• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Dispute Among BJP Workers And Security Personnel With MLA Krishna Gaur, Said Security Officer Kicked Off PM's Photo

भोपाल में केंद्रीय मंत्री के दौरे के बीच हंगामा:MLA कृष्णा गौर के समर्थकों का एम्स में हंगामा; आरोप- सिक्योरिटी ऑफिसर ने हेल्प डेस्क पर लगी PM मोदी की फोटो काे लात मारकर हटाया

भोपालएक वर्ष पहले
विधायक कृष्णा गौर और भाजपा जिलाध्यक्ष सुमित पचौरी ने एम्स प्रबंधन से नाराजगी जताई।
  • हेल्थ मिनिस्टर डॉ. हर्षवर्धन के स्वागत में पहुंचे थे भाजपा कार्यकर्ता
  • बगैर परमिशन के हेल्प डेस्क लगाए जाने पर सिक्योरिटी अफसर ने ली थी आपत्ति

AIIMS में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन के दौरे के बीच जमकर हंगामा हुआ। भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा लगाए गए हेल्प डेस्क को AIIMS के सुरक्षाकर्मियों ने हटा दिया। इसको लेकर भाजपा कार्यकर्ताओं और सुरक्षाकर्मियों के बीच विवाद शुरू हो गया है। भाजपा कार्यकर्ताओं का आरोप है कि हेल्प डेस्क पर लगी PM नरेंद्र मोदी की फोटो को सुरक्षा अधिकारी ने हटवाने के लिए लात मारी। विरोध जताने पर उनसे अभद्रता की गई।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन AIIMS में फंगस लैब और सभागार के लोकार्पण करने के लिए शनिवार को पहुंचे थे। उनके स्वागत के लिए विधायक कृष्णा गौर और भाजपा जिलाध्यक्ष सुमित पचौरी के साथ भाजपा कार्यकर्ता भी आए हुए थे। भाजपा कार्यकर्ताओं ने AIIMS के अंदर फूलों से सजाकर हेल्प डेस्क बनाई थी। इसी दौरान AIIMS के सुरक्षाकर्मी पहुंचे और उसे हटाने लगे। सुरक्षाकर्मियों ने इसके लिए परमिशन लाने के लिए कहा। इस पर भाजपा कार्यकर्ता हंगामा करने लगे। उनका आरोप था कि सुरक्षा अधिकारी ने PM नरेंद्र मोदी की फोटो लात मारकर हटाई है। AIIMS प्रशासन मौके पर पहुंचा, लेकिन कार्यकर्ता कार्रवाई पर अड़ गए। इस दौरान जमकर बहस हुई। मौके पर पुलिस पहुंची और मामला शांत कराया। इस दौरान विधायक कृष्णा गौर और भाजपा जिलाध्यक्ष सुमित पचौरी ने एम्स प्रबंधन से नाराजगी जताई।

इस संबंध में AIIMS के सुरक्षा अधिकारी डॉ. सुनील चौहान ने कहा कि हमने किसी के पोस्टर पर लात नहीं मारी और न ही हटाया। हमने निर्देशों का पालन किया है।

ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (एम्स) में थ्रीडी प्रिंटिंग तकनीक से दांतों के मरीजों का इलाज किया जाएगा। प्रदेश में एम्स पहला संस्थान होगा जहां इस तकनीक का उपयोग होगा। वहीं कैंसर मरीजों का इलाज ब्रेकी थैरेपी से किया जाएगा। इन सुविधाओं का शुभारंभ केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन किया।

डॉ. हर्षवर्धन ने फंगस लैब का लोकार्पण किया
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने AIIMS में ICMAR की बनाई गई फंगस लैब, दातों के इलाज के लिए थ्रीडी प्रिंटिंग तकनीक, कैंसर मरीजों के इलाज के लिए ब्रेकी थैरेपी और सभागार का लोकार्पण शनिवार शाम किया। इस मौके पर उन्होंने परिसर के प्रशासनिक भवन के विस्तार का भूमिपूजन भी किया। इसके बाद उन्होंने AIIMS में किए गए कार्यों का निरीक्षण किया। उनके साथ प्रदेश स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी, चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, विदिश सांसद रमाकांत भार्गव मौजूद रहे। इसके पहले वह राष्ट्रीय पर्यावरण स्वास्थ्य अनुसंधान संस्थान के नए परिसर का भौरी में उद्घाटन करने गए थे। डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि भारत सरकार ने आईसीएमआर को संस्थान को तैयार करने के लिए 125 करोड़ रुपए खर्च किए है। ऐसे में इस संस्थान को अपने लिए बड़े लक्ष्य तय करने चाहिए और पर्यावरणीय स्वस्थ्य को सुधारने में अपनी अहम भूमिका निभाना चाहिए।

कहा-देश के 97 फीसदी हिस्से में कोरोना जांच की व्यवस्था
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन कहा कि आज देश के 97 प्रतिशत हिस्से में कोरोना जांच की व्यवस्था हो चुकी है। देश के अन्य हिस्सों में हाल में स्थापित हुए कुछ AIIMS दिल्ली AIIMS में मिल रहीं सुविधाओं से भी ज़्यादा सुविधाएं दे रहे हैं। देश में 22 AIIMS विभिन्न स्टेज पर हैं।

लोग ही कोरोना को लेकर बेपरवाह

केन्द्रीय मंत्री हर्षवर्धन ने भोपाल और इंदौर में बढ़ रहे केस पर कहा कि मैं यह बात पूरे देश में ही लागू होती है। जहां धीरे धीरे केस बढ़ रहे है। इसमें लोगों की ही लापरवाही है। लोगों को मास्क लगाए, सोशल डिस्टेसिंग का पालन करें। ज्यादा से ज्यादा लोग वैक्सीन लगाए। वैक्सीनेशन को जनअभियान बनाना है। इसके लिए समाज में जागरूकता लाना है। इसी से कोरोना को रोक सकते है। वहीं, एम्स के जनऔषधी केन्द्र पर दवा नहीं मिलने को लेकर उन्होंने कहा कि कोई नई व्यवस्था की बड़े स्तर पर शुरुआत होती है तो कुछ कमी सामने आती है। इनको सुधार करेंगे।

हेल्थ वर्कर्स और वैज्ञानिकों की सराहना

केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि हम पिछले एक साल से कोरोना महामारी से लड़ रहे हैं। मेडिकल प्रोफेशन से जुड़े प्रोफेशनल के लिए बहुत कठिन समय था। इस बीच हमने कई अपना को खोया। हमारे मेडिकल स्टाफ ने पूरी लग्न और मेहनत से काम किया। मुझे हमेशा यह महसूस होता है कि जब भी हम एक साथ काम करते है तो हम सबकुछ कर सकते है। यह भारत कुछ ठान ले तो वह करके दिखाता है। आज कोविड से हमारे यहां मृत्युदर दूसरे देशों की तुलना में कम है। अब हम एक दिन में 1 मिलियन लोगों को कोविड टेसट करने की क्षमता रखते है। उन्होंने वैक्सीन बनाने को लेकर वैज्ञानिकों की भी प्रशंसा की।

खबरें और भी हैं...