पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Dhal Singh Had Said Has Asked The Forest Department For Wood In The Crematorium, People Said Could Not Get Medicine oxygen

BJP सांसद के ट्वीट पर मचा बवाल:ढाल सिंह ने कहा था- श्मशान में लकड़ियों के लिए वन विभाग के अधिकारियों से कहा है, लोग बोले- दवा-ऑक्सीजन तो दिलवा नहीं सके

बालाघाट2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सांसद ने सफाई दी है कि घर पर रह कर स्वास्थ्य सुविधाओं का ध्यान रख रहा हूं। - Dainik Bhaskar
सांसद ने सफाई दी है कि घर पर रह कर स्वास्थ्य सुविधाओं का ध्यान रख रहा हूं।
  • सोशल मीडिया पर हुई किरकिरी के तीन घंटे बाद कर दिया डिलीट

सिवनी-बालाघाट संसदीय क्षेत्र के भाजपा सांसद डॉ. ढालसिंह बिसेन द्वारा बुधवार को सोशल मीडिया पर किए गए ट्वीट पर बवाल मचा। उन्होंने क्षेत्र के चिताओं के लिए लकड़ी की व्यवस्था करने के लिए कहा था। इस पर लोगों का गुस्सा फूट पड़ा।

यूजर्स ने कहा है- 'ऑक्सीजन और दवा तो दिलवा नहीं सके, अब लकड़ी का इंतजाम कर रहे हैँ।' विवाद बढ़ने और किरकिरी के करीब तीन घंटे बाद इसे डिलीट करना पड़ा। इसके बाद नया ट्वीट किया, जिसमें मुख्यमंत्री कार्यालय से चर्चा कर कोविड से जुड़ी दवाओं, इंजेक्शन और ऑक्सीजन उपलब्ध कराने का आग्रह किए जाने का उल्लेख था।

सीसीएफ (बालाघाट) नरेन्द्र कुमार सनोडिया ने पुष्टि की, सांसद बिसेन ने वारासिवनी के मेंढकी और बालाघाट के गायखुरी में लकड़ी के प्रबंध के लिए निर्देशित किया था। रेंजर को कह कर वहां दो ट्रॉली लकड़ी भेज दी गई है।

सांसद ढाल सिंह ने ये ट्वीट किया था।
सांसद ढाल सिंह ने ये ट्वीट किया था।

यूजर्स बोले- लकड़ी नहीं बेड और ऑक्सीजन दिलवाइए
सांसद बिसेन के ट्वीट पर यूजर्स ने उन्हें यह कहते हुए ट्रोल किया कि, 'अस्पतालों में कोरोना मरीजों के लिए बेड और ऑक्सीजन का प्रबंध नहीं कर पाए। महीने भर से जारी कोरोना के तांडव के बीच एक बार भी सांसद ने न तो स्वास्थ्य व्यवस्थाओं का जायजा लिया और न ही आपात बैठक बुला कर स्थिति पर काबू पाने का प्रयास किया। अब दूरदर्शिता दिखाते हुए श्मशान घाट में लकड़ी का इंतजाम कर रहे हैं।'

महीने भर से नदारद हैं सांसद
लोगों का कहना है कि 25 मार्च के बाद जिले के शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना बेकाबू है। बावजूद पिछले एक महीने में सांसद बिसेन ने न तो जिले की स्वास्थ्य सुविधाओं की हकीकत जानने की जहमत उठाई, न ऑक्सीजन, बेड समेत अन्य संसाधनों की पूर्ति के लिए प्रयास किए। वे महीने भर से नदारद हैं।

सांसद बोले- मानवता के नाते लकड़ियां उपलब्ध करवाईं

वहीं, सांसद डॉ. ढाहसिंह बिसेन का कहना है कि ग्रामीणों ने अंतिम संस्कार के लिए लकड़ियां उपलब्ध कराने आग्रह किया था। मानवता के नाते संबंधित अधिकारी से संपर्क कर लकड़ियां उपलब्ध कराईं। मेडिसिन, ऑक्सीजन समेत अन्य सुविधाओं के लिए लगातार उच्च अधिकारियों से संपर्क में हूं। मेरे घर में ज्यादातर सदस्य व ड्राइवर कोरोना संक्रमित हैं, इसलिए अपनी और दूसरों की सुरक्षा के लिए घर पर रह कर स्वास्थ्य सुविधाओं को सुचारू बनाए रखने के प्रयास कर रहा हूं।

खबरें और भी हैं...