• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Barricades In The Markets, However, Do Not Want To Disappoint Customers Due To Being Illicitly Stolen In The Markets Of Morena City.

व्यापारी शटर उचकाकर दे रहे सामान:बाजारों में लगे बेरीकेट्स, फिर भी ​​​​​​​, मुरैना शहर के बाजारों में चोरी-छिपे दिया जा रहा सामान, सहालग होने के कारण ग्राहकों को निराश नहीं करना चाहते दुुकानदार

मुरैना7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • दुकानदार बता रहे ग्राहकों की मजबूरी
  • रात में दे रहे किराना व अन्य सामान

मुरैना। कोरोना संक्रमण के कारण लगे लॉकडाउन की वजह से शहर भर के बाजार बंद हैं। बाजारों में बेरीकेट्स लगा दिए गए हैं। उसके बावजूद दुकानदार नहीं मान रहे हैं। ये दुकानदार दुकानों के शटर उचकाकर सामान देने से बाज नहीं आ रहे हैं।
यह वाकया शहर के लगभग हर बाजार में देखा गया। इन बाजारों में चाहे वह किराने की दुकान हो, कपड़े की हो या फिर जूते-चप्पल की ही क्यों न हो, दुकानदार शटर उचकाकर सामान दे रहे हैं।
ग्राहकों की मजबूरी
कुछ दुकानदारों से जब पूछा गया, तो उन्होंने बताया कि सरकार ने तो लॉकडाउन की घोषणा कर दी है, लेकिन जिस ग्राहक के घर में शादी हैं, उसे तो सामान देना ही पड़ेगा। कुछ ऐसे ग्राहक आ जाते हैं, जो परिचित के होते हैं, उन्हें अगर सामान नहीं दिया तो वे बुरा मान जाएंगे और संबंध खराब होंगे।

सिकरवारी मार्केट में लगे बेरीकेट्स
सिकरवारी मार्केट में लगे बेरीकेट्स

पुलिस वाले भी नहीं रोकते
अहम बात यह है कि पुलिस के कुछ अधिकारी व जवान इस बात को भली-भांति जानते हैं कि फलां दुकानदार शटर उचकाकर सामान दे रहा है, लेकिन उसके बावजूद वे उसे अधिक रोकते-टोकते नहीं। इसका एक प्रमुख कारण यह भी है कि बीते दिनों एक आरक्षक ने जब सब्जी बेचने वालों को रोका तो उन्होंने उसके साथ मारपीट कर दी।
किसी न किसी नेता से जुड़ा है हर व्यापारी
जब इस संबंध में कुछ पुलिस वालों से पूछा तो उन्होंने बताया कि हर व्यापारी किसी न किसी बड़े नेता या अफसर से जुड़ा हुआ है। अगर किसी व्यापारी को रोकते हैं, तो किसी नेता या अफसर का फोन आ जाता है। इसलिए वे चाहते हैं कि लोग भी परेशान न हों और सरकार के आदेशों का भी पालन होता रहे।
रात के समय निकालते सामान
इन दिनों सहालग चल रही है। हर शादी वाले घर को किराने का सामान चाहिए। इसलिए लोगों को अधिक सामान की जरूरत होती है। वे रात में ग्राहक को दुकान के अन्दर बुला लेते हैं और शटर बंद करके पूरा सामान उसके सामने तौल देते हैं, उसके बाद रात में ही सामान निकाल देते हैं। कुछ दुकानदार तो सीधे गोदाम से ही सामान दे रहे हैं। उनके गोदाम कुछ दूरी पर गलियों मेें बने हुए हैं।
दिखावे के रह गए बेरीकेट्स
पुलिस ने शहर भर में बेरीकेट्स लगा रखे हैं। यह बेरीकेट्स केवल दिखावे के रह गए हैं। सड़कों पर बराबर आवागमन हो रहा है और बाजारों में भी रात के समय या दिन में जैसे भी मौका लगता है,सामान की सप्लाई हो रही है।

खबरें और भी हैं...