• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Former CM Said Good Relations Till March 2022, Why Brother Did Not Speak?... Digvijay's Pinch Differences Surfaced

CM शिवराज के रुख पर उमा का दर्द:पूर्व CM बोलीं- मार्च 2022 तक अच्छे संबंध रहे, भाई ने अनबोला क्यों कर दिया?... दिग्विजय की चुटकी- सामने आए मतभेद

भोपाल6 महीने पहले

मध्यप्रदेश में शराबबंदी को लेकर पूर्व CM उमा भारती और CM शिवराज सिंह चौहान अब सार्वजनिक रूप से खुलकर सामने आ गए हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने साफ कह दिया है कि मध्यप्रदेश में शराबबंदी नहीं होगी। सरकार नशामुक्ति अभियान चलाएगी। इधर CM शिवराज सिंह के रूख पर पूर्व CM उमा भारती का दर्द छलक पड़ा। उन्होंने ट्वीट कर कहा- मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री मेरे बड़े भाई शिवराज सिंह चौहान से 1984 से मार्च 2022 तक सम्मान एवं स्नेह के संबंध बने रहे। शिवराज जी ऑफिस जाते समय, मेरे हिमालय प्रवास के समय, मेरे किसी भजन का स्मरण आने पर या तो मुझसे मिलते थे या फोन करते थे। मैंने शिवराज जी से 2 साल हर मुलाकात में शराबबंदी पर बात की, अब बात बाहर सामने आ गई है तो भाई ने अनबोला क्यों कर दिया है और मीडिया के माध्यम से बात क्यों करने लगे हैं।

उमा भारती और शिवराज की इस लड़ाई में कांग्रेस के सीनियर लीडर की भी एंट्री हो चुकी है। दिग्विजय ने ट्वीट कर कहा- उमाजी और मामूजी में शराबबंदी को लेकर बहुत बुनियादी मतभेद जनता के सामने आ गए हैं। भाजपा केंद्रीय और प्रांतीय नेतृत्व को अपनी निर्धारित नीति उजागर करना चाहिए।

उज्जैन में CM शिवराज सिंह ने ये कहा था

शिवराज सरकार पर उमा भारती शराबबंदी को लेकर पिछले कुछ समय से हमलावर नजर आ रही हैं। वह सोशल मीडिया पर सरकार को आड़े हाथ लेती रहती हैं। यहां तक कि उन्होंने प्रदेश में लागू की गई नई शराब नीति पर भी सवाल उठा दिए थे। ऐसे में 2 अप्रैल को उज्जैन गौरव दिवस के मंच से CM ने उमा का नाम लिए बिना कहा था- सिर्फ शराब बंद कराने से हो जाएगी तो मैं एक दिन भी नहीं लगाता।

CM शिवराज का शराब पर बड़ा बयान:उज्जैन में बोले- शराब बंद कराने से बंद हो जाती, तो हम एक दिन नहीं लगाते; तो फिर क्या करेंगे जानिए

CM के बयान से दुखी उमा ने किए 11 ट्वीट
उमा भारती ने उज्जैन में दिए गए CM के बयान पर एक के बाद एक 11 ट्वीट किए। उन्होंने लिखा- शिवराज सिंह जी ने परसो कहा है कि लोग शराब पीना बंद कर दें तो मैं शराब की दुकानें बंद कर दूंगा। जब लोग शराब पीएंगे ही नहीं, दुकानें चलेंगी ही नहीं तो वो तो खुद ही बंद हो जाएंगी।

शराबबंदी के लिए सुझाव भी दिए

  • उमा भारती ने शराबबंदी के लिए सुझाव भी दिए और कहा कि जहां महिलाएं या नागरिक विरोध करें, वहां दुकानें न खोली जाएं, इन्हीं ने तो हमारी सरकार बनाई है।
  • अहातों में शराब परोसने की व्यवस्था हम तुरंत बंद करें।
  • स्कूल, अस्पताल, मंदिर एवं अन्य निषिद्ध स्थानों के पास शराब की दुकानें भी बंद हों।
  • घर-घर शराब पहुंचाने की घिनौनी व्यवस्था तुरंत रुके।
  • जो वैध एवं उचित स्थान पर शराब की दुकानें हों, वहां फोटो के साथ होर्डिंग लगे कि शराब पीने से क्या-क्या नुकसान होते हैं।
  • फिर जागरूकता अभियान चले, जिसमें सभी धर्मों के साधु-संत, सामाजिक संस्थाएं तथा मेरे एवं शिवराज जी की तरह सभी दलों के नेता शामिल हों।

MP में नहीं होगी शराबबंदी:CM शिवराज बोले- पीने वाले तो जुगाड़ बना ही लेते हैं, सरकार चलाएगी नशामुक्ति अभियान

उनकी विचारधारा पार्टी से मेल नहीं खाती: पंचायत मंत्री

पंचायत मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया ने उमा भारती के बयान पर कहा कि पार्टी की विचारधारा उनकी विचारधारा से मेल नहीं खाती। उमा भारती द्वारा शराब दुकान में पत्थर मारने की घटना के संबंध में पूछे गए सवाल पर मंत्री ने कहा कि "वह पार्टी की सर्वोच्च नेता हैं। वह जो कुछ भी बोलती हैं सोच-समझकर बोलती हैं। यह(शराबबंदी) उनका व्यक्तिगत विचार हो सकता है, लेकिन मैं समझता हूं कि पार्टी का विचार उनके विचार से मेल नहीं खाता।"

खबरें और भी हैं...