पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Deepak Got The Vaccine In 3 Days Ration Ration; Now Only One And A Half Kilos Of Flour And Four Fists Of Rice At Home

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुफलिसी का सितम:3 दिन के राशन की जुगाड़ में दीपक ने लगवाया था टीका; अब घर में सिर्फ डेढ़ किलो आटा और चार मुट्‌ठी चावल

भोपाल9 दिन पहलेलेखक: अलीम बजमी
  • कॉपी लिंक
दीपक मरावी की पत्नी और उनके घर में बचा हुआ सामान - Dainik Bhaskar
दीपक मरावी की पत्नी और उनके घर में बचा हुआ सामान
  • वैक्सीन लगवाने के 9 दिन बाद जान गंवाने वाले दीपक के बेटे के दिल में छेद, पत्नी को सांस की बीमारी

मुफलिसी का सितम। रोटी की जुगाड़ का तकाजा। घर चलाने की मजबूरी। ऐसे में आदिवासी मजदूर दीपक मरावी ने 750 रुपए के लालच में कोविड का टीका लगवा लिया। मकसद था कि इन रुपयों से घर में दो-तीन दिन तक की दाल-रोटी का जुगाड़ हो जाएगा।

दीपक ने सोचा भी नहीं होगा कि उसका यह कदम भारी पड़ेगा। इसके बाद उसकी ऐसी तबीयत बिगड़ी कि 10 वें दिन (21 दिसंबर) उसकी मौत हो गई। टीला जमालपुरा की सूबेदार कॉलोनी में पांडेजी की संकरी गली में रहने वाले दीपक के घर मातम है। वह यहां किराए से रहता था। मुश्किल से 10 बाय 12 के कमरे में उसका पूरा परिवार रहता है। जरूरत के सामान के नाम पर कुछ बर्तन और बिस्तर हैं। पत्नी वैजयंती (38) का पति दीपक के गम में बुरा हाल है।

21 दिसंबर से पड़ोसियों के घर से ही आ रहा है खाना

घर में 21 दिसंबर से खाना नहीं बना है। पड़ोसी ही दीपक के यहां खाना भेज रहे हैं। वैजयंती को चिंता है कि वो गृहस्थी का बोझ कैसे उठा पाएगी। खुद गैस पीड़ित होने के साथ श्वांस रोगी है। उसने सोच रखा है कि वो लोगों के घर में झाड़ू-पोंछा करके रोटी का तो जुगाड़ कर लेगी। तीन बच्चे सूरज (20), आकाश (17) और पवन (10) है। इनमें सूरज और आकाश शिक्षित नहीं है। पवन के दिल में छेद है, इसलिए वह चल फिर नहीं सकता।

21 दिसंबर को मौत, 7 जनवरी को मिली पीएम रिपोर्ट

वैजयंती के मुताबिक कि पीएम हुआ, लेकिन हमें रिपोर्ट लेने के लिए कई बार चक्कर लगाना पड़े। आखिर 7 जनवरी को पीएम रिपोर्ट मिली। वैजयंती एवं उसके बेटे आकाश का आरोप है कि जब पीएम हो रहा था, तब पीपुल्स के डॉक्टर मोर्चरी के अंदर थे। उन्होंने रिपोर्ट में कुछ हेरफेर कराया है, ताकि सच सामने न आ सके।

पत्नी का दावा, मेरे पति स्वस्थ थे

वैजयंती के मुताबिक भले ही रुखी-सूखी खाते थे, लेकिन मेरे पति स्वस्थ थे। वजनी चीजें उठा लेते थे। उन्हें मजदूरी का काम मिलता था। गुजर बसर ठीक चल रही थी। उन्होंने ने बताया कि कलेक्टर ने 25 हजार का चैक भिजवाया है। लेकिन बैंक में खाता नहीं है। अब खाता खुलवाऊंगी।

पिता ने छोटे भाई को बताया था

बेटे आकाश की मानें तो पिताजी को पीठे पर पता लगा था कि वैक्सीन लगवाने पर 750 रुपए मिलेंगे। घर में ये बात उन्होंने सिर्फ छोटे बेटे पवन को बताई थी। तबीयत बिगड़ने पर इलाज का खर्च नहीं होने के कारण वैक्सीन लगवाने के बाद वे अस्पताल नहीं गए।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपने अपनी दिनचर्या से संबंधित जो योजनाएं बनाई है, उन्हें किसी से भी शेयर ना करें। तथा चुपचाप शांतिपूर्ण तरीके से कार्य करने से आपको अवश्य ही सफलता मिलेगी। परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थल पर ज...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser