• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Income Tax Raid: Dainik Bhaskar Employees Mobile Seized By IT Department Team In Bhopal Today

MP में दैनिक भास्कर पर IT का छापा:भोपाल दफ्तर में रिपोर्टिंग-डेस्क टीम को काम करने से रोका, मोबाइल जब्त किए; नाइट टीम को दोपहर 1 बजे तक रोके रखा

मध्य प्रदेश3 महीने पहले
भोपाल में दफ्तर में किसी को आने-जाने की इजाजत नहीं थी। नाइट टीम को दोपहर 1 बजे जाने की इजाजत मिली।

कोरोना की दूसरी लहर में सरकारी खामियां उजागर करने वाले देश के प्रतिष्ठित मीडिया ग्रुप दैनिक भास्कर के मध्यप्रदेश में इंदौर और भोपाल ऑफिस में आयकर ने छापा डाला। अफसरों की टीम महाराष्ट्र पासिंग बस से देर रात भोपाल के प्रेस कॉम्पलेक्स और इंदौर में एलआईजी चौराहा के पास दफ्तर पहुंची। भोपाल में नाइट शिफ्ट की रिपोर्टिंग टीम और डेस्क स्टाफ को तड़के चार से पांच बजे काम करने से रोक दिया गया। लैपटॉप बंद करा दिए जिस कारण टीम अपना काम नहीं कर पाई। मोबाइल जब्त कर लिए और सुबह शिफ्ट खत्म होने पर भी बाहर जाने से रोका गया। गुरुवार दोपहर 1 बजे इन्हें बाहर जाने दिया गया। इस कार्यवाही को लेकर पूरे प्रदेश में ‘आई स्टैंड विथ दैनिक भास्कर ट्रेंड’ कर रहा है और केंद्र सरकार की इस कार्रवाई की आलोचना हो रही है। इधर, संसद के दोनों सदनों में इसे लेकर जमकर हंगामा हुआ। इसके बाद संसद स्थगित करना पड़ी। इस पूरे मामले में भास्कर का स्टैंड बरकरार है कि भास्कर में पाठकों की ही मर्जी चलेगी। जो सच होगा, वह लिखा जाएगा।
क्या आप भास्कर की निर्भीक पत्रकारिता के साथ हैं? जवाब देने के लिए क्लिक कीजिए...

भोपाल : साढ़े चार बजे डिजिटल टीम के लैपटॉप बंद कराए

दैनिक भास्कर की डिजिटल टीम में अफसरों ने सुबह चार से पांच बजे के बीच लैपटॉप बंद करा दिए गए। इस कारण टीम अपना काम नहीं कर पाई। काम कर रहे स्टाफ के मोबाइल भी ले लिए। सभी को कतार में खड़े होकर कहा गया कि अभी आप कोई काम नहीं करेंगे। सुबह की शिफ्ट में आए स्टाफ को भी काम नहीं करने दिया गया। भारी जद्दोजहद के बाद सुबह नौ बजे के आसपास डेस्कटॉप, लैपटॉप से काम करने की अनुमति दी गई।

भोपाल ऑफिस के बाहर का दृश्य।
भोपाल ऑफिस के बाहर का दृश्य।

इंदौर : अखबार के दफ्तर के स्टाफ को आने-जाने से रोका

इंदौर में अखबार के दफ्तर के अलावा डीबी सिटी कार्यालय, शालीमार टाउनशिप के गेस्ट हाउस, प्राइम सिटी के दफ्तर में भी टीमें पहुंची। स्थानीय पुलिस भी साथ थी। कार्रवाई को गलत बताते हुए इंदौर प्रेस क्लब और शहर की कई मीडिया संस्थानों ने चौथे स्तंभ पर इसे सीधा प्रहार बताया। सुबह कार्रवाई के बाद से ही कर्मचारियों को ऑफिस के अंदर आने-जाने नहीं दिया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...