पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Shivraj Singh Chouhan | Madhya Praddesh CM Shivraj Singh Chouhan In Action Mode, Ask Plan From PWD And School Education Minister

एक्शन मोड में शिवराज:विभागों की समीक्षा करेंगे मुख्यमंत्री, आज पीडब्ल्यूडी और स्कूल शिक्षा मंत्री बताएंगे 1, 2 और 3 माह का प्लान

6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज  पीडब्ल्यूडी और स्कूल शिक्षा विभाग  की समीक्षा करेंगे। - Dainik Bhaskar
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज पीडब्ल्यूडी और स्कूल शिक्षा विभाग की समीक्षा करेंगे।
  • मंत्री अपने-अपने विभाग के बजट का उपयोग सीएम को बताएंगे, आगामी रोडमैप पर भी होगी चर्चा

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विभागों की समीक्षा शुरू कर दी है। शुक्रवार को पीडब्ल्यूडी मंत्री गोपाल भार्गव और स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार अपने-अपने विभाग का 1, 2 और 3 माह का प्लान मुख्यमंत्री को बताएंगे। दोनों विभागों की बैठक मंत्रालय में होगी। पहली बैठक शाम 5 बजे पीडब्ल्यूडी विभाग की होगी। इसके बाद स्कूल शिक्षा विभाग का प्रजेंटेशन होगा। समीक्षा के दौरान दोनों मंत्री यह भी बताएंगे कि अब तक बजट का कहां और कितना उपयोग किया गया। मुख्यमंत्री इस दौरान आत्म निर्भर मध्य प्रदेश को लेकर चर्चा भी करेंगे।

पिछले सप्ताह कैबिनेट की बैठक के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिए हैं कि मंत्री आराम से न बैठें। अब एक मिनट का समय भी व्यर्थ नहीं गंवाना है। सरकार बहुमत में आने के बाद जिम्मेदारी भी बढ़ी है। अब हर माह विभागों की रेटिंग की जाएगी। मंत्रियों को हर माह रिपोर्ट कार्ड पेश करना होगा। मुख्यमंत्री ने मंत्रियों को सलाह दी थी कि वे अपने विभाग में अपनी पकड़ मजबूत बनाएं। वे हर सोमवार को विभाग की समीक्षा भी करें। केंद्र की योजनाओं को लागू करने में तेजी से काम करना है। इसके लिए सीएम डैशबोर्ड बनाया गया है, जिसमें केंद्रीय योजनाओं की प्रगति अपडेट की जाए।

धर्म स्वातंत्र्य कानून के ड्राफ्ट का प्रजेंटेशन होगा

देर शाम गृह विभाग के अफसर धर्म स्वातंत्र्य कानून के ड्राफ्ट का प्रजेंटेशन भी मुख्यमंत्री के सामने करेंगे। इस कानून में पहले दोषियों को 5 साल की सजा प्रस्तावित की गई थी, लेकिन अब इसे बढ़ा कर 10 साल की सजा का प्रस्ताव है। मुख्ममंत्री की सैद्धांतिक सहमति के बाद इस बिल को कैबिनेट की मंजूरी के लिए भेजा जाएगा। सरकार इस बिल को विधानसभा के शीतकालीन सत्र के दौरान 30 नवंबर को सदन में पेश करेगी।