पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Lokesh Kumar Jangid | Madhya Pradesh IAS Officer Lokesh Kumar Jangid Threatening On Phone

IAS लोकेश जांगिड़ को फोन पर धमकी:कहा- 6 महीने की छुट्‌टी पर चले जाओ नहीं तो अच्छा नहीं होगा; DGP से शिकायत करने के 12 घंटे बाद भी सुरक्षा नहीं मिली

भोपाल3 महीने पहले
  • आरोपी ने रात 11:49 बजे अज्ञात नंबर से कॉल किया था

ऑक्सीजन कंसंट्रेटर खरीदी में गड़बड़ी उजागर करने पर ट्रांसफर किए जाने से नाराज चल रहे मध्यप्रदेश कैडर के IAS अफसर लोकेश कुमार जांगिड़ को फोन पर धमकी मिली है। आरोपी ने गुरुवार रात 11:49 बजे फोन पर अज्ञात नंबर से कॉल कर जांगिड़ को छह महीने की छुट्‌टी पर जाने को कहा है। धमकी मिलने के बाद लोकेश जांगिड़ ने तत्काल DGP मध्यप्रदेश को वॉट्सऐप और अन्य माध्यम से शिकायत की, लेकिन 12 घंटे बाद भी उन्हें कोई रिस्पॉन्स नहीं मिला है।

फोन पर यह दी धमकी

तू जानता नहीं है कि तूने किससे पंगा लिया है। अगर तुझे जान प्यारी है, तो मीडिया से बात करना और लिखना बंद कर दे। तू अपने बच्चे की भी खूब फोटो डालता है। कल से छह महीने की छुट्‌टी पर चले जाओ।

-जैसा IAS लोकेश जांगिड़ ने शिकायत में कहा है

DGP से की शिकायत, कोई जवाब नहीं आया
जांगिड़ ने बताया कि घटना के बाद DGP को इस संबंध में एक शिकायत वॉट्सऐप और अन्य माध्यम से की है। मैंने उनसे निजी सुरक्षा की भी मांग की है। मामला गंभीर होने के कारण मैंने सीधे DGP को शिकायत की है। लोकल थाने से कोई संपर्क नहीं किया है। हालांकि अभी तक DGP या उनकी तरफ से किसी ने न तो कोई जवाब दिया और न ही संपर्क किया है।

यह शिकायत जांगिड़ ने डीजीपी को की है।
यह शिकायत जांगिड़ ने डीजीपी को की है।

यह है पूरा मामला

2014 बैच के मध्यप्रदेश कैडर के IAS अफसर लोकेश कुमार जांगिड़ की फील्ड पोस्टिंग के अभी साढ़े 4 साल हुए हैं, लेकिन उनके 8 बार ट्रांसफर हो चुके हैं। यानी औसतन हर 6 माह में उन्हें हटाया गया। 42 दिन पहले राज्य शिक्षा केंद्र के अपर संचालक से बड़वानी अपर कलेक्टर बनाया गया था, लेकिन पिछले सप्ताह उन्हें वापस राज्य शिक्षा केंद्र भेज दिया गया है।

इसी चैट को लेकर शुरू हुआ विवाद

यह कहानी भी बताई जा रही

सूत्रों का कहना है कि लोकेश के बड़वानी से हटाने की वजह प्रशासनिक बताई गई। लेकिन इसके पीछे एक और कहानी सामने आ रही है। उन्होंने कोरोना की दूसरी लहर में ऑक्सीजन कंसट्रेटर की खरीदी में हुए भ्रष्टाचार को उजागर कर दिया था। उन्हें जब बड़वानी में पदस्थ किया गया था, तब उन्हें जिले का कोविड प्रभारी बनाया गया था।

बड़वानी कलेक्टोरेट के अधिकारी बताते हैं कि अप्रैल और मई में वह शायद ही अपने दफ्तर में बैठे। वे हमेशा फील्ड में रहते थे। बड़वानी में कोरोना महामारी में उपकरणों की खरीदी में भारी हेरफेर हुआ था। 39 हजार के ऑक्सीजन कंसंट्रेटर 60 हजार रुपए में खरीदे गए। इसी कारण उन्हें रातोरात हटवा दिया गया।

IAS लोकेश बने MP के 'खेमका':साढ़े 4 साल में 8 ट्रांसफर; ऑक्सीजन कंसंट्रेटर खरीदी में भ्रष्टाचार उजागर करने के बाद बड़वानी से हटाया, केंद्र से 3 साल के लिए महाराष्ट्र में डेपुटेशन मांगा

आईएस लोकेश जांगिड़ ने दर्द किया था बयां

फ्रंट फुट पर MP के ‘खेमका’:बड़वानी से हटाए गए IAS लोकेश का वॉट्सऐप स्टेटस- ‘ईमानदारी तेरा किरदार है तो खुदकुशी कर ले, सियासी दौर को तो जी हुजूरी की जरूरत है'

दिग्विजय सिंह ने गृहमंत्री को लिखा पत्र- जांगिड़ को सुरक्षा मुहैया कराएं

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा को पत्र लिखा है। उन्होंने डीजीपी को भी पत्र लिखा है। उन्होंने कहा है कि जांगिड़ के साथ किए जा रहे पक्षपातपूर्ण व्यवहार से प्रदेश के वंचित वर्ग में आक्रोश है। उन्होंने पत्र में लिखा है कि जांगिड़ की जान को खतरा है। इसलिए उन्हें सुरक्षा मुहैया कराई जाए।

बीजेपी अध्यक्ष ने कहा- जांगिड़ को सुरक्षा की चिंता नहीं करनी चाहिए

आइएएस अधिकारी लोकेश जांगिड़ द्वारा पुलिस सुरक्षा मांगे जाने के सवाल पर शर्मा ने कहा कि प्रदेश में सुरक्षा व्यवस्था काफी पुख्ता है। जांगिड़ को सुरक्षा की चिंता नहीं करनी चाहिए।

खबरें और भी हैं...