• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • In Vidisha, Negligence In Carrying The Bodies Of The Infected, The Dead Body Fell On The Road In The Middle Of The Running Dead Vehicle, Stirred Up

शवों के साथ बेकद्री:संक्रमितों के शव ले जाने में भी लापरवाही, दौड़ते शव वाहन से बीच सड़क पर गिरी डेड बॉडी

विदिशा9 महीने पहले

मध्यप्रदेश के विदिशा मेडिकल कॉलेज में कोविड शव के साथ बड़ी लापरवाही सामने आई। सड़क पर दौड़ते शव वाहन से डेड बॉडी नीचे गिर गई। लोगों ने देखा तो तेज आवाज देकर शव वाहन को रुकवाया। इसके बाद डेड बॉडी फिर उसमें रखी गई और फिर उसे अंतिम संस्कार के लिए ले जाया गया। इस घटना का वीडियो भी सामने आया है।

जानकारी के मुताबिक, वाहन में एक बार में सिर्फ दो शव रखे जा सकते हैं, लेकिन इसमें तीन डेड बॉडी रखी गई थी। ये स्ट्रेचर पर थे। गाड़ी चली तो रफ्तार की वजह स्ट्रेचर गेट से टकराए और गेट खुल गया। डोर और शव सड़क पर जा गिरे। यह वाहन मध्यप्रदेश रक्त सहायता समिति का था, जो विदिशा मेडिकल कॉलेज से अटैच है और काफी पुराना हो चुका है। कुछ लोगों ने डेड बॉडी नीचे गिरते देखी तो ड्राइवर को आवाजें लगाकर रोका। तब कहीं शव को फिर वाहन में रखा जा सका।

इसी अस्पताल में जिंदा को दो बार मृत बताया गया था

विदिशा के अटल बिहारी वाजपेयी मेडिकल कॉलेज में पहले भी लापरवाही सामने आ चुकी है। 13 अप्रैल को संदिग्ध कोरोना मरीज को दो बार मृत बता दिया गया था। परिजनों को मृत्यु प्रमाण पत्र भी दे दिया गया। परिवार के कुछ सदस्य श्मशान पहुंच गए। अंतिम संस्कार की तैयारी करने लगे। शव आने का इंतजार कर रहे थे, तभी मेडिकल कॉलेज से फोन आया कि अभी पेशेंट जिंदा है। बाद में डीन ने कहा कि सांस रुक जाने की वजह से यह दिक्कत आई थी।

खबरें और भी हैं...