• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Kamal Nath Said Nehru Laid The Foundation Stone Of Today's India, BJP Said The Work Of Ruining Academic Glory Was Done In His Government

सीएम शिवराज जिस स्कूल में पढ़े वो कांग्रेस ने बनाया:कमलनाथ बोले- नेहरू ने रखा आज के भारत का नींव का पत्थर रखा, बीजेपी बोली- उनकी सरकार में शैक्षणिक वैभव बर्बाद करने का कार्य हुआ

भोपालएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की पुण्यतिथि पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ और पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह सहित अन्य कांग्रेस नेताओं ने आज भोपाल के रोशनपुरा चौराहा स्थित नहेरूजी की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। इस दौरान मीडिया से चर्चा करते हुए कमलनाथ ने कहा कि नेहरुजी जब प्रधानमंत्री बने उनको एक ऐसा देश मिला जहां ऐसी कोई समस्या नहीं थी जो थी नहीं । कृषि क्षेत्र, गरीबी, संस्थाओं, उद्योग की। उन्होंने आज के भारत का नींव का पत्थर रखा। इस दौरान कमलनाथ ने चुटकी लेते हुए बोले कि जो लोग कहते हैं कि 70 साल में क्या हुआ, मैं तो उनसे कहता हूं कि जिस स्कूल में आप गए वो स्कूल कांग्रेस का बनाया गया था। मैं तो शिवराज जी को कहता हूं कि जिस स्कूल-कॉलेज में आप पढ़े वो कांग्रेस का बनाया गया था।

कमलनाथ के इस बयान पर बीजेपी ने कमलनाथ पर पलटवार किया है। बीजेपी प्रदेश मंत्री जनीश अग्रवाल ने सोशल मीडिया पर बयान जारी कर लिखा- नेहरूजी के सरकार में आने के बाद भारत का शैक्षणिक वैभव लौटाने की अपेक्षा बर्बाद करने का कार्य हुआ। यह विवशता थी कि जो विद्यालय मौजूद थे उसमें देश के अन्य नागरिकों की तरह भाजपा के नेता भी पढ़े। आप जैसा धन वैभव भी नहीं था कि बड़े-बड़े निजी संस्थानों से शिक्षा पा लेते।

भाजपा प्रदेश मंत्री अग्रवाल ने आगे लिखा- कमलनाथजी नेहरूजी के पैदा होने की बात तो छोड़िए कांग्रेस भी जब अंग्रेजों की कोख से पैदा भी नहीं हुई थी तब इस देश के नागरिक ना केवल पढ़े लिखे थे बल्कि दुनिया को शून्य, दशमलव और गिनती देने जैसे महान कार्य भी किए। ज्ञान-विज्ञान,गणित,खगोल शास्त्र जैसे विषयों में पारंगत थे। अंग्रेज सभ्यता भी नहीं सीखे थे तब इस देश में नालंदा और तक्षशिला जैसे विश्वविद्यालय संचालित होते थे। 10 हजार से ज्यादा विद्यार्थी एक साथ रहकर 50 से ज्यादा विषयों में 30 से ज्यादा पढ़ाने की पद्धति से शिक्षा ग्रहण किया करते थे। दुनिया का पहला कैलेंडर सूर्य सिद्धांत नामक पुस्तक में प्रकाशित कर दिया था समय और काल की गणना दुनिया में सर्वप्रथम करने वाला भारत है।