पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Digvijay Singh Article 370 Revoke Vs Younger Brother Laxman Singh: Madhya Pradesh Laxman Singh On Congress General Secretary Statement

कश्मीर पर बंटा दिग्विजयी परिवार:छोटे भाई लक्ष्मण ने कहा- कश्मीर में धारा 370 वापस लागू करना संभव नहीं, बहू रूबीना बोलीं- कश्मीरी पंडितों और आरक्षण पर उनके बयान दुर्भाग्यपूर्ण

भोपाल3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के जम्मू-कश्मीर में दोबारा आर्टिकल 370 लागू करने के बयान को लेकर सियासी घमासान मचा हुआ है। भाजपा के इस बयान पर प्रतिक्रिया देने के बाद अब दिग्विजय सिंह के छोटे भाई लक्ष्मण सिंह ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि कश्मीर में दोबारा धारा 370 लागू करना संभव नहीं है। हां लेकिन सच यह भी है कि धारा 370 का समर्थन करने वाले फारूख अब्दुल्ला NDA की सरकार में मंत्री रह चुके हैं, जबकि महबूबा मुफ्ती का समर्थन भाजपा कर चुकी है। लक्ष्मण पहले भी अपनी ही पार्टी कांग्रेस के खिलाफ बयान जारी कर चुके हैं।

लक्ष्मण पहले भी विरोधी बयान को लेकर चर्चा में रहे

इससे पहले लक्ष्मण ने कहा था कि अगर 100 करोड़ रुपए प्रतिमाह मुंबई पुलिस के माध्यम से महाराष्ट्र के गृहमंत्री वसूल रहे हैं और यह सच है तो देशमुख 'देश" के 'मुख" नहीं हो सकते। लगता है महा अघाड़ी सरकार पिछड़ती जा रही है। कांग्रेस को समर्थन वापस लेना चाहिए।

इससे पहले लक्ष्मण किसान कर्ज माफी पर राहुल गांधी को ही कटघरे में खड़ा कर चुके हैं। उन्होंने कहा था कि राहुल को किसानों का कर्ज 10 दिन में माफ करने का वादा नहीं करना चाहिए था। कमलनाथ सरकार अपना वादा पूरा नहीं कर पाई, इसलिए हाथ जोड़कर गलती मान लेनी चाहिए।

MP में कांग्रेस-भाजपा आमने-सामने:दिग्विजय ने कहा- कांग्रेस सरकार आई तो कश्मीर में धारा 370 लागू करेंगे; शिवराज बोले- कांग्रेस का हाथ पाकिस्तान के साथ, बीडी शर्मा ने गृहमंत्री को लिखा पत्र

लक्ष्मण सिंह की पत्नी रूबीना सिंह ने भी निशाना साधा
लक्ष्मण सिंह की पत्नी रूबीना सिंह ने भी दिग्विजय सिंह के बयान को अनावश्यक बताया। उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा कि कश्मीरी पंडितों और तथाकथित आरक्षण के बारे में बोले गए शब्द दुर्भाग्यपूर्ण हैं। यह सब सीमा पार के एक पत्रकार से कहा गया। एक ऐसा राष्ट्र जिसने हमें शांति से रहने नहीं दिया। मानो हमने पर्याप्त कष्ट नहीं उठाया हो। हानिकारक और अनावश्यक। बता दें कि रूबीना सिंह कश्मीरी पंडित हैं। वे कैंसर पीड़ितों की काउंसलिंग भी करती हैं।

बेटे जयवर्धन न तो सहमत और न असहमत

दिग्विजय सिंह के बेटे जयवर्धन सिंह उनके बयान से न तो सहमत दिखे और न असहमत। उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा कि अगल चुनाव आर्टिकल 370 पर नहीं बल्कि बढ़ती महंगाई, बेरोजगारी और कोरोना के कारण देश में जो तबाही हुई है, इन मुद्दों पर लड़ा जाएगा।

दिग्विजय ने लोगों को अनपढ़ तक कहा

उधर, पाकिस्तान के पत्रकार को दिए बयान के बाद विवाद खड़ा होने पर दिग्विजय ने लिखा कि अनपढ़ लोगों की जमात को Shall और Consider में फर्क शायद समझ में नहीं आता है। हालांकि उनके इस बयान पर लोगों ने तीखी प्रतिक्रिया दी। इससे पहले क्लब हाउस पर चैट के दौरान दिग्विजय ने कहा था कि मुस्लिम बहुल राज्य में एक हिंदू राजा था। दोनों ने साथ काम किया। दरअसल, कश्मीर में सरकारी सेवाओं में कश्मीरी पंडितों को आरक्षण दिया गया था, इसलिए आर्टिकल 370 को रद्द करना और जम्मू-कश्मीर का राज्य का दर्जा कम करना अत्यंत दुखद निर्णय है। हमें निश्चित रूप से इस मुद्दे पर फिर से विचार करना होगा। इसे फिर से लाएंगे।

कृषि मंत्री कमल पटेल ने कहा- क्या कांग्रेस पाकिस्तान के साथ है

मध्य प्रदेश के कृषि मंत्री ने सोशल मीडिया पर ट्वीट किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाई गई थी, तब पाकिस्तान ने कहा था कि भारत को इस पर पुनर्विचार करना चाहिए। अब कांग्रेस से सीनियर नेता दिग्विजय कह रहे हैं कि कांग्रेस सरकार बनने पर कश्मीर में आर्टिकल 370 पर पुनर्विचार किया जाएगा, क्या कांग्रेस पाकिस्तान के साथ है? उन्होंने कहा जो दुश्मन देश की भाषा बोलता है वह देश का दुश्मन माना जाता है।

आर्टिकल 370 पर दिए गए दिग्विजय सिंह के बयान पर आम लोगों ने भी सोशल मीडिया पर अपनी राय दी है। एक यूजर ने लिखा कि भाजपा की यही राजनीति रही है कि मीठा-मीठा गप्प और कड़वा थू-थू, लेकिन यह भी सच है कि दिग्विजय सिंह का बयान समझ से परे है। अधिकांश लोग इस राजनीतिक बयान बाजी के पक्ष में नहीं दिखे।

खबरें और भी हैं...