जबलपुर में बच्चे से आया की क्रूरता...मां की जुबानी:दो साल का बेटा जुल्म झेलता रहा, समझ नहीं पाई, CCTV देखकर होश उड़े

मध्यप्रदेश6 महीने पहलेलेखक: संतोष सिंह

अगर आप भी अपने बच्चे को आया या केयर टेकर के भरोसे छोड़ते हैं तो अलर्ट हो जाएं। जबलपुर के माढ़ोताल से दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। यहां एक आया (बच्चे को संभालने वाली) ने 2 साल के मासूम के साथ हैवानों जैसा सलूक किया। बच्चे ने 48 दिन तक आया के जुल्म, खौफ और दहशत में जिंदगी गुजारी। जब तबीयत बिगड़ी, तब माता-पिता की आंख खुली। बच्चा अभी भी दहशत में है। दैनिक भास्कर ने बच्चे की मां सोनाली विश्वकर्मा से बात की, तो कई चौंकाने वाले पहलू सामने आए…। सोनाली ने जालिम आया के जुल्मों की पूरी कहानी बताई।

'मैं जबलपुर कोर्ट में ग्रेड-3 की जॉब करती हूं। पति मुकेश विश्वकर्मा पाटन-2 में जूनियर इंजीनियर हैं। दो साल का बेटा मानविक है। हमने घर में CCTV लगवा रखे हैं। मैं और पति दोनों ऐप से इससे जुड़े हैं। 30 मई को ऐप कनेक्ट नहीं हो पा रहा था। पति से बोली, तो उन्होंने अपने मोबाइल से कैमरे की रिकॉर्डिंग कनेक्ट की। देखा तो बच्चे की देखभाल करने वाली आया रजनी उसका खाना खा रही थी। मुझसे बताया, तो बुरा लगा। इससे पहले मानविक 19 अप्रैल को बीमार पड़ा था, तब उसे हॉस्पिटल में भर्ती करना पड़ा था। वहां डॉक्टरों ने बताया था कि पेट में सूजन और इंफेक्शन है। ये भी बताया कि उनका बच्चा भूखा रहता है, इस कारण कमजोर पड़ गया है। इसके बाद रजनी की ये हरकत देख हमने उसे काम से निकाल दिया। उसने विवाद करते हुए झूठे केस में फंसाने की धमकी भी दी। इसके बाद CCTV को चेक किया, तो हमारे होश उड़ गए।

हम पति-पत्नी सुबह करीब 10 बजे निकल जाते हैं। आठ से नौ घंटे बेटा रजनी के साथ ही रहता था। इस दौरान उसके साथ की गई रजनी की पूरी करतूत वीडियो में रिकॉर्ड है। इसे पुलिस काे भी सौंपा है। वह अक्सर बेटे के बाल पकड़ कर घसीटती थी। पेट में मुक्का मारती थी। कंघी से मारती थी। पीठ पर मुक्का और गाल पर थप्पड़ से मारती थी। बेटे का गला पकड़ कर डराती थी। सबसे अधिक क्रूरता बेटे के बाथरूम या शौच करने पर दिखाती थी। उसे बाल पकड़ कर बाथरूम ले जाती थी। बेटे का दूध, फल खुद खा जाती थी। उसे पूरे दिन भूखा रखती थी। जूठन भी खिलाती थी। 12 अप्रैल से रजनी की ये क्रूरता शुरू हुई, जो 30 मई को पूरे मामले के खुलासे तक चलती रही। बेटा बताने की कोशिश करता था, लेकिन हम ही नहीं समझ पा रहे थे।

शुरू में रजनी बच्चे का अच्छे से ख्याल रखती थी। बेटा भी कुछ जानने-समझने लगा था। हम उसे समझा कर जाते थे कि आंटी को परेशान मत करना, अच्छे से खा कर सो जाना। शाम को मैं-पापा आएंगे। बेटा उसकी गोद में चला जाता था, लेकिन पिछले एक-डेढ़ महीने से उसका व्यवहार बदल गया। उसके कुछ मांगने पर देने में देरी हो जाती, तो अपने बाल पकड़ कर खींचने लगता था। कई बार खुद को थप्पड़ मारने लगता था। उसे छोड़कर हम ड्यूटी पर निकलने को होते, तो कसकर गला भींच लेता था और रोने लगता था। बेटे की हंसी और भूख गायब हो गई थी। रजनी की गोद में नहीं जाता था, उसे दूर से ही देखकर डर जाता था, पर हमें समझ नहीं आ रहा था। वर्तमान में दूसरी बुजुर्ग मां को आया के तौर पर रखा है। मैं भी छुट्‌टी लेकर बेटे के साथ कुछ समय गुजारना चाहती हूं, जिससे बेटे का डर दूर हो सके।'

मासूम पर जुल्म ढाने वाली आया रजनी।
मासूम पर जुल्म ढाने वाली आया रजनी।

ननद मानसिक बीमार, ससुर लकवाग्रस्त
सोनाली ने बताया कि परिवार में सास-ससुर व एक ननद हैं। ससुर लकवाग्रस्त हैं। ननद मानसिक बीमार। सास उनकी देखभाल में ही व्यस्त रहती हैं। ऐसे में बच्चे की देखभाल नहीं हो पाती थी। घर स्टार सिटी फेस-4 करमेता माढ़ोताल में है। सास-ससुर व ननद गृहगांव पिपरिया नोन गोटेगांव से आते-जाते रहते हैं। एक महीने से वे वहीं हैं। ऐसे में बेटे मानविक की देखभाल के लिए एक साल पहले चमन नगर की रहने वाली रजनी चौधरी (32) काे आया के तौर पर रख लिया था। उसे 5000 रुपए वेतन देती थी। चमन नगर रजनी चौधरी का मायका है। बहुत पहले उसकी शादी हो गई थी। उसके तीन बच्चों में 16 साल की बेटी और 14 व 12 साल के दाे बेटे भी हैं।

सास-ससुर व ननद के गांव जाने के बाद बढ़ गई क्रूरता, बच्चा दहशत में
सोनाली के मुताबिक सास-ससुर और ननद पैतृक खेती के चलते अप्रैल में गांव चले गए हैं। इसके बाद से रजनी की क्रूरता बढ़ गई। सास-ससुर के रहने पर भी वह बेटे को मारती थी, पर उसके रोने पर झूठ बोल देती थी। दहशत के मारे बेटा भी कुछ नहीं बता पाता था। अभी वह इतना डरा हुआ है कि कोई तेज आवाज भी आ जाए, ताे फौरन कंबल ओढ़ लेता है। चेहरा समेत पूरे शरीर को कंबल से छुपा लेता है, उसे लगता है कि ऐसा करने पर वह बच जाएगा।

आया रजनी ने ये बताई वजह
सीएसपी गढ़ा तुषार सिंह के मुताबिक रजनी के खिलाफ हत्या के प्रयास समेत विभिन्न धाराओं में केस दर्ज किया गया है। रजनी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। रजनी ने बताया कि पति-पत्नी थोड़े-थोड़े समय पर उसे फोन लगाकर बेटे के बारे में पूछते रहते थे। इससे उसे चिढ़ आती थी। इसीलिए गुस्से में वह ऐसा करती थी।

आया की क्रूरता तस्वीरों में-

पीठ पर मुक्के से मारती आया रजनी।
पीठ पर मुक्के से मारती आया रजनी।
गला दबाकर डराती हुई रजनी।
गला दबाकर डराती हुई रजनी।

जबलपुर में 2 साल के बच्चे से हैवानियत:आया ने भूख से बिलखते मासूम को घूंसे मारे, गर्दन पकड़कर पटका; देखें पूरा VIDEO

खबरें और भी हैं...