• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Dr. Anand Rai, Whistle Blower Of Vyapam Scam Said – Form And Answer Were Leaked From Laxman Singh's Mobile

कांग्रेस नेता केके मिश्रा और डॉ. आनंद राय पर FIR:लक्ष्मण सिंह नाम के शख्स के मोबाइल से MP-TET का पर्चा लीक का लगाया था आरोप; दोनों बोले- हम डरने वाले नहीं

भोपाल5 महीने पहले

MP-TET के पेपर का स्क्रीन शॉट वायरल होने के मामले में प्रदेश में बवाल मच गया है। भोपाल के अजाक थाने में कांग्रेस के प्रदेश महामंत्री और मीडिया प्रभारी केके मिश्रा और व्यापमं के व्हिसिल ब्लोअर डॉ आनंद राय के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। मुख्यमंत्री सचिवालय में उपसचिव लक्ष्मण सिंह मरकाम ने केस दर्ज कराया है। दोनों के खिलाफ अनुसूचित जनजाति निवारण अधिनियम की धाराओं में केस दर्ज किया गया है।

सहायक पुलिस आयुक्त नितिन बघेल ने इसकी पुष्टि की है। लक्ष्मण सिंह का आरोप है कि दोनों ने सोशल मीडिया के जरिए उनकी छवि धूमिल की है। केस दर्ज होने के बाद केके मिश्रा और डॉ. आनंद राय ने भी पलटवार किया है। मिश्रा ने FIR दर्ज होने पर सरकार काे धन्यवाद देकर फिर सवाल खड़े किए है। उन्होंने लिखा है-

धन्यवाद सरकार, अन्य मामलों में मुझे डरा/खरीद नहीं पाए तो अब एट्रोसिटी एक्ट का दुरुपयोग,FIR ! मुझे खुशी होती इसके पहले शिक्षक भर्ती वर्ग-3 परीक्षा धांधली को लेकर दोषियों के खिलाफ FIR होती? "सच व भ्रष्टाचार के खिलाफ बोलने से न तब डरा था न अब डरूंगा" @ChouhanShivraj @OfficeOfKNath

वहीं, डॉ. आनंद राय ने भी ट्वीट कर लिखा- मैं झूठी FIR से डरने वाला नही हूं। उन्होंने वीडियो जारी कर बताया कि लक्ष्मण सिंह नाम के शख्स के मोबाइल से पर्चे के स्क्रीनशॉट और आंसर की लीक हुआ है। इसकी जांच होनी चाहिए कि ये लक्ष्मण सिंह कौन है।

कांग्रेस नेताओं ने जांच की मांग की
शनिवार को प्राथमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा-2020 MP-TET में धांधली की जानकारी सोशल मीडिया पर वायरल हुई। इसे लेकर कांग्रेस नेताओं ने भुनाने की कोशिश की। पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह और पूर्व मंत्री अरुण यादव ने मामले में जांच कराने की मांग की। वहीं, प्रदेश कांग्रेस महामंत्री व मीडिया प्रभारी केके मिश्रा ने बयान जारी किया था कि व्यापमं के तीसरी बार बदले गए नाम ‘कर्मचारी चयन बार्ड’ द्वारा मप्र प्राथमिक पात्रता शिक्षक वर्ग-3 की ली जा रही परीक्षा में प्रश्नपत्र लीक कर अयोग्य परीक्षार्थियों की पूर्व नियोजित भर्ती की जा रही है।

मिश्रा ने CM के ओएसडी पर लगाए आरोप

मिश्रा ने कहा कि जब परीक्षा ऑनलाइन हो रही है, इसमें मोबाइल फोन वर्जित है, तो मुख्यमंत्री के मौजूदा ओएसडी लक्ष्मण सिंह मरकाम, जो नौसेना आयुध संगठन में कार्यरत थे, जिन्हें रक्षा मंत्रालय से प्रतिनियुक्ति पर लाकर उपसचिव, मप्र शासन के रूप में पदस्थ किया गया। वे आदिवासी मामलों को देख रहे हैं। मोबाइल पर 25 मार्च को संपन्न 35 पृष्ठीय प्रश्नपत्र और आंसरशीट कैसे पहुंची? उनका मोबाइल त्वरित जब्त कर निष्पक्ष जांच कराई जाए। मिश्रा ने कहा कि पूर्व में भी सुर्खियों में आए घटित व्यापमं घोटाले में भी मुख्यमंत्री के शासकीय आवास में ही रह रहे तत्कालीन ओएसडी प्रेमप्रकाश का भी नाम बतौर आरोपी सामने आया था। उन्हें जिला न्यायालय, भोपाल से अग्रिम जमानत भी करवानी पड़ी थी।

MP में फिर व्यापमं जैसा फर्जीवाड़ा!:MP-TET देने वाले ग्वालियर के कैंडिडेट का दावा; कहा- ट्रेन में मिले एजेंट के मोबाइल में जो देखा, वही पेपर आया

खबरें और भी हैं...