• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Home Minister Said Naxalites Rewarded With Rs 84 Lakh Were Eliminated; Out Of Turn Promotion Given To Police Personnel

मध्यप्रदेश पुलिस स्थापना दिवस:मुख्यमंत्री शिवराज बोले- हमारे सामने 4 चुनौतियां; बेटियों की सुरक्षा, ड्रग्स, साइबर और माफिया

भोपालएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस स्थापना कार्यक्रम के दौरान परेड का निरीक्षण करते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान - Dainik Bhaskar
पुलिस स्थापना कार्यक्रम के दौरान परेड का निरीक्षण करते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

मध्यप्रदेश के लिए चार चुनौतियां हैं। बेटियों की सुरक्षा, ड्रग्स के कारोबार का बढ़ना, साइबर क्राइम और माफिया का बढ़ना। हम इन पर अंकुश लगाने के लिए लगातार काम कर रहे हैं। पुलिस अपराधों पर अंकुश लगाने के साथ ही जागरुकता अभियान भी चला रही है। यह बात मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को मोतीलाल नेहरू पुलिस मैदान में आयोजित पुलिस स्थापना दिवस कार्यक्रम के दौरान कही।

उन्होंने कहा कि बेटियों और महिलाओं पर होने वाले अपराधों को कम किया जाएगा। किसी भी अपराधी को नहीं छोड़ा जाएगा। पुलिस को तनाव मुक्त रखने के लिए कार्य करना है। उसमें योग से लेकर अन्य तरह की योजनाओं पर कार्य करने की जरूरी है। पुलिस स्थापना दिवस कार्यक्रम को जनता से जुड़ना चाहिए। यह जनता का कार्यक्रम होना जरूरी है। इससे पहले मुख्यमंत्री व गृहमंत्री अरेरा हिल्स स्थित शहीद स्मारक पहुंचे। बलिदानी सैनिकों को श्रद्धासुमन अर्पित किए। इसके बाद कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे। मुख्यमंत्री ने परेड की सलामी ली।

पुलिसकर्मियों से किराए पर मकान लेगी सरकार

हमारे पुलिस जवानों को मकान दिलाने के लिए अभियान और कुछ नए तरीके खोज रहे हैं। इसमें जिन पुलिसकर्मियों के पास प्लाट है। वह बैंक से लोन लेकर मकान बनाए। उसे सरकार किराए से लेगी। यह मकान सरकार जिन पुलिसकर्मियों के पास खुद के मकान नहीं है, उन्हें देगी। रिटायर होने के बाद वह पुलिसकर्मी अपने घर में रहे।

बाढ़ का जिक्र किया

विनाशकारी बाढ़ थी। ग्वालियर-चंबल में। सरकार ने जवानों ने प्रशासन ने जान जोखिम में डालकर लोगों को मुसीबत से निकाला है। त्योहारों में कानून व्यवस्था बनाई है। हमारे जवान दीवाली के दिए घर पर नहीं जला पाते। क्योंकि हम सब अपने घर में खुशियों के साथ त्योहार मनाएं। बड़ी संख्या में बेटियों को वापस ले आए।

गृहमंत्री बोले आज शांति का राज

मध्य प्रदेश में आज शांति का राज है। बीते 15 महीने में 84 लाख रुपए के इनामी नक्सलियों को या तो खत्म कर दिया या फिर गिरफ्तार किया है। पुलिस जवानों को आउट ऑफ टर्न दिए गए। यह बात गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शुक्रवार को मोतीलाल नेहरू पुलिस स्टेडियम में आयोजित मध्यप्रदेश पुलिस के स्थापना दिवस पर कही।

गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि जब कांग्रेस की सरकार में तो नक्सलियों ने मंत्री को मार दिया था। उनकी सरकार में चारों दिशाओं में लगभग अशांति का माहौल था। मैं नेता प्रतिपक्ष की खासतौर पर चर्चा करूंगा, क्योंकि वे कल यानी गुरुवार को बालाघाट में थे। वह पुलिस की आलोचना कर रहे थे, लेकिन हम उन्हें बताना चाहते हैं कि 15 महीने में पुलिस का राज आया और शांति कायम हुई।

एक भी नक्सल घटना नहीं हुई है। सभी तरह के संगठित अपराधों का खात्मा हुआ है। सिर्फ कुछ छोटी-मोटी घटनाएं होती हैं, तो हमारे पुलिस जवान वहां भी पूरी मुस्तैदी से तैनात नजर आते हैं। पुलिस जवानों को आउट टर्न ऑफ प्रमोशन देकर सम्मानित किया है। नक्सल गतिविधियों को पूरी तरह से नियंत्रण में रखा है। ग्वालियर चंबल में पहले आतंक था, लेकिन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की इच्छा शक्ति के कारण आज वहां शांति है। सभी डाकूओं को खत्म किया।

अब सिमी के नेटवर्क खत्म हो गए हैं। अपराध करने वाला कोई भी बाहर नहीं है। सभी जेलों में है। कोई संगठित अपराध या गैंग नहीं है। 904 माफियों के खिलाफ कार्रवाई की है। मध्यप्रदेश में महिलाओं पर होने वाले अपराधों में 38 मामलों में त्वरित कार्रवाई कर सजा दिलाने का काम किया है। पुलिस विभाग द्वारा जन जागरण कार्यक्रम भी चला रहे हैं। पुलिस महिलाओं के प्रति सोच बदलने का काम कर रही है।

खबरें और भी हैं...