• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Amarnath Yatra 2022; Madhya Pradesh Devotees On Amarnath Cloudburst Conditions

हर पल बदल रहा मौसम, ऑक्सीजन की भी कमी...:भोपाल के श्रद्धालु ने अमरनाथ के हालात बताए; कहा- दुकानदारों ने टेंट में दिया आसरा

भोपाल5 महीने पहले

जम्मू-कश्मीर में शुक्रवार शाम 5:30 बजे अमरनाथ गुफा के पास भारी बारिश से 13 लोगों की मौत हो गई। 48 घायल हैं और 40 से ज्यादा लापता हो गए। अमरनाथ में भोपाल के श्रद्धालु भी फंसे हैं। इनमें गुलमोहर कॉलोनी निवासी विवेक कुमार यादव भी शामिल हैं। विवेक अपने दिल्ली के दोस्तों के साथ अमरनाथ गए हैं। वह शुक्रवार शाम को बादल फटने की घटना के बाद से वहीं फंसे हैं। विवेक ने दैनिक भास्कर को बताया कि वहां के हालात नाजुक हैं।

विवेक कहते हैं कि सारे टेंट फुल हो चुके हैं। सबको बोल दिया गया है कि एक साथ रहिए। कोई बाहर नहीं जाएगा। सोना नहीं है, जगते रहना है। यहां पर काफी लोग हताहत हुए हैं। विवेक ने बताया कि सभी लोगों को पंचतरणी जाने के लिए बोल दिया है, लेकिन पंचतरणी जाने का रास्ता काफी दुर्गम है। थोड़ी सी भी गलती हुई तो सीधे खाई में गिर सकते हैं।

विवेक कहते हैं कि यहां पर दुकानदारों ने अपने टेंट में रुकने की जगह दी है। ऑक्सीजन की कमी है। इस कारण लोगों की तबीयत खराब हो रही है। दुकानदार खाने की व्यवस्था करा रहे हैं। यहां स्थिति खराब है। न कोई जा सकता है और न कोई आ सकता है। यहां हर पल मौसम बदल रहा है। हम लोग तंबू में हैं। यहां लेटने की व्यवस्था भी नहीं है। देखते हैं ये लोग कहां का रास्ता खोलते हैं। पंचतरणी का खोलते हैं और मौसम साफ होता है तो पंचतरणी जाएंगे। नहीं तो बालकोट जाएंगे।

श्रद्धालुओं को दुकानदारों ने टेंट में रुकने की जगह दी है।
श्रद्धालुओं को दुकानदारों ने टेंट में रुकने की जगह दी है।

MP के 500 से ज्यादा यात्री फंसे
अमरनाथ यात्रा पर गए भोपाल के 150 और मध्यप्रदेश के 500 से ज्यादा यात्री वहां फंसे हुए हैं। भोपाल के ओम शिव शक्ति मंडल के सचिव रिंकू भटेजा ने बताया कि भोपाल के सभी यात्री सुरक्षित हैं। वे भवन से 3 से 8 किलोमीटर की दूरी पर हैं। शेषनागर, पंचतरणी, पहलगांव और बालटाल में रुके हैं। अशोका गार्डन में रहने वाले अनिल तिवारी से भी बात हुई है। वह 15 यात्रियों के साथ शेषनाग में रुके हैं। उन्होंने बताया कि रातभर पहलगांव में बारिश हुई है। इसलिए यात्रा आगे नहीं बढ़ पा रही है और न ही वापस आने दिया जा रहा है।

घटना पर CM शिवराज ने जताया दुख

CM शिवराज सिंह ने पवित्र अमरनाथ गुफा में फंसे श्रद्धालुओं की कुशलता की कामना की है। उन्होंने अमरनाथ गुफा के पास अचानक आई बाढ़ में श्रद्धालुओं की असमायिक मृत्यु पर दुख व्यक्त किया है। उन्होंने दिवंगत आत्माओं की शांति और उनके परिजन को यह गहन दुख सहन करने की शक्ति प्रदान करने की भगवान से प्रार्थना की है।

पहाड़ों के बीच तेजी से पानी बहकर टेंटों के बीच से निकला और उसकी चपेट में आकर कई टेंट बह गए।
पहाड़ों के बीच तेजी से पानी बहकर टेंटों के बीच से निकला और उसकी चपेट में आकर कई टेंट बह गए।
इस साल अमरनाथ यात्रा 30 जून से शुरू हुई है, कोरोना के चलते पिछले दो साल से यात्रा नहीं हो सकी थी। -फाइल फोटो।
इस साल अमरनाथ यात्रा 30 जून से शुरू हुई है, कोरोना के चलते पिछले दो साल से यात्रा नहीं हो सकी थी। -फाइल फोटो।

हेल्पलाइन नंबर जारी

मध्यप्रदेश के नागरिक, जो अमरनाथ में फंसे हुए हैं, उनकी जानकारी और मदद के लिए मध्यप्रदेश शासन ने हेल्पलाइन नंबर जारी किए गए हैं

  • मध्यप्रदेश के शहरों से जानकारी और मदद के लिए 181
  • मध्यप्रदेश के बाहर से फोन लगाने के लिए 07552555582 पर संपर्क कर सकते हैं

अमरनाथ में बादल फटा:15 श्रद्धालुओं की मौत, 45 लापता; तीर्थयात्रियों को पंचतरणी लाया गया, हेल्पलाइन नंबर जारी, राहत-बचाव में जुटी एयरफोर्स