• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Exclusive Interview With Uma Bharti… I Am Not Against Shivraj Government But Will Keep Liquor Ban In MP

पूर्व CM उमा भारती का इंटरव्यू…:मध्यप्रदेश में शराबबंदी करवाकर ही रहूंगी, मैं शिवराज सरकार की विरोधी नहीं, शराब की विरोधी हूं

मध्यप्रदेश13 दिन पहलेलेखक: संदीप राजवाड़े

1- मप्र सरकार को आपने शराबबंदी करने के लिए जो समय-सीमा दी थी, वह अब खत्म होने को है, लेकिन शिवराज सरकार शराबबंदी के मूड में नहीं दिख रही। ऐसे में क्या आप सरकार के खिलाफ 15 जनवरी से आंदोलन करेंगी?

उमा भारती- अभी तो मैं लौटूंगी, लेकिन मेरे लिए एक दिक्कत खड़ी हो गई है। यह है कि पश्चिम बंगाल की सरकार घोषणा की है कि वे मुझे 14 तारीख को गंगासागर नहीं पहुंचने देंगी। इसके बारे में वे फैसला करेंगी। वे कब तक फैसला करेंगी, मुझे पहुंचने देंगी कि नहीं। अब जब तक वे सूचना नहीं देंगी, उसके बाद ही मैं इस बारे में जवाब दूंगी।

और मेरी एक बात मानकर चलिए कि मध्यप्रदेश में मैं शराबबंदी करवाकर ही रहूंगी। जो मैं कहकर आई हूं… मैं शब्द अब नहीं बदलने वाली, वही शब्द हैं बिल्कुल, आप कह रहे हो वह सही कह रहे हो। आप उसे (स्टेटमेंट के फुटेज) निकाल लो, मेरे शब्द ज्यों के त्यों हैं। उसमें कोई बदलाव नहीं है। खाली तारीख में मेरा हाथ नहीं है, ये जो ओमिक्रॉन ये तो मुझे पता नहीं होता है। दो साल से मेरी तारीख बदल रही है, पिछले साल मुझे महिला दिवस से यह शुरू करना था, आप याद करिए क्या हुआ। मार्च कोरोना कहर बरपा रहा था। उसी प्रकार से गंगा सागर पर भी मुझे अब तक पहुंचना था। अब कुछ नहीं मान सकते हैं, जब तक मैं गंगासागर पहुंच न जाऊं और जब तक यह ओमिक्रॉन की लहर ना खत्म हो जाए। मैं एक ही शब्द बोल रही हूं, मैं मध्यप्रदेश में शराबबंदी करवाकर ही रहूंगी।

2- जब आप मुख्यमंत्री थीं तो उस दौरान शराबबंदी की पहल क्यों नहीं की? शराब से उस दौरान भी वही समस्या थी, अब क्यों?

उमा भारती- ये सारी बातें मैं 15 जनवरी के बाद करूंगी। ऐसा वैसा कोई मामला नहीं था, मैं 15 के बाद ही बोलूंगी।

3- ग्राम पंचायत चुनाव में ओबीसी आरक्षण को लेकर मप्र शासन का स्टैंड क्या सही है, इसे लेकर आप सरकार को क्या सलाह देना चाहेंगी? कहीं शासन की तरफ से ही इसे लेकर जल्दबाजी या गलती तो नहीं की गई?

उमा भारती- मैं उनको क्यों सलाह देना चाहूंगी। मेरी उनसे रोज बात हो सकती है। जो भी बात होनी होती है, आपस में मिलकर कर लेंगे। वे मेरा सम्मान करते हैं , मैं शिवराज जी का बहुत सम्मान करती हूं। शराबबंदी की बात कहना सरकार के खिलाफ नहीं है, शराब के खिलाफ है। मैं शराब के खिलाफ हूं, सरकार के खिलाफ नहीं।

4- पिछले साल हुए प्रदेश के उपचुनाव में आपकी सक्रियता चर्चा में रही। क्या यह आपके सक्रिय राजनीति में दोबारा आने का संकेत है? यूपी या एमपी में से किस राज्य में आपकी राजनीतिक प्राथमिकता रहेगी?

उमा भारती- मैं हमेशा ही सक्रिय रहती हूं। कही निष्क्रिय नहीं रहती हूं। और राजनीति में भी सक्रिय हू्ं।

5- आगामी मप्र विधानसभा या लोकसभा चुनाव में किसमें आप किस्मत आजमाएंगी। इसके अलावा इस बार भी अगर भोपाल या खजुराहो सीट नहीं मिली तो चुनाव लड़ेंगी? या झांसी की तरफ रुख करेंगी?

उमा भारती- मेरी कोई प्राथमिकता नहीं है, मेरी प्राथमिकता में गरीब लोग रहते हैं, जनता रहती हैं। अरे, भैया, ऐसी बात कर रहे हो। आने तो दो मेरे को, बताएंगे सब। पहले मुझे पहुंचने तो दो। देखो दो साल से क्या हो रहा है। पहले कोरोना हुआ फिर दोबारा कोरोना हुआ अब तीसरी लहर आ गई। कुछ समझ में ही नहीं आ रहा है, अब कुछ पूछना या कहलाने कुछ मतलब ही नहीं निकल रहा है।

6- ज्योतिरादित्य सिंधिया के पार्टी में आने से प्रदेश भाजपा मजबूत हुई है या कमजोर?

उमा भारती- देखिए, मध्यप्रदेश में जनसंघ ही राजमाता सिंधिया जी के बदौलत ही खड़ी हुई है। वही काम ज्योतिरादित्य ने किया। उन्होंने जनसंघ को मजबूत किया तो इन्होंने भाजपा को।

7- ज्योतिरादित्य से जुड़े लोगों को संगठन व शासन में प्राथमिकता मिलने से उस क्षेत्र के पुराने भाजपा नेता-कार्यकर्ता उपेक्षित हो गए हैं?

उमा भारती- अब उनके और हमारे लोग नहीं रहे, सब भाजपा के लोग हैं। मैंने जो कहा कि अब सब हमारे हैं, सब भाजपा है। और मैं फिर से कह रही हूं, मेरे सामने संकट खड़ा हो गया है, मेरे साथ दो साल से हो रहा है, जो तिथि मैं घोषित करती हूं, उसी तिथि के पहले में या तो ओमिक्रॉन होता है या कोरोना होता है। देखिए पहले कोरोना हो गया, उस साल भी गंगा सागर नहीं पहुंच पाई। उसके भी पहले साल पहली लहर के कारण नहीं पहुंच पाई और दोनों पांव फ्रैक्चर थे। अभी देखिए, ओमिक्रॉन सबसे ज्यादा बंगाल में हुआ। इसके कारण कुछ भी चीज बोलना संभव ही नहीं है। मेरे इरादे तय हैं और शराबबंदी करवाकर रहूंगी। तारीख तय नहीं, वह परिस्थिति के हिसाब से होगी