• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal Habibganj Train Update | Jabalpur JBP Janshatabdi Express Arrives With 456 Passengers as MP GOVT Extends Lockdown Till June 30

दो महीने बाद फिर से पटरी पर जिंदगी / जबलपुर से 456 यात्रियों को लेकर आई जनशताब्दी, हबीबगंज में उतरे 342 यात्री, घर जाने की जल्दी में सोशल डिस्टेंसिंग भूले

दो महीने बाद सोमवार से ट्रेनों का संचालन शुरू हो गया। हबीबगंज रेलवे स्टेशन पर बाहर निकलने की जल्दी में लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना भूल गए।
X

  • देश में 200 ट्रेनों का संचालन, भोपाल और हबीबगंज रेलवे स्टेशन से गुजरेंगी 28 ट्रेनें, भोपाल एक्सप्रेस और जनशताब्दी ट्रेनें यहां से चलेंगी
  • स्टेशन पर थर्मल स्क्रीनिंग के साथ एक-एक कर निकाले गए यात्री, बाहर जाने के लिए दो एक्जिट प्वाइंट बनाए गए थे

दैनिक भास्कर

Jun 02, 2020, 08:08 AM IST

भोपाल. दो महीने के लंबे इंतजार के बाद एक बार फिर से जिंदगी पटरी पर लौट आई। सोमवार (1 जून) से देशभर में 200 ट्रेनों (100 जोड़ी) का संचालन शुरू हो गया। इन 200 ट्रेनों में भोपाल और हबीबगंज रेलवे स्टेशन से 28 ट्रेनें गुजरेंगी। सोमवार को भोपाल में पहली ट्रेन जबलपुर से जनशताब्दी एक्सप्रेस सुबह अपने निर्धारित समय 11 बजे 456 यात्रियों को लेकर हबीबगंज स्टेशन पहुंची। जबलपुर में फंसे लोग दो महीने बाद अपने घर पहुंचे और राहत की सांस ली।

जनशताब्दी 456 यात्रियों को लेकर जबलपुर से चली। यहां हबीबगंज स्टेशन पर 342 यात्री उतरे। लोगों के चेहरे पर घर लौटने की खुशी थी, लेकिन चिंता इस बात की थी कि वह घर कैसे पहुंचेंगे, क्योंकि भोपाल में पब्लिक ट्रांसपोर्ट पूरी तरह से बंद हैं और 42 डिग्री के तापमान में पैदल चलकर घर पहुंचना बेहद मुश्किल था। इसके बाद भी तमाम लोग सामान लेकर पैदल ही चल पड़े। 

जबलपुर से भोपाल के हबीबगंज स्टेशन पर उतरे यात्री।

यात्रियों को लेने पहुंचे परिजनों को अंदर जाने पर रोक 
ट्रेन हबीबगंज स्टेशन पहुंची तो यात्रियों को लेने उनके परिजन पहुंचे, लेकिन उन्हें अंदर जाने की अनुमति नहीं थी, बाहर आने का इंतजार किया। यात्रियों ने सावधानी के तौर पर चेहरे पर मास्क और हाथों में ग्लव्स और कम सामान के साथ पहुंचे थे। कई यात्रियों ने फेस शील्ड भी लगा रखे थे। स्टेशन पर बैठने की व्यवस्था की गई थी, लेकिन कोई भी यात्री वहां बैठा नहीं। एक यात्री को बाहर आने में दो-तीन मिनट लगे। यात्रियों की स्वास्थ्य विभाग की टीम ने थर्मल स्क्रीनिंग की गई। यात्रियों को सोशल डिस्टेंसिंग के साथ कतार में गोले घेरे पर खड़ा किया गया। एक-एक कर यात्रियों को बाहर आने दिया गया। स्टेशन पर यात्रियों से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए अनाउंसमेंट लगातार किया जा रहा है। 

जबलपुर से चली जनशताब्दी ट्रेन से बाहर उतरते यात्रियों ने सावधानी बरती। यात्रियों ने चेहरे पर मास्क लगाया था।  

आरपीएफ और जीआरपी कराती रही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन  
जीआरपी और आरपीएफ के जवान लोगों को हाथ सैनिटाइज करने और सोशल डिस्टेंस बनाकर खड़े होने की अपील करते रहे। हालांकि, भोपाल पहुंचे यात्रियों को घर जाने की इतनी जल्दी थी कि वह ट्रेन से उतरने के बाद बाहर निकलने की जल्दी में एक-दूसरे को धक्का देते हुए निकल रहे थे। यहां पर सोशल डिस्टेंसिंग गायब रही। 

सावधानियों के साथ लोग अपने बच्चों को भी साथ लेकर आए।  

घर जाने की जल्दी में सोशल डिस्टेंसिंग भूले 
स्टेशन से बाहर निकलने के लिए प्लेटफार्म एक से ही व्यवस्था की गई। दो अलग-अलग गेट बनाए गए, जिसमें यात्रियों को थर्मल स्क्रीनिंग के बाद बाहर निकलने दिया गया। रेलवे प्रशासन ने दावा किया था ट्रेन से उतरने के बाद यात्रियों में घर जाने की जल्दबाजी दिखी, जिसका नतीजा यह रहा कि गेट पर सभी यात्री आम दिनों की तरह ही एक-दूसरे के करीब नजर आए। हालांकि बीच-बीच में पुलिस और कर्मचारी लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए बाहर निकलने की चेतावनी देते रहे, लेकिन इसका यात्रियों पर ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ा।

ट्रेनों के नंबर में शुरुआत में एक की जगह होगा जीरो 
इन ट्रेनों को नियमित ट्रेनों की जगह स्पेशल ट्रेन के रूप में चलाया जा रहा है। जिसके कारण इनका नंबर जिसका प्रथम अंक एक है उसकी जगह जीरो लगाकर यात्रियों को ऑनलाइन बुक करना होगा। रेलवे बोर्ड ने जिन 200 ट्रेनों को शुरू करने का निर्णय लिया है उनकी लिस्ट जारी कर दी है।

नायक रामगोपाल ने भास्कर को बताया कि लॉकडाउन के दौरान जबलपुर में फंस गया था।

खुद को ही बरतनी होगी ऐहतियात 

खुद के साथ पूरे सामान को कैरी बैग से कवर करे हुए हबीबगंज स्टेशन पर पहुंचे नायक रामगोपाल ने भास्कर को बताया कि लॉकडाउन के दौरान जबलपुर में फंस गया। सरकार सिर्फ गाइडलाइन जारी कर सकती है और कुछ सख्ती कर सकती है, लेकिन हमें अपना ख्याल खुद की रखना होगा। मैंने खुद को सुरक्षित रखने के लिए खुद के साथ अपने सामान को भी कैरी बैग से ढक रखा है। इसके अलावा पूरे शरीर को कवर किया है। कोशिश करता हूं कि किसी भी कारण से लोगों के संपर्क में आने से बच सकूं।

जॉब पर लौटना था, इसलिए बच्चों को साथ लाने का रिस्क लिया

माध्यमिक शिक्षा मंडल में जॉब करने वाले दिनेश गिरी ने भास्कर को बताया कि परिवार के साथ  20 मार्च से जबलपुर में फंसे हुए थे। बच्चे घर आने की जिद करते थे। पत्नी और मुझे घर की चिंता थी, क्योंकि हम दो-तीन दिन के लिए ही जबलपुर आए थे। जॉब पर लौटना था, इसलिए बच्चों को साथ लाने का रिस्क लिया है। स्टेशन पर तो आ गए, लेकिन चिंता इस बात की है कि घर कैसे पहुंचेगे। कुछ भी समझ नहीं आ रहा है। 

टिकट कैंसिल कराने 3 घंटे से लाइन में लगा हूं

भाई की शादी में शामिल होने के लिए स्टूडेंट अनुराग द्विवेदी ने रीवा के लिए टिकट बुक कराया था, लेकिन फिर टिकट कैंसिल हो गया। सोमवार सुबह 3 घंटे से टिकट कैंसिलेशन की लाइन में लगा हुआ हूं, लेकिन अब तक नंबर नहीं आया। कोई कुछ बताने के लिए भी नहीं है। बस लाइन में लगे हुए हैं। 

घर जाने की जल्दी में लोग सोशल डिस्टेंसिंग भूल गए। 

ऐसी व्यवस्था में तो कोरोना नहीं रुकने वाला 

ट्रेन से आने यात्रियों के अलावा हबीबगंज स्टेशन पर टिकट कैंसिल कराने वाले यात्रियों की काफी संख्या थी। कई यात्री तो तीन-तीन घंटे से लाइन में लगे हुए थे। दैनिक भास्कर से बातचीत में जीके राउ ने बताया कि घंटों से लाइन पर लगे हुए हैं। सरकार कह रही है कि घर पर रहो, लेकिन यहां तो घंटों खड़ा करके रखा जा रहा है। न तो कोई सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो रहा है और न कोई और अन्य इंतजाम हैं। सीनियर सिटीजन के लिए भी कोई अलग व्यवस्था नहीं है। 

दूसरी इंट्री पर गाड़ी, बच्चों को लेकर कैसे जाएं

हबीबगंज स्टेशन पर यात्रियों के लिए सिर्फ प्लेटफार्म नंबर-1 की तरफ से ही आने की व्यवस्था की गई है। ऐसे में कई यात्री सेंकड इंट्री तक न जा पाने के कारण परेशान होते रहे। परविार के साथ्इ भोपाल पहुंचे सुरेश नामदेव ने बताया कि बच्चे और पत्नी साथ में है। गाड़ी स्टेशन की दूसरी तरफ है। अब वहां कैसे जाएं, समझ नहीं आ रहा। बेटी को चलने में परेशानी हो रही है। कोई वाहन भी नहीं मिला है। क्या करें। 

भोपाल से शुरू होने व गुजरने वाली 28 ट्रेनें 14 जोड़ी

ट्रेन नंबर  ट्रेन  कहां से  कहां तक
02155—56  भोपाल एक्सप्रेस भोपाल  हजरत निजामुद्दीन, दिल्ली  
02061—62 जनशताब्दी  जनशताब्दी हबीबगंज
01016—15 कुशीनगर एक्सप्रेस गोरखपुर एलटीटी, मुंबई
01071—72 कामायनी एक्सप्रेस बनारस एलटीटी, मुंबई
02618—17   मंगला एक्सप्रेस हजरत निजामुद्दीन  एर्नाकुलम, केरल 
02533—34 पुष्पक एक्सप्रेस एलटीटी, मुंबई  लखनऊ 
02630—29 निजामुद्दीन-यशवंतपुर संपर्क क्रांति हजरत निजामुद्दीन  यशवंतपुर 
02715—16 सचखंड एक्सप्रेस नांदेड़  अमृतसर 
02724—23 तेलंगाना एक्सप्रेस नई दिल्ली हैदराबाद 
28806—05 एपी एक्सप्रेस  नई दिल्ली विशाखापत्तनम 
02541—42 एलटीटी- गोरखपुर एलटीटी, मुंबई  गोरखपुर
02283—84 दूरंतो एक्सप्रेस  हजरत निजामुद्दीन एर्नाकुलम
02285-86 दूरंतो एक्सप्रेस  सिकंदराबाद हजरत निजामुद्दीन
02779—80 गोवा एक्सप्रेस हजरत निजामुद्दीन  वास्कोडिगामा 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना