• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Digvijay Singh Will Give Competition To Jyotiraditya Scindia In Gwalior, Madhya Pradesh Political News And Updates, Madhya Pradesh Hindi News, Kamal Nath, Shivraj Singh Chauhan, Govind Singh

दिग्विजय-सिंधिया में ग्वालियर-चंबल को लेकर इतनी 'खुजली' क्यों:MP में राजनीति की नई बिसात, जानिए किसको क्या कमान

भोपालएक महीने पहलेलेखक: राजेश शर्मा

भोपाल में पड़ोसी बनने के बाद केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की दोस्ती-राजनीतिक दुश्मनी की चर्चाएं हो रही हैं, लेकिन इसके ठीक पहले ग्वालियर में कांग्रेस की बड़ी मीटिंग हुई। इसमें सिंधिया के गढ़ में कांग्रेस की कमान दिग्विजय सिंह को दी गई। यानी आने वाले चुनावों में सिंधिया से मुकाबले के लिए दिग्गी ही सबसे बड़ा चेहरा होंगे, जबकि कांग्रेस को चुनौती देने के लिए सिंधिया ने भोपाल को पावर सेंटर बना लिया है।

कांग्रेस में रहते हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया और पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह अलग-अलग धुरी के नेता माने जाते थे। हाल ही में दिग्विजय ग्वालियर चंबल में सक्रिय हुए हैं। इसके बाद जब सिंधिया भोपाल आए तो उन्होंने दिग्विजय सिंह का नाम लिए बिना अपने विरोधी पर हमला बोला था। कहा कि मैं कांग्रेस में था, तब भी लोगों को खुजली आती थी, बीजेपी में हूं, तब भी खुजली आती है।

सिंधिया भोपाल के श्यामला हिल्स स्थित सरकारी बंगले में सपरिवार गृह प्रवेश भी कर चुके हैं। सिंधिया ने संकेत दे दिए हैं कि अब उनकी सियासत ग्वालियर से नहीं, बल्कि भोपाल से चलेगी। राजनीति के जानकारों का मानना है कि सिंधिया राजघराने का प्रभाव राज्य के कई इलाकों में है। इसके चलते सिंधिया भोपाल से उन इलाकों में अपनी उपस्थिति दर्ज कराना आसान मानते हैं।

वर्ष 2018 में हुए विधानसभा के चुनाव में कांग्रेस ने डेढ़ दशक बाद सत्ता में वापसी की थी, मगर महज डेढ़ साल में ही कांग्रेस के हाथ से सत्ता फिसल गई। इसकी बड़ी वजह ज्योतिरादित्य सिंधिया रहे हैं, क्योंकि उन्होंने कांग्रेस छोड़कर बीजेपी का दामन थाम लिया।

सिंधिया को उनके ही गढ़ में कमजोर करना चाहते हैं कमलनाथ

15 साल बाद मिली प्रदेश की सत्ता सिंधिया की वजह से जाने का दर्द पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ को अब भी है। यही कारण है कि वे बैठकों में दोहराते हैं कि वर्ष 2023 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को जीत दिलाने तक मध्यप्रदेश में उनका डेरा रहने वाला है। कांग्रेस के लिए बड़ी चुनौती ग्वालियर-चंबल इलाका है। कांग्रेस खासकर कमलनाथ, सिंधिया को उनके ही क्षेत्र में कमजोर करना चाहते हैं। यही कारण है कि सिंधिया घराने के धुर विरोधी पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को उस इलाके की कमान सौंपी गई है।

दतिया में बड़े आंदोलन की तैयारी

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने ग्वालियर-चंबल इलाके में कांग्रेस के बड़े नेताओं के साथ बैठक की। आगामी रणनीति पर चर्चा भी की। इसमें संकेत दिए हैं कि सिंधिया को घेरने में पार्टी कसर नहीं छोड़ेगी। इसी क्रम में कांग्रेस आंदोलन की शुरुआत भी दतिया से करने जा रही है। इसमें ग्वालियर, चंबल के अलावा सागर संभाग के कार्यकर्ता भी जुटने वाले हैं। कांग्रेस जहां सिंधिया को घेरने के लिए रणनीति बनाने में व्यस्त है, तो सिंधिया भी अब प्रदेश में अपनी सक्रियता बढ़ाने की तैयारी में जुटे हैं।

सिंधिया का तख्त हिलाने गोविंद सिंह को नेता प्रतिपक्ष का ताज

कांग्रेस ने ग्वालियर-चंबल में ‘महाराज’ ज्योतिरादित्य सिंधिया का तख्त हिलाने के लिए डॉक्टर गोविंद सिंह को नेता प्रतिपक्ष बनाया है। इसके बाद से ग्वालियर-चंबल समेत प्रदेश की राजनीति में अचानक से हलचल तेज हो गई है। पूर्व सीएम कमलनाथ ने नेता प्रतिपक्ष का पद छोड़ दिया। लहार से विधायक डाॅ. सिंह को नेता प्रतिपक्ष बना दिया।

दिग्विजय के कट्‌टर समर्थक डाॅ. सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया एक-दूसरे के विरोधी रहे हैं। दोनों के बीच खींचतान रहती थी। डाॅ. सिंह ने जबलपुर हाईकोर्ट में सिंधिया पर राज्यसभा का नामांकन भरते समय तथ्य छुपाने का आरोप लगाते हुए याचिका भी दायर की थी। हाईकोर्ट ने सुनवाई करते हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया को नोटिस भी दिया था।

दिग्गी ने फेरा था ज्योतिरादित्य की उम्मीदों पर पानी

2018 में कांग्रेस की जीत के बाद जब सीएम पद के लिए खींचतान शुरू हुई, तो सिंधिया ने यह कहकर दावा ठोंका कि ग्वालियर-चंबल क्षेत्र की 34 में से 26 सीटों पर कांग्रेस को जीत मिली है। ये सभी उनके समर्थक हैं, लेकिन दिग्गी ने अपने बेटे और पहली बार विधायक चुने गए जयवर्धन सिंह की तस्वीर को ट्वीट किया था। इसमें जयवर्धन के साथ कांग्रेस के 31 नवनिर्वाचित विधायक थे। दिग्विजय ने तस्वीर के जरिए आलाकमान को यह संदेश दे दिया कि वे या उनका बेटा मुख्यमंत्री पद के दावेदार नहीं हैं, लेकिन उनके पास 31 विधायकों का समर्थन है। सिंधिया के साथ 26 ही विधायक हैं।

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने 10 मार्च 2020 को कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था। - फाइल
ज्योतिरादित्य सिंधिया ने 10 मार्च 2020 को कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था। - फाइल

29 साल पहले सीएम पद से ही हुई दुश्मनी की शुरुआत

सिंधिया और दिग्विजय के बीच कटुता का एक बड़ा कारण ही मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री का पद रहा है। 1993 में जब दिग्विजय सिंह पहली बार मुख्यमंत्री बने थे, तब माधवराव सिंधिया भी इसके दावेदारों में शामिल थे। श्यामाचरण शुक्ल और सुभाष यादव के साथ माधवराव इसके लिए अपनी इच्छा भी जता चुके थे, लेकिन दिग्विजय ने सबको चारों खाने चित कर दिया था।

माधवराव खुद मुख्यमंत्री नहीं बन पाने से जितने दुखी थे, उससे कहीं ज्यादा दुख उन्हें दिग्विजय को यह कुर्सी मिलने से हुआ था। इसका कारण यह था कि रियासत काल में राघौगढ़, ग्वालियर रियासत के अधीन था। महाराज सिंधिया यह पचा नहीं पा रहे थे कि उनकी रियासत का कोई राजा पूरे प्रदेश पर राज करे।

तब दिग्विजय ने सिंधिया को बताया था ‘तराशा हुआ हीरा’ और खुद को ‘जौहरी’

ग्वालियर के ‘महाराज’ ज्योतिरादित्य सिंधिया और राघौगढ़ के ‘राजा’ दिग्विजय सिंह के बीच छत्तीस का आंकड़ा छिपा नहीं हैं। दोनों परिवारों के बीच अदावत ज्योतिरादित्य के पिता माधवराव सिंधिया के जमाने से ही चली आ रही है। ज्योतिरादित्य के कांग्रेस छोड़ने के पीछे भी कहीं न कहीं दिग्विजय सिंह को जिम्मेदार बताया जाता है। दशकों से चली आ रही सियासी दुश्मनी के बीच विरले ही ऐसे मौके सामने आए जब दोनों ने एक-दूसरे की तारीफ की हो।

साल 2008 में ऐसा ही एक मौका आया था। तब ज्योतिरादित्य गुना से लोकसभा के सांसद थे और दिग्विजय उनके संसदीय क्षेत्र में पहुंचे थे। यहा दिग्विजय ने कहा था कि ज्योतिरादित्य तो पॉलिश्ड डायमंड (तराशा हुआ हीरा’) हैं। दिग्गी ने खुद को नगीनों की पहचान करने वाला जौहरी भी बताया था। ये वो दौर था, जब दिग्गी और सिंधिया के बीच रिश्ते मधुर थे। 2001 में पिता माधवराव सिंधिया की अचानक हुई मृत्यु के बाद ज्योतिरादित्य ने राजनीति में कदम रखा ही था। तब दिग्विजय ने महाराज का खुला समर्थन कर उनके लिए राजनीतिक चुनौतियां कम कर दी थीं।

खबरें और भी हैं...