• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Madhya Pradesh COVID Third Wave; Daily Coronavirus Cases Forecast By Govt

MP में फिर बनेंगे कंटेनमेंट जोन:नए मेलों पर पूरी तरह रोक, जो चल रहे उन पर फैसला कलेक्टर लेंगे; शादी में अधिकतम 250 लोग बुला सकेंगे

मध्य प्रदेश7 महीने पहले

मध्य प्रदेश में 13 दिन में कोरोना को लेकर दूसरी गाइडलाइन जारी कर दी है। प्रदेश में मेले पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई है। शादी में दोनों पक्ष मिलाकर अधिकतम 250 लोग ही शामिल होंगे। राज्य सरकार ने प्रदेश के सभी कलेक्टरों को यह गाइडलाइन भेज दी है। वे जिले वाइज विस्तार से अलग गाइडलाइन जारी करेंगे। जो मेल चल रहे हैं, उन पर कलेक्टरों को ही निर्णय करना होगा।

ये है नई गाइडलाइन

  • सभी तरह के मेले नहीं लगेंगे, संक्रमण ज्यादा हो, वहां कंटेनमेंट जोन बनेंगे।
  • पब्लिक प्लेस पर मास्क लगाना होगा, शादियों में दोनों पक्षों के 250 लोग शामिल होंगे।
  • उठावना-अंतिम संस्कार में 50 लोग शामिल हो सकेंगे।

इन सवालों के अभी जवाब नहीं

अभी भोपाल, इंदौर समेत प्रदेश के कई जिलों में जो मेले चल रहे हैं उनका क्या होगा?

सरकार की गाइडलाइन में मेलों के आयोजन पर रोक है। कलेक्टर अपने स्तर पर इसे रोकने के आदेश जारी करेंगे।

शादी में 250 लोगों में कौन-कौन शामिल हैं?

अभी सरकार ने वर और वधू पक्ष दोनों को मिलाकर कुल 250 लोगों को ही अनुमति दी है। इवेंट से जुड़े कैटरर्स, बैंड-बाजा से जुड़े लोगों इनमें शामिल हैं या नहीं, इस पर कोई आदेश नहीं है। जिले स्तर पर जारी होने वाली गाइडलाइन में विस्तृत आदेश में यह संभवत: स्पष्ट होगा।

शादी में मेहमान की संख्या तय से ज्यादा होने पर क्या कार्रवाई होगी?

सरकार ने फाइन लगाने का आदेश दिया है। कितना फाइन लगेगा यह तय नहीं है।

तीसरी लहर का पीक 25 से 30 जनवरी के बीच

कोरोना की तीसरी लहर आ चुकी है। बुधवार को 594 केस मिलने के बाद सरकार ने सख्ती करना शुरू कर दिया है। सरकार का अनुमान है कि प्रदेश में कोरोना की तीसरी लहर का पीक 25 से 30 जनवरी के बीच होगा। इस दौरान अधिकतम एक दिन में 19 से 20 हजार केस आने की संभावना है।

मुख्यमंत्री ने कोरोना को लेकर बुधवार को लेकर आपात बैठक बुलाई थी। समीक्षा के दौरान सीएम ने कहा कि घबराने की नहीं, सावधानी बरतने की आवश्यकता है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि यह संभव है प्रदेश में संक्रमितों की संख्या बढ़ेगी, इसके आवश्यकतानुसार अस्पतालों व कोविड केयर सेंटरों में बेड कैपेसिटी बढ़ाएं।

सार्वजनिक स्थानों पर मास्क अनिवार्य

उन्होंने कहा कि सार्वजनिक स्थानों पर अनिवार्य रूप से मास्क का उपयोग किया जाए। मास्क का उपयोग न करने पर जुर्माना लगाया जाए। अभी अनेक राज्यों में नाइट कर्फ्यू के अलावा अन्य प्रतिबंध नहीं है। मध्यप्रदेश में भी कोई नए सख्त प्रतिबंध नहीं होंगे, लेकिन स्थिति को देखते हुए निर्णय लिए जाएंगे। उन्होंने साफ किया कि प्रदेश में औद्योगिक गतिविधियां नहीं रोकी जाएंगी। सरकारी और निजी कार्यालय पूरी क्षमता के साथ ही खुलेंगे।

मुख्यमंत्री ने आवश्यक बेड, कोविड केयर सेंटर में संक्रमित रोगियों के आइसोलेशन की समुचित व्यवस्था और प्रभारी अधिकारियों को जिलों के संपर्क में रहने के निर्देश दिए। उन्‍होंने बड़े मेलों का आयोजन ना करने तथा नाइट कर्फ्यू को यथावत जारी रखने समेत कई महत्वपूर्ण निर्देश जारी किए। मध्‍य प्रदेश में कोरोना के बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए अब विवाह में अधिकतम 250 मेहमान ही शामिल हो सकेंगे। शवयात्रा, उठावना आदि में 50 लोगों को अनुमति मिलेगी। बड़े मेलों पर रोक रहेगी और स्कूल 50% क्षमता के साथ खुलेंगे। इस बैठक में स्वास्थ्य मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी, चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्‍वास सारंग एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे।

दूसरी लहर में शादियों में मेहमानों की अधिकतम संख्या 300 थी
पिछले साल अप्रैल में कोरोना कर्फ्यू के चलते शादियां नहीं हो सकी थीं। सरकार ने कई दिनों तक मैरिज गार्डन बंद रखे थे। काफी मांग के बाद जब मैरिज गार्डन, हॉल या धर्मशालाएं खुलीं तो मेहमानों की संख्या 50 थी। बाद में यह 100 कर दी गई। 6 अक्टूबर को गृह विभाग ने नई गाइडलाइन जारी करते हुए शादी में मेहमानों की संख्या बढ़ाकर 300 कर दी गई थी। 17 नवंबर को सरकार ने सभी प्रतिबंध हटा दिए थे। हालांकि, 24 दिसंबर को सरकार ने फिर से रात 11 से सुबह 5 बजे तक नाइट कर्फ्यू लागू कर दिया। अब 5 जनवरी को एक बार फिर शादियों में कोविड प्राेटोकॉल के नियम लागू कर दिए हैं।