पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Madhya Pradesh Nemavar Jain Temple Interesting Facts; Construction Techniques Of Mandir Architecture

ड्रोन से देखिए नर्मदा किनारे बना भव्य मंदिर:MP के नेमावर में 17 एकड़ में बन रहा जिनालय, इसमें लोहे-सीमेंट की जगह बेल, गुड़ और चूने का इस्तेमाल हुआ

नेमावर से पुनीत जैन2 महीने पहले

मध्य प्रदेश में देवास जिले के नेमावर में नर्मदा किनारे जैन मंदिर बनकर पूरा होने के करीब है। 1997 में आचार्य विद्यासागर जी महाराज की मौजूदगी में इसकी बुनियाद रखी गई थी। यहां त्रिकाल चौबीसी, पंचबालयती और सहस्रकूट के कुल 26 मंदिर बनाए गए हैं।

यह पूरा परिसर 21 एकड़ में फैला है। इसमें से 17 एकड़ में मंदिर बने हैं। इन्हें बनाने में राजस्थान के बंशीपुर पहाड़ के गुलाबी-लाल पत्थरों का इस्तेमाल किया गया है। हाल ही में पंचबालयती मंदिर में एक टन वजनी तांबे की प्रतिमाएं विराजित की गई हैं। अन्य 25 मंदिरों में भी काम पूरा होने के साथ सिलसिलेवार प्रतिमाएं स्थापित की जाएंगी।

मंदिर निर्माण की विशेषता
जिनालय (जैन मंदिर) की नींव 35 फीट गहरी है। नींव में सीमेंट और सरिए का इस्तेमाल नहीं किया गया है। नींव को मजबूत बनाने के लिए बिल्वा (बेल) का फल, गुड़ और चूने का इस्तेमाल हुआ है। पत्थरों के जोड़ चिपकाने का यह प्राचीन तरीका है। पुराने किले, मंदिर और इमारतों में यह तरकीब इस्तेमाल की जाती थी। साथ ही लोहा अशुद्ध माना जाता है इसलिए इसका उपयोग नहीं किया है। मुख्य शिखर साढ़े छह फीट के पत्थर से बनाया जा रहा है। कहीं पर भी नर्मदा के किनारे ऐसा भव्य जैन मंदिर नहीं है।

26 मंदिर किसके हैं

  • त्रिकाल चौबीसी के जिनालय में दो लाइन में 12-12 मंदिर, यानी कुल 24 मंदिर बनाए गए हैं। इनमें जैन धर्म के 24 तीर्थंकरों की भूत, भविष्य और वर्तमान के तीनों स्वरूप की कुल 72 प्रतिमाएं स्थापित की जाएंगी। ये प्रतिमाएं भी तांबे से ही बनाई गई हैं। हर प्रतिमा का वजन 650 किलो है।
  • पंचबालयती के एक मंदिर में 5 तीर्थंकरों की शुद्ध तांबे से बनी पद्मासन प्रतिमाएं हैं। हर प्रतिमा का वजन एक टन, यानी 1000 किलो है। इस मंदिर के सबसे ऊंचे शिखर की ऊंचाई 151 फीट है। मंदिर में लगाए गए पत्थरों पर अब सोने की परत चढ़ाने की तैयारी है।
  • 26वां मंदिर 131 फीट ऊंचा सहस्रकूट जिनालय है। यह पीले पत्थरों से बना है। इसमें अष्टधातु की 1008 प्रतिमाएं विराजित की जाएंगी। पीले पत्थरों से ही संत निवास भी बना है।

नर्मदा कुछ ही दूरी पर बहती है
मध्य प्रदेश में इंदौर-बैतूल हाईवे पर नेमावर में मुख्य मार्ग से कुछ ही दूरी पर यह बना है। मंदिर से नर्मदा पर बना नेमावर-हंडिया पुल पास में ही है। हाईवे के करीब ही ट्रस्ट की ओर से सुंदर प्रवेश द्वार बनाया गया है। इस द्वार से 200 मीटर के बाद मंदिर परिसर शुरू होता है।