पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Madhya Pradesh (MP) Coronavirus Cases Study Update; Indore Bhopal Lockdown News | 18 44 Age Group Found Infected More

MP में IIT कानपुर और IIT हैदराबाद की स्टडी:कोरोना संक्रमित 58% मरीज 18 से 44 साल के, 5 जून तक रोज 1500 पॉजिटिव केस आएंगे

भोपाल22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 12 जिलों में 5 से कम केस मिले, पॉजिटिविटी रेट घटकर 2% के करीब पहुंचा; रिकवरी रेट भी 95% हुआ

मध्यप्रदेश में कोरोना की रफ्तार काबू में आ गई है। हर रोज मिलने वाले संक्रमितों का आंकड़ा 2 हजार से नीचे आ गया है। प्रदेश में कोरोना की स्थिति पर 4 स्टडी सरकार को सौंपी गई हैं। एक स्टडी में पाया गया है कि कोरोना की दूसरी लहर के अंतिम पड़ाव यानी मई में मिले संक्रमितों में 58% मरीज 18 से 44 साल की उम्र के हैं। पहली लहर के आखिरी समय यानी जनवरी में यह आंकड़ा 49% था। इसी तरह 18 से कम उम्र के संक्रमित 6% से बढ़कर 7% हो गए हैं। हालांकि 60 साल से ज्यादा उम्र वालों के मामलों में कमी आई है।

MP के स्वास्थ्य विभाग की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, 24 घंटे में 1 हजार 640 केस मिले। 22 मई से 28 मई बीच 18,590 पॉजिटिव केस मिले। अप्रैल के पहले सप्ताह में यह आंकड़ा 18 हजार 168 था। पहली रिपोर्ट IIT कानपुर और IIT हैदराबाद की है। इसमें बताया गया कि मध्यप्रदेश में 15 जून तक हर दिन कोरोना के 1500 पाॅजिटिव केस आएंगे। वहीं, दूसरी रिपोर्ट सेंटर फॉर मैथमेटिकल मॉडलिंग फॉर इनफेक्शियस डिजीज ने बताया कि आगामी दिनों में नए केसों की संख्या 500 से 1400 तक रहेगी।

तीसरी रिपोर्ट इंस्टीट्यूट फॉर हेल्थ मैट्रिक्स एंड इवैल्यूएशन की है। इसके अध्ययन में बताया गया कि यदि शत-प्रतिशत व्यक्ति मास्क पहनते हैं तो आगामी एक सितंबर तक प्रकरणों की औसत संख्या 2400 प्रतिदिन रहेगी।

वहीं, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस बैंगलोर के तुलनात्मक अध्ययन में इस बात पर विशेष जाेर दिया गया है कि आने वाले समय में भी संक्रमण को रोकने के लिए मास्क लगाना और सोशल डिस्टेंसिंग अनिवार्य करना होगा। इस संस्थान ने वैक्सीनेशन तेजी से करने की सरकार को सलाह दी है। बता दें कि चारों संस्थानों ने अपनी रिपोर्ट मध्यप्रदेश सरकार को सौंपी है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के सामने शुक्रवार को स्वास्थ्य विभाग के अफसरों ने इसका प्रजेंटेशन भी किया।

कम प्रभावित क्षेत्रों में अधिक सतर्कता आवश्यक
अध्ययन में बताया गया है कि ऐसे क्षेत्र जहां संक्रमण का कम असर है, वहां पर अधिक सतर्कता की आवश्यकता है। भविष्य में अधिक संक्रमण की आशंका है। इसलिए सघन सर्वे किया जाना चाहिए। आने वाले समय में मध्यप्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में अधिक सतर्कता बरते जाने की जरूरत है।

डिंडौरी में एक भी केस नहीं मिला, 12 जिलों में 5 से कम
पिछले 24 घंटे में डिंडौरी में एक भी टेस्ट की रिपोर्ट पॉजिटिव नहीं आई है, जबकि 12 जिलों में 5 से कम केस आए हैं। आगर-मालवा, बुरहानपुर, कटनी और खंडवा में 1-1, टीकमगढ़ और सिंगरौली में 2-2, हरदा व आलीराजपुर में 3-3 व मंडला, झाबुआ, दतिया व अशोक नगर में 4-4 संक्रमित मिले हैं। सबसे ज्यादा इंदौर में 504, भोपाल में 324, जबलपुर में 94 व ग्वालियर में 64 नए संक्रमित मिले हैं।

मई में अब तक 2 हजार 147 मौतें
कोरोना से अब तक 7 हजार 959 मौतें हो चुकी हैं। इसमें 28 मई को हुई 68 मौतें भी शामिल हैं। इसमें सबसे ज्यादा ग्वालियर में 8 मौतें हैं। जबलपुर और सागर में 7-7 मौत दर्ज की गई। विदिशा में पिछले 24 घंटे में 10 संक्रमित मिले, लेकिन इस दौरान मरने वालों की संख्या 7 है। बैतूल में 6, इंदौर में 4 और भोपाल में 3 मौतें होना बताया गया है। सरकारी रिकॉर्ड के मुताबिक मई में 28 तारीख तक 2 हजार 147 लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी है।

एक्टिव केस घटकर 30 हजार 899 हुए
प्रदेश में एक्टिव केस की संख्या घटकर 30 हजार 899 हो गई है। 28 मई को 4 हजार 995 मरीज कोरोना को मात देकर रिकवर हुए हैं। जो नए संक्रमितों की संख्या से 3 हजार 355 ज्यादा है। प्रदेश का रिकवरी रेट 95% से ज्यादा हो गया है।

खबरें और भी हैं...