• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Brainstorming On Investigation And Intelligence; Experts From India And Abroad Will Share Case Studies,

साइबर क्राइम समिट का गृह मंत्री ने किया शुभारंभ:विचारों के आदान-प्रदान से अपराधों पर लगेगी रोकथाम, केस स्टडी साझा करेंगे देश-विदेश के एक्सपर्ट

मध्य प्रदेश4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
10 दिनों तक चलेगी समिट। - Dainik Bhaskar
10 दिनों तक चलेगी समिट।

मध्यप्रदेश के गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने पुलिस अधिकारियों के सायबर क्राइम और आईटी अपराधों की विवेचना एवं रोकथाम के लिये कौशल उन्नयन की 10 दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय समिट का मंगलवार को वर्चुअल शुभारंभ किया। अन्तर्राष्ट्रीय समिट का शुभारंभ करते हुए डॉ. मिश्रा ने कहा कि देश-काल और परिस्थितियों अनुसार अपराध करने के तौर-तरीकों में बदलावा आया है। आईटी का उपयोग कर किये जाने वाले अपराध, सायबर अपराध बढ़ने और इनसे निपटने के पुख्ता तौर-तरीकों की आवश्यकता निरंतर महसूस की जा रही है।

आशा है कि इस समिट के द्वारा सायबर अपराध से उत्पन्न हो रही चुनौतियों से सभी अवगत होंगे, आधुनिक तकनीकों से परिचित होंगे, सभी के कौशल उन्नयन में मदद मिलेगी। डॉ. मिश्रा ने कहा कि विचारों के आदान-प्रदान से समिट में निश्चित ही अमृत निकलेगा, जो अपराधों की रोकथाम में मददगार साबित होगा।

शुभारंभ सत्र में पूर्व सीबीआई निदेशक ऋषि कुमार शुक्ला, महानिदेशक पुलिस विवेक जौहरी, स्पेशल डीजी (ट्रेनिंग) अरूणा मोहन रॉव ने भी संबोधित किया। डीजीपी रिसर्च एण्ड पॉलिसी सेल, मध्यप्रदेश द्वारा आयोजित सायबर क्राइम इन्वेस्टीगेशन एवं इंटेलिजेंस समिट (CIIS) 2021 में यूनिसेफ, क्लीयर ट्रेल और सॉफ्ट क्लिक्स भी सहयोगी हैं। पुलिस अकादमी भौरी में सायबर क्राइम एन्वेस्टीगेशन एण्ड इंटेलिजेंस समिट (CIIS) के सहयोगी यूनिसेफ प्रतिनिधि लौली चैन, वाइस प्रेसिडेंट एण्ड को-फाउंडर क्लीयर टेल मनोहर कटौच, सॉफ्ट क्लिक्स फाउंडेशन से केश जैन और निदेशक मध्यप्रदेश पुलिस अकादमी राजेश चावला उपस्थित रहे। गृह मंत्री डॉ. मिश्रा को एआईजी ट्रेनिंग इरमिन शाह ने प्रतीक चिन्ह भेंट किया। पुलिस अकादमी भौरी में डीआईजी प्रशिक्षण विनीत कपूर ने अतिथियों को प्रतीक चिन्ह भेंट किये। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (सायबर सेल) योगेश देशमुख ने आभार व्यक्त किया।

समिट का तीसरा साल

पुलिस अकादमी भौंरी के उपनिदेशक विनीत कपूर ने बताया कि इस प्रकार की समिट का यह तीसरा साल है। कोरोना संकट के चलते ऑनलाइन होने वाले आयोजन में इस बार 30 से ज्यादा राज्यों व अंतराराष्ट्रीय स्तर के 2500 से अधिक अफसरों और एक्सपर्ट शामिल हो रहे हैं। समिट में अमेरिका, ब्रिटेन, सिंगापुर से इंटरपोल सहित केरल, तमिलनाडु आदि राज्यों सहित मध्य प्रदेश के पुलिस अधिकारी वर्जुअली जुड़ेंगे।

इस समिट का आयोजन एमपी पुलिस की रिसर्च एंड पालिसी सेल द्वारा सॉफ्ट क्लिक्स, क्लियरट्रेल टेक्नोलॉजी (नॉलेज पार्टनर) एवं यूनिसेफ के संयुक्त तत्वाधान में किया जा रहा है। समिट में एक सत्र उन राज्यों (जैसे झारखंड, यूपी व पश्चिम बंगाल ) के डीजीपी के लिए रहेगा, जहां साइबर अपराध अधिक हो रहे हैं।

समिट में आनलाइन गेमिंग और गेंबलिंग (जुआ), क्रिप्टो करेंसी (आभासी मुद्रा) और क्रिप्टो-ट्रेड अपराधों जैसे महत्वपूर्ण विषयों के साथ वित्तीय धोखाधड़ी, अपराधों को सुलझाने जैसे विषयों पर मंथन किया जाएगा। साइबर क्षेत्र से जुड़े वरिष्ठ विधि विशेषज्ञ भी इसमें मार्गदर्शन देंगे। नए कानूनों के संदर्भ में साइबर अपराधों पर चर्चा की जाएगी। साइबर अपराध के चर्चित मामलों को राज्य एक-दूसरे के साथ साझा भी करेंगे।समिट में महिलाओं और बच्चों के साइबर अपराध से बचाव संबंधी विषयों पर यूनिसेफ के वरिष्ठ प्रतिनिधियों द्वारा प्रतिभागियों से विमर्श किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...