतूल के जिला अस्पताल का कोविड वार्ड, जहां पर महिला की मौत के बाद हंगामा हो गया था।
  • बैतूल जिले में कोरोना से अब तक 6 मौतें हो चुकी हैं, शनिवार को यहां पर रिकॉर्ड 18 नए मरीज मिले

बैतूल जिले में कोरोना का कहर जारी है। यहां के जिला अस्पताल में शनिवार को कोरोना से 100 साल की महिला ने दम तोड़ दिया। मौत के बाद बुजुर्ग का शव कोविड वार्ड में 6 घंटे तक पड़ा रहा। इसके बाद भी जब वहां से शव को नहीं उठाया गया तो वार्ड में भर्ती दूसरे कोरोना पॉजिटिव ने हंगामा कर दिया। उन्होंने कहा कि अगर शव नहीं उठाया गया तो दूसरे लोग कोरोना संक्रमित हो जाएंगे। इसके बाद अस्पताल स्टॉफ ने शव को वहां से उठाया। बाद में स्थानीय अंजुमन कमेटी ने महिला का अंतिम संस्कार कराने की जिम्मेदारी ली तो अस्पताल प्रबंधन ने उन्हें शव सौंप दिया।

जानकारी के मुताबिक कोरोना वार्ड में महिला की शनिवार सुबह 6 बजे मौत हो गई घंटों तक कोरोना वार्ड में ही पड़ा रहा। इस पर कोविड वार्ड में भर्ती मरीजों ने आपत्ति जताई, इसके बाद शव को बाहर निकाला गया। हालांकि जिला अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ अशोक बारंगा ने बताया कि उन्हें 10:30 बजे महिला की मौत होने की जानकारी मिली। तत्काल की महिला के शव को वार्ड से बाहर कर दिया गया। आठनेर निवासी 100 वर्षिय महिला 10 अगस्त को कोरोना पॉजिटिव आई थी जिले उपचार के लिए जिला अस्पताल के कोरोना वार्ड में भर्ती किया था। महिला की शनिवार सुबह उपचार के दौरान मौत हो गई। जिले में कोरोना से यह 6वीं मौत हुई है। वहीं शनिवार को रिकॉर्ड तोड़ 18 कोरोना मरीज मिले हैं।

बैतूल में 100 साल की महिला का अंतिम संस्कार कर दिया गया।
बैतूल में 100 साल की महिला का अंतिम संस्कार कर दिया गया।

परिवार से मिला था महिला को कोरोना

इधर, आठनेर में करीब 10 दिन पहले एक व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिला था। उसकी हालत गंभीर होने पर उसे भोपाल रेफर कर दिया था। यहां पर इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई थी। परिवार के 6 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर इन्हें आठनेर में ही क्वारैंटाइन कर दिया गया था। जबकि 100 वर्षीय महिला की हालत गंभीर होने पर उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया था। बताया जा रहा है कि महिला की इलाज के दौरान शुक्रवार को देर रात को ही हो गया था। रात में कोविड वार्ड में रहने वाले मरीजों ने इस बात को लेकर हंगामा भी मचाया और परिवार को इसकी सूचना भी दी। अस्पताल प्रबंधन ने इस मामले पर रात को कोई कार्रवाई नहीं की और सुबह महिला की मौत की पुष्टि की। महिला के परिवार के सदस्य आठनेर में क्वारैंटाइन हैं। इसके कारण पड़ोसी व अन्य परिजन अंतिम संस्कार के लिए पहुंचे।

परिवार को शव देने से किया इनकार

आठनेर की 100 वर्षीय कोरोना पॉजिटिव महिला की मौत होने के बाद पड़ोसी व अन्य परिजन महिला के अंतिम संस्कार के लिए शव लेने अस्पताल पहुंचे। अस्पताल प्रबंधन ने महिला का शव देने से इंकार कर दिया और अस्पताल प्रबंधन का कहना था कि महिला का शव आठनेर नहीं ले जाया जा सकता। महिला का अंतिम संस्कार बैतूल में ही करना होगा प्रशासन अपनी देखरेख में अंतिम संस्कार कर आएगा।

अंजुमन कमेटी ने संभाली अंतिम संस्कार की व्यवस्था

नगर पालिका प्रशासन के कोरोना नियंत्रण प्रभारी ने शनिवार की सुबह कोठी बाजार जामा मस्जिद कमेटी के अध्यक्ष आरिफ खान को इसकी सूचना दी उन्होंने कहा कि वे महिला को कफन दफन करने की व्यवस्था करवाएं इस पर मस्जिद कमेटी अध्यक्ष ने अपने स्तर पर व्यवस्था बनाई शनिवार को शाम को ही प्रशासन की देखरेख में महिला का कोविड प्रावधान के अनुसार कब्रिस्तान में अंतिम संस्कार किया गया।

खबरें और भी हैं...