• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Good Career In Government To Private Agency And Labority; Hari Singh Gaur Of MP Is Also One Of The Country's Top Institutes.

फॉरेंसिक साइंस से इंटेलिजेंस तक में जाने का मौका:सरकारी, प्राइवेट एजेंसी और लैबोरेटरी में अच्छे करियर ऑप्शंस; टॉप इंस्टीट्यूट में MP की हरिसिंह गौर विवि शामिल

मध्यप्रदेश5 महीने पहले

फॉरेंसिक साइंस चुनौतीपूर्ण सब्जेक्ट है। इसमें करियर को लेकर कई संभावनाएं हैं। इससे सरकारी एजेंसी आईबी-सीबीआई और कई प्राइवेट एजेंसी तक में टॉप जॉब के ऑफर हैं। देश के शीर्ष इंस्टीट्यूट की बात की करें, तो मध्यप्रदेश के सागर की डॉक्टर हरिसिंह गौर यूनिवर्सिटी शामिल है। जानते हैं कि एक्सपर्ट आकाश इंस्टीट्यूट भोपाल के असिस्टेंट डायरेक्टर रणधीर सिंह से...

फॉरेंसिक साइंस का मतलब

फॉरेंसिक साइंस सभी विज्ञान विषयों यानी रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, भौतिकी और गणित से मिलकर बना है। इसमें क्राइम सीन पर मिले सबूतों की जांच-पड़ताल करते हैं। फॉरेंसिक साइंटिस्ट कानूनी माध्यम से क्राइम को सुलझाने में मदद करते हैं। बढ़त अपराधों के कारण इस फील्ड में और ज्यादा विस्तार हो रहा है।

फॉरेंसिक साइंस में कोर्स

फॉरेंसिक साइंस का कोर्स करने के लिए देश भर में यूनिवर्सिटी और इंस्टीट्यूट हैं। इसमें 12वीं के बाद फॉरेंसिक साइंस में अंडर ग्रेजुएट (यूजी), ग्रेजुएट (पीजी) और पीएचडी लेवल पर अलग अलग कोर्स होते हैं। इसके साथ ही विदेश में ही कैंब्रिज जैसे संस्थान फॉरेंसिक सांइस के कई महत्वपूर्ण कोर्स कराते हैं।

  • डिप्लोमा फॉरेंसिक मेडिसिन में डिप्लोमा, फॉरेंसिक डिप्लोमा (ऑनलाइन) 3 से लेकर यह 1 साल तक के होते हैं।
  • BSc फॉरेंसिक साइंस में बैचलर ऑफ एक्सीडेंट फॉरेंसिक, बैचलर इन क्रिमिनल जस्टिस फॉरेंसिक साइंस, बैचलर ऑफ फॉरेंसिक साइंस, बैचलर ऑफ लॉ (ऑनर्स), बैचलर ऑफ क्रिमिनोलॉजी, बैचलर इन फॉरेंसिक इन्वेस्टिगेशन, बैचलर ऑफ अप्लाइड साइंस इन फॉरेंसिक स्टडीज तीन साल का होता है।
  • MSc फॉरेंसिक साइंस में मास्टर ऑफ फॉरेंसिक बिहेवियरल साइंस, MSc इन फॉरेंसिक साइकोलॉजी, मास्टर्स इन फॉरेंसिक एंथ्रोपोलॉजी, मास्टर ऑफ फिलॉसफी इन फॉरेंसिक साइंस 2 साल का होता है।

फोरेंसिक साइंस के विषय

संदिग्ध दस्तावेज, फोरेंसिक बॉलिस्टिक्स, अपराध और इन्वेस्टिगेशन तकनीक, DNA आइसोलेशन, DNA प्रोफाइलिंग, फॉरेंसिक फोटोग्राफी, फोरेंसिक बायोलॉजी, फॉरेंसिक मनोविज्ञान, साइबर फॉरेंसिक एंड लॉ, फॉरेंसिक विष विज्ञान, एनालिटिकल केमिस्ट्री और फॉरेंसिक फिजिक्स होते हैं।

यह बन सकते हैं

फॉरेंसिक साइंस कोर्स 12वीं के बाद करने के बाद कई क्षेत्रों में अच्छे अवसर मिलते हैं। इसके बाद आपके लिए पुलिस और इन्वेस्टिगेशन विभागों में काम के द्वार खुल जाते हैं। रिसर्च में अच्छा करियर बनाया जा सकता है। यहां फॉरेंसिक साइंस ग्रेजुएट्स के लिए कुछ टॉप करियर की सूची दी गई है:

  • फॉरेंसिक इंजीनियर
  • क्राइम रिपोर्टर
  • कानूनी सलाहकार
  • हैंडराइटिंग एक्सपर्ट
  • फॉरेंसिक साइंटिस्ट
  • रिसर्चर
  • कानूनी काउंसलर
  • फॉरेंसिक एक्सपर्ट
  • जांच अधिकारी
  • अपराध दृश्य इन्वेस्टिगेटर

ये भी पढ़िए:-

बायोकेमेस्ट्री से करियर को कीजिए ब्राइट, जानिए एक्सपर्ट से:मेडिसिन से लेकर एग्रिकल्चर, फारेंसिक साइंस और पर्यावरण तक में फील्ड खुल जाती है

IOQ में सक्सेस का मंत्र:इंडियन ओलंपियाड क्वालीफाइ करने के लिए अलग तरह से सोचना होगा; रटने की जगह पिछले पेपर हल करें

IOQ दिलाता है इंटरनेशनल पहचान:इंडियन ओलंपियाड क्वालीफाइ करने वालों को अच्छे कॉलेज-जॉब के अवसर ज्यादा; कॉम्पिटिटिव एग्जाम का एक्सपोजर भी

मैथ्स-साइंस लेकर बने वैज्ञानिक, पैसा भी मिलेगा:11वीं, 12वीं और B.SC फर्स्ट ईयर के स्टूडेंट्स को भी मौका; फॉर्म भरने के लिए 10वीं में 75% होना जरूरी

IIT की तैयारी खुले दिमाग से करें:रटने से काम नहीं चलेगा; मैथ्स, केमिस्ट्री, फिजिक्स को जीना होगा, कॉन्सेप्ट क्लियर होने पर सफलता

JEE मेन में शॉर्टकट नहीं चलता:मैथ्स की चार स्टेप में प्लानिंग करें; कठिन सवाल में न उलझें, NTA abbhyas QUSEYION से तैयारी करें

एक्सपर्ट से जानिए कैसे पाएं NEET में सक्सेस:बायो में फुल मार्क्स लाने का फॉर्मूला; एनसीईआरटी में बोल्ड और हाई लाइट वर्ड से ही बनते हैं अधिकांश प्रश्न

कॉम्पिटिटिव एग्जाम के लिए 4 बातें जरूरी:एग्जाम और सब्जेक्ट क्या है, किस तरह के सवाल आते हैं; पहले से टारगेट तय करना जरूरी

एग्जाम के पहले 3 बातों का ध्यान रखें:तनाव के साथ ही 10 से 12 मिनट खराब होने से बचते हैं; रिजल्ट भी 15% से 20% बेहतर होगा

NEET में फिजिक्स में अच्छे स्कोर का मंत्र:पेपर में 67% सरल सवालों पर फोकस कर 100 मार्क्स हासिल कर सकते हैं; इतना ही करना काफी