• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Madhya Pradesh 63 Thousand Got Booster Dose In MP. Bhopal, Jabalpur, Indore, Gwalior

MP में 63 हजार को लगा बूस्टर डोज:इनमें आधे फ्रंट लाइन वर्कर शामिल; 5 हजार डोज के साथ भोपाल टॉप पर, इंदौर दूसरे नंबर पर

भोपाल4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मध्यप्रदेश में हेल्थ वर्कर, फ्रंट लाइन वर्कर और 60+ के दूसरी बीमारी से पीड़ित लोगों को बूस्टर (प्रिकॉशन) डोज लगना शुरू हो गया है। सोमवार शाम 5.30 बजे तक प्रदेश में 63 हजार 200 लोगों को बूस्टर डोज लगाया गया। सबसे ज्यादा 5715 डोज के साथ भोपाल टॉप पर है। दूसरे नंबर पर 5 हजार 185 डोज के साथ इंदौर और 4 हजार 695 डोज के साथ जबलपुर तीसरे नंबर पर है। वहीं, सबसे कम अनूपपुर में 182 लोगों को टीका लगाया गया।

प्रदेश में बूस्टर डोज लगाने में फ्रंट लाइन वर्कर्स सबसे आगे हैं। कुल डोज में 31 हजार 832 डोज फ्रंट लाइन वर्कर्स ने लगवाए हैं। इसके बाद 18 हजार 481 फ्रंट लाइन वर्कर्स और 60+ दूसरी बीमारी से पीड़ित 12 हजार 887 बुजुर्गों ने वैक्सीन लगवाई है।

प्रदेश में 28 दिसंबर की स्थिति के अनुसार 10 जनवरी को बूस्टर डोज लगाने के लिए करीब 6 लाख लोग पात्र हैं। इसमें हेल्थ लाइन वर्कर्स 2 लाख 97 हजार 628, फ्रंट लाइन वर्कर्स 2 लाख 29 हजार 607 और 60+ के दूसरी बीमारी से पीड़ित बुजुर्ग 82 हजार 241 नागरिक हैं।

राज्य टीकाकरण अधिकारी डॉ. संतोष शुक्ला ने लगाया बूस्टर डोज।
राज्य टीकाकरण अधिकारी डॉ. संतोष शुक्ला ने लगाया बूस्टर डोज।

बूस्टर डोज के लिए गाइडलाइन

  • दूसरा डोज लगने के 9 महीने होने के बाद ही बूस्टर डोज के लिए पात्र होंगे।
  • 12 अप्रैल 2021 से पहले जिन नागरिकों के दोनों डोज पूरे हो चुके हैं, उन्हें डोज लगेगा।
  • इसके लिए को-विन सिस्टम एसएमएस के जरिए सूचित करेगा। यदि मैसेज नहीं आया, तो आप दूसरे डोज का सर्टिफिकेट दिखा कर भी बूस्टर डोज लगा सकते हैं।
  • SMS आने पर पात्र नागरिक cowin.gov.in पर विजिट कर स्लॉट बुक कर सकते हैं।

ये भी जानिए...

  • पहले और दूसरे डोज की तरह इस बार कोविन ऐप पर नया रजिस्ट्रेशन नहीं करना होगा। अपॉइंटमेंट जरूर लेना होगा।
  • जिन सीनियर सिटीजन को बूस्टर डोज लगवाना है, वो सीधे टीकाकरण केंद्र पर जाकर ऐसा कर सकते हैं। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने साफ कर दिया है कि नए रजिस्ट्रेशन की जरूरत नहीं होगी।
  • 60 साल और उससे अधिक आयु के नागरिकों को बूस्टर डोज के लिए डॉक्टर से सर्टिफिकेट प्रस्तुत करने की जरूरत नहीं है। हालांकि, ऐसे व्यक्तियों को तीसरी खुराक लेने से पहले डॉक्टर से सलाह लेने को कहा गया है।
  • कोविड-19 वैक्सीन की एहतियाती खुराक वही वैक्सीन होगी, जो पहले दो खुराक में दी गई थी। जिन लोगों ने पहले कोवैक्सिन लगी है, उन्हें कोवैक्सिन लगाई जाएगी, जिन्हें कोवीशील्ड की दो खुराक मिली है, उन्हें कोवीशील्ड ही लगाई जाएगी।
  • बूस्टर डोज के लिए गृह विभाग (पुलिस, जेल व डिजास्टर मैनेजमेंट), नगरीय प्रशासन विभाग, पंचायत विभाग, राजस्व विभाग के फ्रंट लाइन वर्कर्स और स्वास्थ्य/आईसीडीएस विभाग के हेल्थ केयर वर्कर्स पात्र नागरिक होंगे। इसमें हेल्थ केयर/ फ्रंट लाइन वर्कर्स के परिवार वाले शामिल नहीं होंगे।
  • वैक्सीनेशन की सुविधा चिन्हित केन्द्रों (कोवीशील्ड व कोवैक्सिन) पर उपलब्ध रहेगी।
  • हेल्थकेयर/फ्रंटलाइन वर्कर्स को फोटो आईडी और रजिस्टर मोबाइल अनिवार्य।

65% हेल्थ केयर वर्कर्स पात्र

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार 28 दिसंबर 2021 तक प्रदेश में 4 लाख 93 हजार 877 हेल्थ केयर वर्कर्स ने वैक्सीन लगवाई है। इसमें से बूस्टर डोज के लिए 10 जनवरी को 2 लाख 97 हजार 628 यानी 60% और 31 जनवरी तक 3 लाख 22 हजार 966 यानी 65% पात्र होंगे।

49% फ्रंट लाइन वर्कर्स लगवा सकेंगे डोज

वहीं, इस समय तक 5 लाख 41 हजार 931 फ्रंट लाइन वर्कर्स ने वैक्सीन लगवाई। इसमें से 10 जनवरी तक 2 लाख 29 हजार 607 यानी 42% और 31 जनवरी तक 2 लाख 65 हजार 335 यानी 49% बूस्टर डोज के लिए पात्र होंगे।

7% बुजुर्ग ही पात्र

इसके अलावा, 63 लाख 97 हजार 651 के करीब 60 साल से ऊपर के बीमार बुजुर्गों ने वैक्सीन लगवाई है। इसमें से 10 जनवरी को सिर्फ 1% यानी 82 हजार 241 बूस्टर डोज के लिए पात्र होंगे। वहीं, 31 जनवरी तक 7% यानी 4 लाख 38 हजार 38 ही पात्र रहेंगे।

खबरें और भी हैं...